Assembly Banner 2021

Tamil Nadu Election 2021: सुषमा स्वराज और अरुण जेटली को लेकर स्टालिन के बेटे उदयनिधि के बोल पर बवाल

एमके स्टालिन के साथ उदयनिधि (PTI Photo)

एमके स्टालिन के साथ उदयनिधि (PTI Photo)

Tamil Nadu Election 2021: उदयनिधि के बयान पर भाजपा ने तो कार्रवाई की मांग की ही साथ ही दिवंगत भाजपा नेताओं के परिजनों ने भी इस टिप्पणी पर आपत्ति जाहिर की.

  • Share this:
चेन्नई. तमिलनाडु विधानसभा चुनाव (Tamil Nadu Election 2021) के लिए चुनाव प्रचार गुरुवार को ऐसे स्तर पर चला गया जिसकी किसी ने कल्पना नहीं की थी. एक रैली के दौरान द्रमुक नेता उदयनिधि स्टालिन ने कथित तौर पर कहा कि दिवंगत वरिष्ठ भाजपा नेता सुषमा स्वराज और अरुण जेटली का इसलिए निधन हो गया, क्योंकि वे 'पीएम मोदी द्वारा दिए जा रहे दबाव को सहन नहीं कर पा रहे थे.'

उदयनिधि के इस बयान पर भाजपा ने तो कार्रवाई की मांग की ही साथ ही उन दिवंगत भाजपा नेताओं के परिजनों ने भी इस टिप्पणी पर आपत्ति जाहिर की. भूतपूर्व विदेश मंत्री स्वराज और भूतपूर्व वित्त मंत्री जेटली की बेटियों ने उदयनिधि के खिलाफ मोर्चा बुलंद किया. भाजपा ने द्रमुक सुप्रीमो एमके स्टालिन के बेटे उदयनिधि द्वारा दिवंगत भाजपा नेताओं के खिलाफ ‘अमर्यादित’ टिप्पणी के लिये उनके विरुद्ध आयोग से कार्रवाई की मांग की.

स्वराज और जेटली की बेटियों ने क्या कहा?
स्वराज की बेटी और वकील बांसुरी स्वराज ने कहा  'उदयस्टालिन जी चुनावी प्रोपैगैंडा के लिए मेरी मां की यादों का इस्तेमाल ना करें. आपके बयान गलत हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हमेशा मेरी मां का सम्मान किया. हमारे सबसे बुरे समय में पीएम और पार्टी हमारे साथ चट्टान की तरह खड़ी रही. आपके बयान ने हमें चोट पहुंचाई है.'
वहीं भूतपूर्व वित्त मंत्री जेटली की बेटी वकील सोनाली जेटली ने भी इस पर आपत्ति जाहिर की. एक ट्वीट में सोनाली ने कहा 'उदय स्टालिन जी, मैं जानती हूं चुनावी दबाव है. लेकिन अगर आप झूठ बोलेंगे और मेरे पिता की यादों का अपमान करेंगे तो मैं चुप नहीं बैठूंगी. पिता अरुण जेटली और नरेंद्र मोदी (पीएम) के रिश्ते राजनीति से परे थे.'





ए राजा पर भी लगे थे आरोप
हाल ही में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी के खिलाफ अश्लील निजी टिप्पणी करने के आरोप में शहर पुलिस ने सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक की शिकायत पर द्रमुक सांसद ए राजा के खिलाफ मामला दर्ज किया था. राजा ने उनके व उनकी माता के खिलाफ कथित अपमानजनक टिप्पणी की थी. वहीं पूर्व केन्द्रीय दूरसंचार मंत्री ने अपने ‘अंतरिम स्पष्टीकरण’ में कहा कि उन्होंने कुछ भी ‘अभद्र’ नहीं बोला था या ऐसा कुछ नहीं कहा था कि जिससे महिलाओं और मातृत्व की गरिमा को ठेस पहुंचे.

राजा ने दावा किया कि उन्होंने अपनी पार्टी के प्रमुख एम के स्टालिन और पलानीस्वामी के राजनीतिक उद्भव का पता लगाने के लिए ‘उपमा’ का इस्तेमाल किया था और तमिल भाषणकला में इस तरह की तुलना स्वीकार्य है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज