लॉकडाउन: परिवारवालों को घर पहुंचाने के लिए चुराई बाइक, दो हफ्ते बाद पार्सल से लौटाई

लॉकडाउन: परिवारवालों को घर पहुंचाने के लिए चुराई बाइक, दो हफ्ते बाद पार्सल से लौटाई
सीसीटीवी से पता चला था कि बाइक चुराने वाला चाय के दुकान पर काम करता था.

बाइक के मालिक (Bike Owner) सुरेश कुमार को जब पार्सल वालों ने फोन किया तो वो अपनी बाइक देख कर हैरान रह गए.

  • Share this:
कोयम्बटूर. कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण पर लगाम लगाने के लिए इनों देश भर में लॉकडाउन लागू है. ऐसे में पिछले कुछ महीनों के दौरान कई लोग अलग-अलग शहरों में फंस गए थे. खासकर प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) को घर चलाना मुश्किल हो गया था. ऐसे में वो किसी तरह अपने घर लौटना चाहते थे. कई लोग हजारों किलोमीटर पैदल चलने के लिए मजबूर हो गए. घर लौटने का ऐसा ही एक दिलचस्प घटना तमिलनाडु से सामने आया है. यहां परिवार वालों को घर पहुंचाने के लिए एक शख्स ने बाइक चुरा ली और फिर इसे पार्सल से वापस भेज दिया.

ईमानदार प्रवासी
ये घटना तमिलनाडु के कोयम्बटूर की है. चाय की एक दुकान पर काम करने वाला एक शख्स लॉकडाउन के चलते फंस गया. ऐसे में उसने 18 मई को अपनी बीवी और बच्चों को घर पहुंचाने के लिए एक बाइक चुरा ली. दो हफ्ते के बाद उसने बड़ी ईमानदारी से बाइक को पार्सल के जरिए वापस भेज दिया. बाइक के मालिक एक आंत्रपेन्योर हैं. वो इंजीनियरिंग टूल्स बनाने की एक यूनिट चलाते हैं.

पार्सल से भेजी बाइक
बाइक के मालिक सुरेश कुमार को जब पार्सल वालों ने फोन किया तो वो अपनी बाइक देखकर हैरान रह गए. खास बात ये है कि पार्सल के पैसे खुद बाइक के मालिक को देने पड़े. दरअसल बाइक चुराने वाले ने पे ऑन डिलीवरी के तहत बाइक पार्सल की थी. पार्सल कंपनी ने सुरेश कुमार से हज़ार रुपये लिए.



सीसीटीवी से पकड़ी गई थी चोरी
सीसीटीवी से पता चला था कि बाइक चुराने वाला चाय के दुकान पर काम करता था. आसपास के लोगों ने सीसीटीवी को देखने के बाद आरोपी की पहचान की थी. अच्छी बात ये है कि उसने ईमानदारी से बाइक वापस कर दी.

ये भी पढ़ें:-

पाकिस्तानी जासूस: इसलिए Railway के कर्मचारी आए इंटेलीजेंस एजेंसियों के रडार पर

गंगा दशहरा पर लौटी प्रयागराज की रौनक, संगम में श्रद्धालुओं ने लगाई डुबकियां
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading