अपना शहर चुनें

States

रजनीकांत ने चुनावी राजनीति से किया किनारा, कहा- बीमारी ने बहुत कुछ सिखा दिया

रजनीकांत ने स्वास्थ्य कारणों के चलते राजनीति में पदार्पण करने और पार्टी बनाने का इरादा बदल दिया है.
रजनीकांत ने स्वास्थ्य कारणों के चलते राजनीति में पदार्पण करने और पार्टी बनाने का इरादा बदल दिया है.

अभिनेता रजनीकांत (Rajinikanth) ने स्वास्थ्य मुद्दों का हवाला देते हुए चुनावी राजनीति से दूर रहने का ऐलान किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 29, 2020, 7:49 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली/चेन्नई. अभिनेता रजनीकांत (Rajinikanth) ने राजनीति से बाहर आने का फैसला किया है. रजनीकांत ने एक लंबे पत्र में स्वास्थ्य मुद्दों की ओर इशारा करते हुए तमिलना़डु के आगामी विधानसभा चुनावों (Tamil Nadu Election 2021) में भाग नहीं लेने की घोषणा की.

अपने प्रशंसकों का शुक्रिया अदा करते हुए रजनीकांत ने कहा कि अपने निर्णय से पीछे हटने पर मुझे आलोचना का शिकार होना पड़ेगा, लेकिन मैं अपने प्रशंसकों को किसी दुविधा की स्थिति में नहीं रखना चाहता. मैं अब वैक्सीन के बाद भी स्वास्थ्य को संभाल पाने में अक्षम हूं.

रजनीकांत ने कहा कि मैं चुनावी राजनीति में उतरे बिना लोगों की सेवा करूंगा. उन्होंने कहा कि वह बिना चुनाव लड़े ही लोगों की सेवा करेंगे. वह बोले, 'अगर मैं चुनाव लड़ता हूं, तो मैं सोशल मीडिया और टेलीविजन पर प्रचार करके चुनाव नहीं जीत सकता.'



रजनीकांत ने कहा, 'मुझे यह बताते हुए खेद है कि मैं एक राजनीतिक पार्टी शुरू नहीं करूंगा.' उन्होंने कहा कि यह फैसला भारी दिल' से लिया है. उन्होंने अपने फैसले को लेकर कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन की ओर इशारा किया. उन्होंने कहा, 'अगर मैं लोगों से मिलता हूं और संक्रमित होता हूं, तो जो लोग मेरे साथ रहेंगे उन्हें भी संघर्ष करना पड़ेगा और वह जीवन की शांति के साथ-साथ पैसा भी खो देंगे.'
जनवरी में लॉन्च करने वाले थे राजनीतिक दल
इस महीने की शुरुआत में मशहूर फिल्म एक्टर रजनीकांत ने कहा था कि वह जनवरी 2021 में अपनी राजनीतिक पार्टी बनाएंगे. अपनी पार्टी का ऐलान करते हुए रजनीकांत ने स्पष्ट किया था कि उनकी पार्टी तमिलनाडु में 2021 का विधानसभा चुनाव लड़ेगी.

रजनीकांत के बाद चेन्नई में उनके राजनीतिक सलाहकार तमलिरुवी मणियन (political advisor of actor Rajinikanth) ने कहा था, 'हम अगले विधानसभा चुनाव में सभी 234 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे (234 seats in next Assembly elections). हमारी राजनीति घृणा की राजनीति के विपरीत आध्यात्मिक राजनीति होगी, वर्तमान में अभ्यास किया जा रहा है.'



अपनी चिट्ठी में क्या कहा रजनी ने, यहां पढ़ें पूरा हिन्दी अनुवाद
अपने पत्र में रजनीकांत ने कहा कि- 'मेरे प्रिय प्रशंसक, मैं अपनी फ़िल्म ‘अन्नथे’ की शूटिंग के लिए हैदराबाद गया था. हम अपने क्रू के साथ शूटिंग कर रहे थे जिसमें 120 लोग शामिल थे. इसके बावजूद कि हम काफ़ी सावधान थे, क्रू के 4 लोगों को कोरोना का संक्रमण हो गया. इसके बाद क्रू के सभी सदस्यों की कोरोना जाँच करायी गयी पर मेरा खुद का ब्लड प्रेशन काफी ऊपर-नीचे हो रहा था. इसलिए, मैंने डॉक्टर की सलाह ली और तीन दिन तक लगातार मैं उनकी देखरेख में रहा.

उन्होंने लिखा है कि - 'इसकी वजह से प्रोड्यूसर कलानिधि मारन ने फ़िल्म की शूटिंग रोक दी और इस तरह मेरी तबियत ठीक नहीं होने की वजह से कई लोगों का रोज़गार छिन गया. मैं इसे भगवान की चेतावनी मान रहा हूँ. अगर मैं अभी राजनीतिक पार्टी शुरू करने की घोषणा करता हूँ और सोशल मीडिया के माध्यम से अभियान चलाता हूँ तो इस चुनाव में मुझे जीत नहीं मिल सकती है. अगर मैं लोगों से सीधे नहीं मिलूँ तो मुझे चुनाव में जीत नहीं मिलेगी और कोरोना का दूसरा चक्र हमरे लिए अलग एक बड़ी समस्या बना हुआ है. चूंकि मैं इस समय इम्यूनो सप्रेसंट्स ले रहा हूँ, और अगर टीका आ भी जाता है तो इस पर भरोसा नहीं किया जा सकता है.'

'मैं अभी कोई राजनीतिक पार्टी शुरू नहीं कर रहा'
रजनी ने लिखा- 'मैं नहीं चाहता हूँ कि जो लोग मुझ में भरोसा करते हैं उन्हें किसी तरह का वित्तीय नुक़सान हो या उन्हें कोई मानसिक परेशानी उठानी पड़े. मुझे यह बताते हुए काफ़ी दुःख हो रहा है कि मैं अभी कोई राजनीतिक पार्टी शुरू नहीं कर रहा हूं. इससे मेरे प्रशंसकों और कैडर को काफ़ी निराशा होगी और वे मुझे इसके लिए माफ़ करेंगे.'

अभिनेता ने लिखा कि 'मक्कल मंद्रम के सदस्य मेरी बातों को आदर दे रहे हैं और वैसे ही कर रहे हैं जैसा मैंने उन्हें कहा है. आपने लोगों की सेवा की है. आपने मानवता की जो सेवा कि है वह व्यर्थ नहीं जाएगी. मक्कल मंद्रम के लोगों का मुझ पर काफ़ी भरोसा है और उन्होंने मुझे कहा है कि भले ही मेरा फ़ैसला कुछ भी हो, वे मेरे फ़ैसले से सहमत हैं. मैं अपने प्रति उनके प्यार के आगे सिर झुकाता हूँ.'

तमिल में लिखी चिट्ठी में रजनी ने कहा - 'मैं थमीयरुवि मनीयन अय्या से मिलनेवाली मदद के लिए उनको धन्यवाद देता हूँ क्योंकि उन्होंने सारी आलोचनाओं को अपने सिर पर लिया है और एक बड़ी पार्टी में अपने पद को छोड़कर वह मेरे साथ आए क्योंकि मैंने उनसे ऐसा करने का आग्रह किया था. मैं चुनावी राजनीति में प्रवेश किए बिना भी लोगों की सेवा कर सकता हूँ. एक बार फिर मैं उन सभी लोगों को शुक्रिया कहना चाहता हूँ जो मुझसे बिना किसी शर्त के प्यार करते हैं.' उन्होंने अपने चिट्ठी का अंत ‘तमिल जनता ज़िंदाबाद, जय हिंद’ से किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज