तमिलनाडु: पत्नी ने 3.5 करोड़ रुपये के लिए पति को जलाया जिंदा, पुलिस ने चंद दिनों में सुलझाया केस

सांकेतिक तस्वीर.

सांकेतिक तस्वीर.

Tamil Nadu News: पुलिस के मुताबिक बीमा पॉलिसी की रकम को हथियाने के लिए जोथिमनी ने अपने रिश्तेदार राजा के साथ मिलकर रंगराज को मारने की योजना बनाई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 11, 2021, 2:17 PM IST
  • Share this:
चेन्नई. तमिलनाडु में एक महिला (57 साल) ने 3.5 करोड़ रुपए की बीमा की रकम हासिल करने के लिए अपने पति (62 साल) को आग के हवाले कर दिया कर दिया. मामले में पेरिमनल्लूर पुलिस ने बीते 9 अप्रैल को महिला और उसके एक दोस्त को गिरफ्तार कर लिया है. खबर के मुताबिक, 62 साल के रंगराज इरोड जिले के रहने वाले हैं और पावरलूम के मालिक थे. पिछले माह 13 मार्च को रंगराज के सड़क हादसे का शिकार हो गए थे, जिसके बाद उन्हें कोयंबटूर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

अस्पताल में उनकी पत्नी जोथिमनी और एक अन्य रिश्तेदार रंगराज की देखभाल कर रहे थे. बीते 8 अप्रैल को उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई. हालांकि उन्हें चलने में अब भी थोड़ी परेशानी थी, इसलिए उनकी पत्नी जोथिमनी और रिश्तेदार राजा एक वैन लेकर आए ताकि रंगराज को अस्पताल से घर ले जाया जा सके.

पुलिस ने बताया कि थुदुपथी की ओर जा रहे वैन को राजा चला रहा था और जैसे ही गाड़ी रात को करीब साढ़े ग्यारह बजे वालसुपालयम पहुंची, तो राजा ने गाड़ी रोक दी और फिर राजा व जोथिमनी दोनों वैन से नीचे उतर गए और फिर पेट्रोल डालकर गाड़ी में आग लगा दी. क्योंकि रंगराज चलने योग्य नहीं थे इसलिए वे गाड़ी से उतरने में कामयाब नहीं हो सके. इसके बावजूद वे अनी जान बचाने के लिए गाड़ी के अंदर ही चीखते-चिल्लाते रहे, लेकिन विंडो बंद होने की वजह से उनकी आवाज बाहर नहीं आ सकी और वैन में उनकी मौत हो गई.

रंगराज की पत्नी जोथिमनी और रिश्तेदार राजा ने पुलिस को घटना के बारे में जानकारी दी और इसे महज एक हादसा बताया, लेकिन राजा के बयानों से पुलिस को संदेह हुआ और उसने तहकीकात शुरू कर दी. जांच के दौरान पुलिस को मालूम हुआ कि राजा ने एक पेट्रोल पंप से ईंधन खरीदा था. फिर क्या था, पुलिस ने पेट्रोल पंप में लगे सीसीटीवी के फुटेज भी खंगाले.
पकड़े जाने के डर से राजा ने खुद ही रंगराज को मारने की बात पुलिस के सामने स्वीकार कर ली. जांच में यह बात सामने आई कि रंगराज के ऊपर कई लोगों का 1.5 करोड़ रुपये का उधार था, जिसकी वजह से वे सभी लोग उन्हें और उकी पत्नी को परेशान किया करते थे. इसके साथ ही रंगराज ने तीन बीमा पॉलिसी ली थी, जिसकी कुल कीमत 3.5 करोड़ रुपये थी और उसने इसमें अपनी पत्‍नी को नॉमिनी बनाया था.

पुलिस के मुताबिक बीमा पॉलिसी की रकम को हथियाने के लिए जोथिमनी ने अपने रिश्तेदार राजा के साथ मिलकर रंगराज को मारने की योजना बनाई थी. दोनों में 1.5 लाख रुपए का समझौता भी हुआ था और जोथिमनी ने राजा को बतौर एडवांस पचास हजार रुपए भी दे दिए थे. मामले का पूरा खुलासा होने के बाद दोनों ने पुलिस के सामने अपना जुर्म कुबूल कर लिया है और दोनों फिलहाल जेल में हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज