लाइव टीवी

बुर्का पहनने को लेकर तस्लीमा नसरीन से भिड़ीं एआर रहमान की बेटी, सुनाई खूब खरी-खोटी

News18Hindi
Updated: February 17, 2020, 9:55 AM IST
बुर्का पहनने को लेकर तस्लीमा नसरीन से भिड़ीं एआर रहमान की बेटी, सुनाई खूब खरी-खोटी
नसरीन ने रहमान की बेटी के बुर्का पहनने पर आपत्ति जताई थी

पिछले दिनों तस्लीमा नसरीन (Taslima Nasreen) ने खतीजा रहमान की बुर्के वाली तस्वीर ट्विटर पर शेयर की थी. बाद में खतीजा ने तस्लीमा नसरीन को इस्टाग्राम पर करारा जवाब दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 17, 2020, 9:55 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. मशहुर संगीतकार एआर. रहमान (AR Rahman) की बेटी खदीजा रहमान (Khatija Rahman) और लेखिका तस्लीमा नसरीन (Taslima Nasreen) के बीच बुर्का पहनने को लेकर सोशल मीडिया पर जुबानी जंग छिड़ गई. नसरीन ने रहमान की बेटी के बुर्का पहनने पर आपत्ति जताई थी, जिस खदीजा ने उन्हें करारा जवाब दिया.

क्या कहा तस्लीमा नसरीन ने
बता दें कि पिछले दिनों तस्लीमा नसरीन ने खदीजा रहमान की बुर्के वाली तस्वीर शेयर की थी. फोटो शेयर करते हुए उन्होंने लिखा था, 'मुझे रहमान के म्यूजिक से बेहद प्यार है. लेकिन जब भी मैं उनकी बेटी को देखती हूं तो मुझे घुटन महसूस होती है. ये बेहद अफसोस की बात है कि एक सांस्कृतिक परिवार की शिक्षित महिलाओं का भी आसानी से ब्रेन वॉश किया जा सकता है.’



खदीजा का करारा जवाब
बाद में खदीजा ने तस्लीमा नसरीन को इस्टाग्राम पर करारा जवाब दिया. इंस्टा पर खदीजा के 33 हज़ार से ज़्यादा फोलोअर्स हैं. खदीजा ने यहां लिखा. 'तस्लीमा मुझे अफसोस है कि दुनिया में इतनी सारी चीज़ें हो रही हैं, लेकिन आपको मेरे कपड़ों से घुटन महसूस होती है. आप कुछ फ्रेश हवा ले लीजिए. मुझे कोई घुटन नहीं होती, बल्कि मैं जिस चीज़ का भी साथ दे रही हूं उस पर मुझे गर्व है. सशक्त महसूस करती हूं'.



 




View this post on Instagram




 

Been only a year and this topic is in the rounds again..there’s so much happening in the country and all people are concerned about is the piece of attire a woman wants to wear. Wow, I’m quite startled. Every time this topic comes the fire in me rages and makes me want to say a lot of things..Over the last one year, I’ve found a different version of myself which I haven’t seen in so many years. I will not be weak or regret the choices I’ve made in life. I am happy and proud of what I do and thanks to those who have accepted me the way I am. My work will speak, God willing.. I don’t wish to say any further. To those of you who feel why I’m even bringing this up and explaining myself, sadly it so happens and one has to speak for oneself, that’s why I’m doing it. 🙂. Dear Taslima Nasreen, I’m sorry you feel suffocated by my attire. Please get some fresh air, cause I don’t feel suffocated rather I’m proud and empowered for what I stand for. I suggest you google up what true feminism means because it isn’t bashing other women down nor bringing their fathers into the issue 🙂 I also don’t recall sending my photos to you for your perusal 🙂


A post shared by 786 Khatija Rahman (@khatija.rahman) on






'ये फेमिनिज्म नहीं है'
खदीजा ने आगे लिखा, 'आप कृपा करके गूगल पर फेमिनिज्म का मतलब जरूर देख लीजिए, क्योंकि दूसरी महिलाओं को नीचा दिखाना और किसी के पिता को ऐसे मुद्दों में घसीटना फेमिनिज्म नहीं होता. वैसे मुझे तो याद भी नहीं कि मैंने अपनी फोटो जांच के लिए आपके पास कब भेजी थी'.

ये भी पढ़ें- राहुल के अध्यादेश फाड़ने के बाद इस्तीफा देना चाहते थे मनमोहन सिंह: अहलूवालिया

Success Story: कभी साइकिल की दुकान में बनाते थे पंक्चर, आज हैं IAS

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 17, 2020, 9:23 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर