तमिलनाडु में हिरासत में मौत के मामले में पुलिस अफसर गिरफ्तार, हत्या की धारा के साथ FIR दर्ज

जयराज और बेनिक्स की तमिलनाडु में हिरासत में मौत हो गई थी (फाइल फोटो)
जयराज और बेनिक्स की तमिलनाडु में हिरासत में मौत हो गई थी (फाइल फोटो)

एसआई रघुगणेश, जो इस मामले में मुख्य आरोपी हैं, उन्हें तमिलनाडु में सीबी-सीआईडी ने गिरफ्तार किया. बता दें कि सीबी-सीआईडी ने मामले की जांच अपने हाथ में ले ली है.

  • Share this:
चेन्नई. तमिलनाडु (Tamil Nadu) में हिरासत में बाप-बेटे की हत्या के मामले में बुधवार को एक पुलिस अधिकारी (Police Officer) को गिरफ्तार (Arrest) कर लिया गया है. उसके खिलाफ हत्या की धारा में FIR भी दर्ज की गई है. एसआई (SI) रघुगणेश, जो इस मामले में मुख्य आरोपी हैं, उन्हें तमिलनाडु सीबी-सीआईडी (Tamil Nadu CB-CID) ने गिरफ्तार किया. बता दें कि सीबी-सीआईडी ने मामले की जांच अपने हाथ में ले ली है.

सीबी-सीआईडी (CB-CID) ​​के पुलिस महानिरीक्षक (Inspector General) और पुलिस अधीक्षक (Superintendent of Police) के तहत गठित 12 विशेष टीमें मामले के सभी एंगल की जांच कर रही हैं. शेष अभियुक्तों के लिए खोज और गिरफ्तारी दल प्रयास में जुटे हैं. बाप-बेटे दोनों की हत्या के संबंध में कम से कम छह अन्य पर मामला दर्ज किया गया है.

दो FIR की धाराओं में किया गया बदलाव, जोड़ी गई हत्या की धारा
भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 302 (हत्या) को शामिल करने के लिए दर्ज की गई दो FIR की धाराओं में बदलाव किया गया है.
पी जयराज, 60, और जे बेनिक्स, 31, को 19 जून को तूतीकोरिन पुलिस ने कथित तौर पर अपने मोबाइल स्टोर को लॉकडाउन अनुमति के घंटों के बाद खुले रखने के लिए हिरासत में लिया था. मृतकों के रिश्तेदारों का दावा है कि जयराज, जो दुकान में था, पुलिस ने उसे उठाया था. इस दौरान उन्हें गालियां दी गई थीं और पीटा गया था. बाद में उनका बेटा बेनिक्स अपने पिता को छोड़ने की गुहार लगाने के लिए पुलिस स्टेशन गया था. जहां उसे भी हिरासत में ले लिया गया था.



मामले की जांच करने वाले न्यायिक मजिस्ट्रेट ने कहा- पिता-पुत्र की प्रताड़ना के सबूत
कथित तौर पर दोनों की पिटाई की गई थी और उनके खिलाफ IPC की धारा 188, 383 और 506 (II) के तहत मामला दर्ज किया गया था. बाद में उन्हें कोविलपट्टी उप-जेल में ले जाया गया था. 23 जून को कोविलपट्टी के एक अस्पताल में दोनों की मौत हो गई. जिसके बाद उनके परिजनों ने आरोप लगाया कि संथानकुलम पुलिस स्टेशन में उन्हें बुरी तरह से पीटा गया था.

यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र: 24 घंटे में 5537 नए केस, 198 मौतें; कुल मामले 1 लाख 8 हजार के पार

हिरासत में हुई हत्या की जांच कर रहे न्यायिक मजिस्ट्रेट (Judicial Magistrate) ने अपनी चार पन्नों की रिपोर्ट में कहा था कि पिता-पुत्र दोनों पर हुई प्रताड़ना के सबूत हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज