लाइव टीवी

तमिलनाडु: कोयम्बटूर और नागौर में NIA ने की छापेमारी, आतंकी साजिश के जुड़ रहे हैं तार

Sankar Anand | News18Hindi
Updated: October 31, 2019, 11:55 AM IST
तमिलनाडु: कोयम्बटूर और नागौर में NIA ने की छापेमारी, आतंकी साजिश के जुड़ रहे हैं तार
NIA ने की छापेमारी, किया बड़ा खुलासा

तमिलनाडु स्थित हिन्दू पीपुल्स पार्टी (Hindu People's Party) के कुछ बड़े नेता संदिग्धों की राडार पर थे, जो उनकी हत्या की साजिश रच रहे हैं. NIA को मिले कई दस्तावेज. 

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 31, 2019, 11:55 AM IST
  • Share this:
चेन्नई. केंद्रीय जांच एजेंसी (NIA) की टीम तमिलनाडु और कोयम्बटूर की कई लोकेशन पर आज सुबह से ही छापेमारी कर रही है. दरअसल NIA की टीम को कुछ महीने पहले ही ये जानकारी मिली थी कि तमिलनाडु स्थित हिन्दू पीपुल्स पार्टी (Hindu People's Party) के कुछ बड़े नेता संदिग्धों की रडार पर हैं और उनकी हत्या की साजिश रची जा रही है. बाद में इस मामले की छानबीन के दौरान कुछ महत्वपूर्ण इनपुट भी मिले थे जिसके आधार पर आज छापेमारी की जा रही है और सबूतों को इकट्ठा किया जा रहा है. एनआईए की टीम समीर और सौरेदीन नाम के संदिग्ध शख़्स के यहां भी छापेमारी कर रही है. इन संदिग्ध युवाओं के खिलाफ एनआईए को काफी इनपुट मिले थे.

एनआईए के सूत्रों ने इस बात की भी पुष्टि की है कि तमिलनाडु के कई बड़े हिन्दू नेता इन आरोपियों के रडार पर थे. कई दिनों से ये आरोपी हमले को अंजाम देने की कोशिश में जुटा हुआ था. आज एनआईए की टीम उक्कडम और जीएम नगर वाले लोकेशन पर जांच में जुटी हुई है.

केंद्रीय जांच एजेंसी (NIA) तीन प्रमुख स्थानों पर छापेमारी को अंजाम दे रही है. जिसमें कोयम्बटूर के दो लोकेशन और नागौर की एक लोकेशन शामिल है. एनआईए के सूत्रों के मुताबिक तमिलनाडु में स्थित नागौर में अजमल मोहम्मद के घर पर एनआईए की टीम तफ़्तीश करने आज सुबह ही पहुंच गई थी. एनआईए के सूत्रों ने इस बात की भी जानकारी दी की ये संदिग्ध आरोपी मक्कल कैची यानी हिन्दू पीपुल्स पार्टी के नेता अर्जुन संपत और उसके बेटे ओमकार की हत्या करना चाहते थे.

इसके लिए पिछले कई दिनों से ये लोग साजिश रचने के बाद अब उसको अंजाम देना चाहते थे. लेकिन इस मामले में उसके अंजाम देने से पहले ही एनआईए ने कार्रवाई को अंजाम देते हुए उसके आवास सहित अन्य लोकेशन पर छापेमारी कर तफ़्तीश शुरू कर दी. आने वाले वक्त में एनआईए की टीम इस मामले में कई बड़े खुलासे करते हुए कई और संदिग्ध आरोपियों की गिरफ्तारी भी कर सकती है.

हालांकि इसी साल जुलाई महीने में केंद्रीय खुफिया एजेंसी आईबी को कई महत्वपूर्ण जानकारी हाथ लगी थी जिसको एनआईए के साथ भी साझा किया था. इसके साथ ही वहां की स्थानीय पुलिस प्रशासन को भी अलर्ट किया था. एनआईए की टीम ने इसी मामले से जुड़े इनपुट्स के आधार पर सितंबर महीने में पांच संदिग्ध युवाओं को भी गिरफ्तार किया गया था. गिरफ्तारी के बाद जांच एजेंसियों को कई और नई महत्वपूर्ण जानकारी हाथ लगी थी. उसी के आधार पर आज की ये कार्रवाई चल रही है.

हालांकि इस गैंग का मुख्य सरगना कौन है और क्यों हिन्दू नेताओं के खिलाफ कार्रवाई कर रहा है इस मामले में अभी तक NIA के द्वारा औपचारिक तौर पर कोई पुष्टि नहीं हो पाई है. इतना तो स्पष्ट है कि ये एक बहुत ही बड़ी साजिश से पर्दाफाश हुआ है और हत्या होने से पहले ही उसके साजिशकर्ता तक जांच एजेंसी की टीम पहुंची है.

ये भी पढ़ें : कश्मीर में मारे गए मजदूरों के परिवार ने बताया- 'लगातार मिल रही थीं धमकियां'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 31, 2019, 10:45 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...