लाइव टीवी

आंध्र प्रदेश की तीन राजधानी बना सकती है जगन सरकार, विरोध करने वाले नेताओं को किया नजरबंद

News18Hindi
Updated: December 26, 2019, 11:41 PM IST
आंध्र प्रदेश की तीन राजधानी बना सकती है जगन सरकार, विरोध करने वाले नेताओं को किया नजरबंद
राज्य सरकार के तीन राजधानी के फॉर्मूले का विरोध करते किसान (News18)

नजरबंदी की गिरफ्तारी की निंदा करते हुए TDP प्रमुख चंद्रबाबू नायडू (Chandrababu Naidu) ने कहा कि राज्य में जगन मोहन रेड्डी (Jagan Mohan Reddy) के नेतृत्व वाली YSR कांग्रेस पार्टी (YSR Congress Party) सरकार अपने "एकतरफा, तानाशाही और दमनकारी रवैये" का परिणाम भुगतेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 26, 2019, 11:41 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आंध्र प्रदेश सरकार (Government of Andhra Pradesh) ने अपनी होने वाली कैबिनेट मीटिंग से पहले गुरूवार को तेलुगुदेशम पार्टी (TDP) के दो प्रमुख नेताओं को नजरबंद कर दिया गया है. यह कदम शुक्रवार को होने वाली मीटिंग से पहले उठाया गया है जिसके बारे में कहा जा रहा है कि इसी मीटिंग में राज्य के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी (Jagan Mohan Reddy) तीन राजधानियों की अनुमति दे सकते हैं.

जगन मोहन रेड्डी के तीन राजधानियों के ऐलान के बाद से ही राज्य में स्थितियां गंभीर बनी हुई हैं. जगन ने ऐलान किया था कि विशाखापट्टनम (Visakhapatnam) को कार्यपालिका राजधानी, अमरावती (Amravati) को विधायिका की राजधानी और कुर्नूल (Kurnool) को न्यायिक राजधानी बनाया जाएगा.

पीएम मोदी से हस्तक्षेप की गुजारिश करेंगे नानी
हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक से सांसद केसीनेनी श्रीनिवास (उर्फ नानी) और एमएलसी बुद्धा वेंकन्ना इस फैसले के खिलाफ किसानों के 'महा धरना' में भाग लेने के लिए अमरावती (Amravati) जा रहे थे, जब उन्हें रास्ते से ही हिरासत में ले लिया गया. उनके साथ ही कई अन्य नेताओं को भी हिरासत में लिया गया है.

नानी ने रिपोर्टस से पहले कहा था कि वे इस मामले में पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से हस्तक्षेप की गुजारिश करेंगे.

हजारों पुलिसकर्मी तैनात कर पुलिसराज स्थापित कर रही YSRCP: चंद्रबाबू
इन नजरबंदियों की निंदा करते हुए TDP नेता चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि रेड्डी के नेतृत्व में वाईएसआर कांग्रेस पार्टी (YSRCP) की सरकार अपने "एकतरफा, तानाशाही और दमनकारी रवैये" का परिणाम भुगतेगी.नायडू ने एक बयान में कहा, "जनता के प्रतिनिधियों को अमरावती परिरक्षण समिति ज्वाइंट एक्शन कमेटी की बैठक में जाने से रोकना अलोकतांत्रिक (Undemocratic) है. वाईएसआरसीपी सरकार 29 गांवों के लोगों के बीच हलचल पैदा कर रही है. हजारों पुलिसकर्मियों को तैनात कर पुलिसराज स्थापित किया जा रहा है."

उन्होंने कहा, "वे विभाजनकारी राजनीति कर सियासी लाभ उठाने की कोशिश रहे हैं. विचारों की अभिव्यक्ति को दबाया जा रहा है. वाईएसआरसीपी सरकार (YSRCP Government) इस तानाशाही और दबाने वाली राजनीति का खामियाजा भुगतेगी."

यह भी पढ़ें: कर्नाटक में भी सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया तो संपत्ति होगी जब्त: मंत्री

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 26, 2019, 11:16 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर