लाइव टीवी

प्याज की कीमत पहुंची 200 रुपए, ग्राहक ने कहा- हफ्ते के 400 रुपए सिर्फ इसी पर हो रहे खर्च

News18Hindi
Updated: December 8, 2019, 12:13 PM IST
प्याज की कीमत पहुंची 200 रुपए, ग्राहक ने कहा- हफ्ते के 400 रुपए सिर्फ इसी पर हो रहे खर्च
Onion Prices: प्याज़ की बढ़ती कीमतों से परेशान एक ग्राहक जया शुभ ने कहा कि दाम बढ़ने के बाद से हफ्ते में मेरे 350 से 400 रुपये तो बस प्याज खरीदने पर खर्च हो रहे हैं.

Onion Prices: प्याज़ की बढ़ती कीमतों से परेशान एक ग्राहक जया शुभ ने कहा कि 'दाम बढ़ने के बाद से हफ्ते में मेरे 350 से 400 रुपये तो बस प्याज खरीदने पर खर्च हो रहे हैं.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 8, 2019, 12:13 PM IST
  • Share this:
मदुरै. देश भर में प्याज की कीमतें (Onion price) आसमान छू रहीं हैं. तमिलनाडु (Tamil nadu) के मुदुरै (Madurai) में तो एक किलोग्राम प्याज की कीमत 200 रुपए तक पहुंच गई है. प्याज़ की बढ़ती कीमतों से परेशान एक ग्राहक जया शुभ ने कहा कि 'दाम बढ़ने के बाद से हफ्ते में मेरे 350 से 400 रुपये तो बस प्याज खरीदने पर खर्च हो रहे हैं.'

वहीं प्याज़ की बढ़ती कीमतों से दुकानदार भी परेशान हैं. ऐसे ही एक दुकानदार मूर्थि ने एएनआई से बातचीत में कहा कि 'जो ग्राहक 5 किलो प्याज खरीदते थे, वह अब 1 किलो खरीद रहे हैं.'

बता दें प्याज के भाव में नरमी का कोई संकेत नहीं दिख रहा है. आयात के जरिये बाजार में प्याज की आपूर्ति बढ़ाने के सरकार के प्रयासों के बावजूद यह शुक्रवार को गोवा और कुछ जगहों पर 160-165 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच गया. वहीं सरकार ने संसद में बताया कि आयातित प्याज की खेप 20 जनवरी तक देश में आने लगेगी.

उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय द्वारा रखे जाने वाले आंकड़ों के अनुसार देश के ज्यादातर शहरों में, प्याज की खुदरा कीमत 100 रुपये प्रति किलोग्राम से अधिक थी, जबकि प्याज के प्रमुख उत्पादक केन्द्र, महाराष्ट्र के नासिक में शुक्रवार को इसकी दर 75 रुपये किलो थी. पणजी (गोवा) में खुदरा प्याज की कीमतें 165 रुपये प्रति किलोग्राम, मायाबंदर (अंडमान) में 160 रुपये किलो तथा केरल के तिरुवनंतपुरम, कोझीकोड, त्रिसुर और वायनाड में शुक्रवार को यह कीमत 150 रुपये किलो थी.

सरकार ने भी माना बढ़ रहे प्याज के दाम
उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय में राज्य मंत्री दानवे रावसाहेब दादाराव ने राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान कहा, 'इस बात में कोई शक नहीं कि प्याज की कीमतें बढ़ रही हैं. प्याज की कमी का मुख्य कारण बारिश की वजह से प्याज फसल को होने वाला नुकसान है. देश के प्रमुख उत्पादक राज्य महाराष्ट्र में प्याज की अधिकांश फसल बर्बाद हो गयी है.

हालांकि सरकार ने अपने बफर स्टॉक से प्याज की आपूर्ति की है और सरकारी व्यापार एजेंसी एमएमटीसी को प्याज का आयात करने को कहा है, जो 20 जनवरी तक पहुंचना चाहिये.' उन्होंने कहा कि सरकार ने जारी मूल्य वृद्धि को रोकने के लिए 1.2 लाख टन तक प्याज आयात को मंजूरी दी है. सरकारी स्वामित्व वाली एमएमटीसी को वैश्विक और देश-विशिष्ट वाले आयात निविदाओं के माध्यम से एक लाख टन प्याज आयात करने का निर्देश दिया गया है.गृह मंत्री अमित शाह की अगुवाई में मंत्रियों के एक समूह ने गुरुवार को प्याज की कीमत की स्थिति और प्याज के आयात में हुई प्रगति की समीक्षा की. सरकार ने पहले ही प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है. आखिरी बार वर्ष 2015-16 में इसी तरह की स्थितियों में 1,987 टन प्याज आयात किया गया था.

यह भी पढ़ें:  आपूर्ति में 70% की गिरावट फिर भी यहां पर 22 रुपए में मिल रहा है प्याज!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 8, 2019, 11:26 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर