महिला पत्रकार के गाल थपथपाने पर राज्यपाल ने मांगी माफी, बोले- 'आप मेरी पोती जैसी'

महिला पत्रकार के गाल थपथपाने पर राज्यपाल ने मांगी माफी, बोले- 'आप मेरी पोती जैसी'
महिला के गाल थपथपाते हुए उनकी तस्वीर वायरल हो गई है

राज्यपाल ने महिला पत्रकार को लिखी चिट्ठी में कहा, "आपके गाल को मैंने ऐसे ही थपथपाया, जैसा मैं अपनी पोती के गालों को थपथपाता."

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 18, 2018, 3:04 PM IST
  • Share this:
प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान महिला पत्रकार के थपथपाने के कारण विवादों में फंसे तमिलनाडु के राज्यपाल ने माफी मांग ली है. पत्रकार को चिट्ठी लिखकर उन्होंने इस मामले पर सफाई दी. उन्होंने कहा कि 'सवाल की तारीफ' करते हुए उन्होंने ऐसा किया.

राज्यपाल ने पत्र में लिखा- "आपके गाल को मैंने ऐसे ही थपथपाया, जैसा मैं अपनी पोती के गालों को थपथपाता... यह स्नेहिल व्यवहार था और ऐसा मैंने बतौर पत्रकार आपकी परफॉर्मेंस को देखते हुए प्रशंसा में किया क्योंकि मैं भी 40 सालों तक इस पेशे का हिस्सा रहा हूं. आपके ईमेल से मैं समझ सकता हूं कि आपको इस घटना से दुख पहुंचा है. मैं खेद जताना चाहता हूं और दुख को कम करना चाहता हूं"

 
महिला पत्रकार लक्ष्मी सुब्रमण्यम ने खुद राज्यपाल की चिट्ठी को ट्वीट करके उनकी माफी को स्वीकार किया. हालांकि पत्रकार ने इसी  ट्वीट में ये भी कहा " मै इस बात से सहमत नहीं हूं कि आपने मेरे गाल सवाल के एप्रीसिएशन में थपथपाएं थे."बता दें कि तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित एक महिला पत्रकार के गाल थपथपाने के कारण विवादों में घिर गए थे. यह घटना उस समय हुई, जब 78 वर्षीय राज्यपाल राजभवन में भीड़ भाड़ वाले प्रेस कांफ्रेंस हॉल से जा रहे थे.महिला पत्रकार लक्ष्मी सुब्रमण्यम TheWeek में काम करती है. घटना के बाद उन्होंने ट्वीट किया, "मैंने तमिलनाडु के गवर्नर बनवारीलाल पुरोहित से प्रेस कॉन्फ्रेंस के आखिर में एक सवाल पूछा. उन्होंने बिना मेरी इजाजत के मेरे गाल पर थपथपाया."विपक्षी द्रमुक ने घटना को संवैधानिक पद पर बैठे एक व्यक्ति का 'अशोभनीय' काम करार दिया.ये भी पढ़ें: 'डिग्री के लिए सेक्स' केस: तमिलनाडु के राज्यपाल बोले- लेक्चरर को देखा तक नहींद्रमुक की राज्यसभा सदस्य कनिमोई ने ट्वीट किया, "अगर संदेह नहीं भी किया जाए, तब भी सार्वजनिक पद पर बैठे एक व्यक्ति को इसकी मर्यादा समझनी चाहिए और एक महिला पत्रकार के निजी अंग को छूकर गरिमा का परिचय नहीं दिया या किसी भी इंसान द्वारा दिखाया जाने वाला सम्मान नहीं दर्शाया."




द्रमुक के कार्यकारी अध्यक्ष एम के स्टालिन ने अपने टि्वटर हैंडल से कहा, "यह न केवल दुर्भाग्यपूर्ण है बल्कि एक संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति की ग़लत हरकत है."

'डिग्री के लिए सेक्स' मामले पर सफाई देने आए थे राज्यपाल
बता दें कि गवर्नर ने देवांग आर्ट्स कॉलेज की प्रोफेसर निर्मला देवी के मामले पर प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई थी. इस महिला लेक्चरर पर आरोप है कि उन्होंने अपनी छात्राओं को ज्यादा नंबर और पैसों के लिए 'अधिकारियों के साथ एडजस्ट' करने की सलाह दी थी. पुलिस ने इस संबंध में केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है.

देवांग आर्ट्स कॉलेज की लेक्चरर निर्मला देवी ने दावा किया था कि वह राज्यपाल की करीबी है. राज्यपाल पुरोहित इस यूनिवर्सिटी के चांसलर भी हैं. हालांकि राज्यपाल ने उस महिला के साथ किसी जान पहचान की बात ही पूरी तरह खारिज कर दी. उन्होंने कहा कि उन्होंने आजतक आरोपी लेक्चरर का चेहरा भी नहीं देखा. (एजेंसी इन्पुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading