तमिलनाडु: पुलिस बर्बरता के नया मामला, महिला शिक्षक का आरोप- पीटा, शिकायत वापस लेने पर किया मजबूर

तूतीकोरिन में एक और महिला ने पुलिस पर बर्बरता का आरोप लगाया है (सांकेतिक फोटोझ
तूतीकोरिन में एक और महिला ने पुलिस पर बर्बरता का आरोप लगाया है (सांकेतिक फोटोझ

एम शांति ने कहा कि उनके भाई, जो तमिलनाडु इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड (Tamil Nadu Electricity Board) के कर्मचारी हैं, उनकी 22 फरवरी को संदिग्ध हालातों में तब मौत हो गई थी, जब वे काम पर जा रहे थे. स्थानीयों ने उनकी पुलिस (Police) की ओर से पिटाई की बात कही थी.

  • Share this:
तूतीकोरिन. एक महिला स्कूल टीचर (Woman School Teacher) ने डीसीपी (DCP) के पास यह आरोप लगाते हुए याचिका डाली की तूतीकोरिन पुलिस स्टेशन (Thoothukudi Police Station) में उसकी पिटाई की गई थी और उसके अपनी दर्ज कराई शिकायत (Complaint) वापस लेने पर भी मजबूर किया गया था. महिला ने इसी साल फरवरी में अपने भाई की संदिग्ध हालात में हुई मौत (Mysterious Death) को लेकर पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराई थी. महिला के अनुसार इसी मामले में पुलिस (Police) की ओर से ऐसा किया गया था.

एम शांति ने कहा कि उनके भाई, जो तमिलनाडु इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड (Tamil Nadu Electricity Board) के कर्मचारी थे, उनकी 22 फरवरी को संदिग्ध हालातों (mysterious circumstances) में तब मौत हो गई थी, जब वे काम पर जा रहे थे. हालांकि पुलिस ने इस मौत को एक सड़क हादसे में हुई मौत (road accident death) माना था. महिला ने कहा, स्थानीय लोगों ने उसे बताया था कि उसके भाई को पुलिस वालों ने पीटा था.

शांति का आरोप, "पुलिस ने पीटा और केस वापस लेने को कहा"
शांति ने बताया कि उन्होंने इस संबंध में जिला कलेक्टर और जिले के पुलिस अधीक्षक को एक याचिका सौंपी थी. जिसके बाद उन्हें जांच के लिए व्यक्तिगत तौर पर पुलिस स्टेशन में हाजिर होने के लिए कहा गया था.
शांति ने आरोप लगाया कि जब वे पुलिस स्टेशन पहुंचीं तो वहां पर उन्हें एक पुलिस वाले ने पीटा और उनसे अपनी शिकायत वापस लेने को कहा और उन्हें ऐसा करना पड़ा.



यह भी पढ़ें: लुधियाना सेंट्रल जेल में कोरोना का बड़ा हमला, 26 कैदियों की रिपोर्ट आई पॉजिटिव

बाप-बेटे की हिरासत में मौत का मामला बना था राष्ट्रीय चर्चा का विषय
इससे पहले जयराज और बेनिक्स की हिरासत में मौत का मामला पूरे देश में छाया रहा. 19 जून को पुलिस ने तय समय से ज्यादा वक्त तक दुकान खोलने की वजह से गिरफ्तार किया था. दोनों की मौत चार दिन बाद हो गई थी. दोनों बाप-बेटे की तुूतीकोरिन में एक मोबाइल की दुकान है. परिवारवालों का आरोप है कि पुलिस ने जयराज और बेनिक्स के साथ बेहद बर्बरता की थी. इन दोनों बाप-बेटे को भी गिरफ्तार कर तूतीकोरिन के ही पुलिस स्टेशन में रखा गया था. रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस ने इन दोनों की बुरी तरह से पिटाई की थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज