Assembly Banner 2021

Vaccination 2nd Phase: वैक्सीन से पहले व्हीलचेयर, नाश्ता, मुंबई के अस्पताल ऐसे कर रहे हैं बुजुर्गों का स्वागत

देश में बीती 1 मार्च से वैक्सीन प्रोग्राम का दूसरा चरण शुरू हो चुका है. (सांकेतिक तस्वीर: रॉयटर्स)

देश में बीती 1 मार्च से वैक्सीन प्रोग्राम का दूसरा चरण शुरू हो चुका है. (सांकेतिक तस्वीर: रॉयटर्स)

Vaccination 2nd Phase: अस्पतालों में पहुंचने पर व्हीलचेयर (Wheelchairs) की व्यवस्था है. वहीं, 80 साल से ज्यादा के बुजुर्गों को लाइन में लगने की जरूरत नहीं है. खबर है कि मुलुंड जंबो सेंटर बुजुर्गों को नाश्ता देने के लिए पैसे जुटा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 7, 2021, 11:21 AM IST
  • Share this:
मुंबई. भारत (India) में 60 साल की उम्र से ज्यादा के नागरिकों और बुजुर्गों को वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) लगाए जाने का काम जारी है. टीका केंद्रों (Vaccination Centers) और प्रक्रिया के दौरान बुजुर्गों को परेशानी से बचाने के लिए मुंबई के अस्पतालों ने पूरी तैयारी कर ली है. केवल वैक्सीन ही नहीं वरिष्ठ नागरिकों (Senior Citizens) को कोविन ऐप (Co-win app) पर रजिस्टर कराने के लिए कैंप का आयोजन भी कर रहे हैं. देश में बीती 1 मार्च से वैक्सीन प्रोग्राम का दूसरा चरण शुरू हो चुका है. जनवरी में शुरू हुए टीकाकरण के पहले चरण में स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन डोज दिए गए थे.

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया कि रिपोर्ट बताती है कि वरिष्ठ नागरिकों को कोविन ऐप पर रजिस्टर कराने के लिए कॉर्पोरेट अस्पताल सोसाइटी में जाकर कैंप आयोजित कर रहे हैं. इस दौरान कई डॉक्टर और अस्पताल स्टाफ बुजुर्गों को वैक्सीन प्रक्रिया के दौरान चाय और नाश्ता मुहैया कराते नजर आ रहे हैं. इतना ही नहीं देश की आर्थिक राजधानी में बुजुर्गों की सुविधाओं का पूरा ध्यान रखा गया है.

यह भी पढ़ें: Covid Vaccination 2nd Phase: कैसे करें Co-Win पर रजिस्ट्रेशन, क्या है वैक्सीन का दाम, जानें हर सवाल का जवाब



अस्पतालों में पहुंचने पर व्हीलचेयर की व्यवस्था है. वहीं, 80 साल से ज्यादा के बुजुर्गों को लाइन में लगने की जरूरत नहीं है. खबर है कि मुलुंड जंबो सेंटर बुजुर्गों को नाश्ता देने के लिए पैसे जुटा रहा है. डीन डॉक्टर प्रदीप आंगरे बताते हैं 'द लॉयंस लॉयन्स क्लब ने हमारी मदद करने में दिलचस्पी दिखाई है.' डॉक्टर आंगरे वैक्सीन केंद्र पर पहुंचे लोगों को मास्क पहनने और पैरासीटामॉल लेने की सलाह दे रहे हैं.

डॉक्टर पराग रिंदानी बताते हैं कि उन्होंने मुंबई स्थित अस्पताल में व्हीलचेयर्स की संख्या बढ़ा दी है. टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में उन्होंने बताया कि हमारा अस्पताल स्टाफ वरिष्ठ नागरिकों की मदद करने के लिए तैयार है. इसके अलावा उनका अस्पताल हाउसिंग इलाकों में बुजुर्गों के लिए चाय पहुंचा रहा है. इन इलाकों में कोविन ऐप पर रजिस्टर कराने की प्रक्रिया जारी है. कोविड-19 वैक्सीन प्रोग्राम को मिली प्रतिक्रिया काफी अच्छी रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज