लाइव टीवी

Community corona: चेन्‍नई पहुंचा युवक निकला संक्रमित, हेल्‍थ मिनिस्‍टर ने बताया पहला 'घरेलू केस'

News18Hindi
Updated: March 21, 2020, 12:10 AM IST
Community corona: चेन्‍नई पहुंचा युवक निकला संक्रमित, हेल्‍थ मिनिस्‍टर ने बताया पहला 'घरेलू केस'
कोराना से दहशत को माहौल.

इस हफ्ते की शुरुआत में उत्तर प्रदेश का रहने वाला एक युवक दिल्‍ली से चेन्नई तक एक ट्रेन के जरिये पहुंचा था. अधिकारियों ने पुष्टि की कि वह कोरोना वायरस से संक्रमित है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 21, 2020, 12:10 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के मामलों में बढ़ोतरी हो रही है. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के अनुसार अब तक देश में 223 लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं. साथ ही इससे 4 लोगों की मौत हो चुकी है. लेकिन अभी कोरोना वायरस के कम्‍युनिटी ट्रांसमिशन (Coronavirus community transmission) की आशंकाओं को नकार दिया गया है. शुक्रवार को भी सरकार की ओर से कहा गया है कि संक्रमण के कम्‍युनिटी ट्रांसमिशन का अभी तक कोई सबूत नहीं मिला है. इसके साथ ही तमिलनाडु (Tamilnadu) के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने चेन्‍नई में कोरोना पॉजिटिव एक व्‍यक्ति को देश का पहला घरेलू केस करार दिया है.

दिल्‍ली से चेन्‍न्‍ई गया था युवक
जानकारी के मुताबिक इस हफ्ते की शुरुआत में उत्तर प्रदेश का रहने वाला एक युवक दिल्‍ली से चेन्नई तक एक ट्रेन के जरिये पहुंचा था. 20 साल का यह युवक दिल्ली के एक सैलून में काम करता है और चेन्नई पहुंचने के बाद अधिकारियों ने पुष्टि की कि वह कोरोना वायरस से संक्रमित है.

जांच कर रहे हैं: ICMR



भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के महामारी विज्ञान और संचारी रोग विभाग के प्रमुख डॉ. रमन आर गंगाखेड़कर ने सटीक जानकारी ना होने के बाद भी कहा, 'जब हम जांच करते हैं, तो कुछ डिटेल्‍स पर हमें भरोसा करना होगा कि रोगी हमसे क्या कहता है. ये सभी रिपोर्ट किए गए हैं. अन्य बीमारियों के विपरीत, हमारे पास स्रोत का पता लगाने के लिए कोई परीक्षण उपलब्‍ध नहीं है. हम आगे की जांच कर रहे हैं.'

अधिकारियों के अनुसार चेन्नई के राजीव गांधी सरकारी अस्पताल (RGGGH) में संक्रमित व्यक्ति को अलग-थलग कर दिया गया है और उसकी निगरानी की जा रही है. राज्य के स्वास्थ्य मंत्री सी विजया बसकर ने इसे घरेलू मामला बताया.

कम्‍युनिटी ट्रांसमिशन से इनकार
यह महत्वपूर्ण है क्योंकि सरकार ने अब तक सामुदायिक प्रसारण के कोई सबूत नहीं दिए हैं - जब वायरस समुदायों के माध्यम से स्वतंत्र रूप से फैलता है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने दोहराया है कि विश्व स्तर पर टेस्‍ट की आवश्यकता है. आईसीएमआर ने कहा है कि ऐसा नहीं है.

फरवरी से अब तक ICMR ने सामुदायिक प्रसारण की जांच के लिए 826 नमूनों का परीक्षण बेहतर ढंग से किया है. इन्हें फरवरी से सरकारी मेडिकल कॉलेजों से लिया गया और वायरस के साथ ही रिसर्च डायग्‍नोटिक लैब में परीक्षण किया गया. सभी नमूने नकारात्मक आए हैं.

यह भी पढ़ें: एक दिन में सामने आए कोरोना के 50 नए केस, जानिए किस प्रदेश में कितने मामले

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 20, 2020, 10:07 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर