Home /News /nation /

टाटा समूह के मुखिया चंद्रशेखरन PM से मिल खुद ‘महाराजा’ एयर इंडिया को वापस लाएंगे?

टाटा समूह के मुखिया चंद्रशेखरन PM से मिल खुद ‘महाराजा’ एयर इंडिया को वापस लाएंगे?

सरकार ने एयर इंडिया 18,000 करोड़ रुपए में  टाटा समूह को सौंपी है. (फाइल फोटो)

सरकार ने एयर इंडिया 18,000 करोड़ रुपए में टाटा समूह को सौंपी है. (फाइल फोटो)

Tata group chairman N Chandrashekharan to meet PM Narendra Modi : एयर इंडिया (Air India) की वापसी टाटा समूह (Tata Group) के लिए बेहद भावनात्मक लम्हा है. कारण कि इस एयरलाइंस की स्थापना टाटा समूह के पूर्वज जेआरडी टाटा (JRD Tata) ने की थी. साल 1932 में. तब यह ‘टाटा एयरलाइंस’ (Tata Airlines) के नाम संचालित होती थी. फिर 1946 में ‘टाटा एयरलाइंस’ (Tata Airlines) का नाम ‘एयर इंडिया’ (Air India) हो गया. लगभग यही दौर था, जब एयर इंडिया (Air India) का शुभंकर ‘महाराजा’ जैसे दिखने वाले एक किरदार को बनाया गया. फिर यह हमेशा के लिए उसकी पहचान बन गया.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. टाटा समूह (Tata Group) के मुखिया एन चंद्रशेखरन (N Chandrashekharan) गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) से मुलाकात कर सकते हैं. यह मुलाकात इसलिए अहम है कि गुरुवार को ही केंद्र सरकार अपने सरकारी ‘महाराजा’ यानी एयर इंडिया (Air India) को पूरी तरह टाटा समूह के हवाले कर रही है. ऐसे में, यह संभावना जताई जा रही है कि चंद्रशेखरन शायद यह औपचारिकता खुद अपने हाथ से पूरी कर सकते हैं.

दरअसल, एयर इंडिया (Air India) की वापसी टाटा समूह (Tata Group) के लिए बेहद भावनात्मक लम्हा है. कारण कि इस एयरलाइंस की स्थापना टाटा समूह के पूर्वज जेआरडी टाटा (JRD Tata) ने की थी. साल 1932 में. तब यह ‘टाटा एयरलाइंस’ (Tata Airlines) के नाम संचालित होती थी. फिर 1946 में ‘टाटा एयरलाइंस’ (Tata Airlines) का नाम ‘एयर इंडिया’ (Air India) हो गया. लगभग यही दौर था, जब एयर इंडिया (Air India) का शुभंकर ‘महाराजा’ जैसे दिखने वाले एक किरदार को बनाया गया. फिर यह हमेशा के लिए उसकी पहचान बन गया.

इसके बाद 1953 में भारत सरकार ने एयर इंडिया (Air India) का नियंत्रण अपने हाथ में ले लिया. उसका सरकारीकरण कर दिया. हालांकि जेआरडी टाटा (JRD Tata) 1977 तक एयर इंडिया (Air India) के मुखिया बने रहे. लेकिन एयर लाइंस धीरे-धीरे सरकार के लिए ‘किसी भारी शान-ओ-शौकत वाले महाराजा’ जैसी साबित होने लगी. इसके खर्चे बढ़ते गए. आमदनी घटती गई. एनडीटीवी के मुताबिक, वर्तमान में हालत ये है कि एयर इंडिया (Air India) करीब 20 करोड़ रुपए का घाटा उठा रही है. वह भी हर रोज. और जो करीब 61,562 करोड़ रुपए का कर्ज है, वह अलग.

इसी कारण से केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi Govt) ने आखिरकार एयर इंडिया (Air India) को निजी हाथों में सौंपने का फैसला लिया. इसी के तहत लंबी चली प्रक्रिया के बाद टाटा समूह (Tata Group) ने बीते साल अक्टूबर में 18,000 करोड़ रुपए की बोली लगाकर एयर इंडिया (Air India) को वापस हासिल किया. और अब आज, यानी 27 जनवरी को ‘महाराजा’ (Air India) की औपचारिक घर-वापसी का अवसर है. लिहाजा, इस भावनात्मक क्षण में उनकी अगवानी के लिए टाटा समूह (Tata Group) के प्रमुख एन चंद्रशेखरन (N Chandrashekharan) के खुद सरकारी गलियारों में मौजूद हों, तो कोई अचरज की बात नहीं है.

Tags: Air india, Air India Sale, Hindi news, Pm narendra modi, Tata

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर