जीतने पर वॉशिंग मशीन देने का वादा कर AIADMK प्रत्याशी ने सरेआम धोये कपड़े

कपड़े धुलते AIADMK उम्मीदवार टी कथिरावन  (तस्वीर-ANI)

कपड़े धुलते AIADMK उम्मीदवार टी कथिरावन (तस्वीर-ANI)

AIADMK उम्मीदवार टी कथिरावन (Thanga Kathiravan) को ऐसा करते देख लोग हतप्रभ होने के साथ प्रभावित भी थे. कथरावन से जब लोगों ने ऐसा करने का कारण पूछा तो उनका कहना था, 'उनकी सरकार अगर दोबारा सत्ता में आती है तो वे महिलाओं को मुफ्त वॉशिंग मशीन देंगे ताकि कपड़े धोते-धोते महिलाओं के हाथ न दुखें.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2021, 7:34 PM IST
  • Share this:
चेन्नई. तमिलनाडु की नागापट्टीनम विधानसभा सीट से AIADMK के उम्मीदवार टी कथिरावन  (Thanga Kathiravan) ने सोमवार को महिला वोटरों को रिझाने के लिए सरेआम कपड़े धोए. दरअसल, चुनाव प्रचार के दौरान उन्होंने एक महिला को अपने परिवार के कपड़े धोते देखा. कथिरावन ने उस महिला से कुछ कपड़े धोने की अनुमति मांगी और फिर कपड़े धोने लगे. हालांकि उस महिला ने पहले मना किया लेकिन फिर बार-बार गुजारिश करने के बाद हिचकिचाते हुए AIADMK उम्मीदवार को कपड़े धोने के लिए दे दिए. कथिरावन ने न केवल कुछ कपड़े धोए बल्कि पास में रखे कुछ गंदे बर्तन भी धोये.

AIADMK उम्मीदवार को ऐसा करते देख लोग हतप्रभ होने के साथ प्रभावित भी थे. कथिरावन से जब लोगों ने ऐसा करने का कारण पूछा तो उनका कहना था, 'उनकी सरकार अगर दोबारा सत्ता में आती है तो वे महिलाओं को मुफ्त वॉशिंग मशीन देंगे ताकि कपड़े धोते-धोते महिलाओं के हाथ न दुखें.' उन्होंने कहा, 'मैंने महिलाओं की मेहनत को महसूस करने और दिखाने के लिए ऐसा किया. हमारी पार्टी महिलाओं की मेहनत की कद्र और फिक्र दोनों करती है. लिहाजा मैंने महिलाओं को मशीन देने का वादा किया.'



Youtube Video

गौरतलब है कि तमिलनाडु विधानसभा चुनावों में प्रत्याशियों और यहां तक कि पार्टियों द्वारा लोगों को लुभावने गिफ्ट दिए जाने की राजनीतिक प्रथा रही है.सत्तासीन पार्टी एआईएडीएमके (AIADMK) ने अपने घोषणा पत्र में भी ढेर सारे वादे किए हैं. एआईएडीएमके की तरफ से घोषणा पत्र पढ़ते हुए पार्टी नेता सी पोन्नैयन ने कहा था, 'राज्य में उनकी सरकार बनने पर हर साल हर परिवार को एलपीजी के 6 सिलेंडर मुफ्त दिए जाएंगे. इसके साथ-साथ हर परिवार के कम से कम एक व्यक्ति को राज्य सरकार द्वारा सरकारी नौकरी दी जाएगी.' उन्होंने कहा, 'हम भारत में श्रीलंकाई तमिल शरणार्थियों के लिए दोहरी नागरिकता और आवासीय परमिट के लिए केंद्रीय सरकार से अनुरोध करेंगे. एआईएडीएमके केंद्र सरकार से नागरिकता कानून (सीएए) को वापस लेने के लिए कहती रहेगी.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज