Assembly Banner 2021

विधानसभा चुनावः असम चुनाव लड़ेगी तेजस्वी की RJD, गठबंधन के लिए कांग्रेस के संपर्क में

राजद के वरिष्ठ नेता ने यह भी कहा कि वह भाजपा और उसके सहयोगियों के खिलाफ चुनाव प्रचार करने के लिए चुनाव वाले अन्य राज्यों पश्चिम बंगाल, केरल और पुडुचेरी भी जायेंगे. फाइल फोटो

राजद के वरिष्ठ नेता ने यह भी कहा कि वह भाजपा और उसके सहयोगियों के खिलाफ चुनाव प्रचार करने के लिए चुनाव वाले अन्य राज्यों पश्चिम बंगाल, केरल और पुडुचेरी भी जायेंगे. फाइल फोटो

Assam Assembly Election 2021: तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने कहा कि कांग्रेस हमारा स्वाभाविक और पुराना सहयोगी है, और हम बिहार में एक साथ हैं. हम उन सभी लोगों के साथ रहेंगे जो संविधान में विश्वास रखते हैं.

  • Share this:
गुवाहाटी. राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के नेता तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने शनिवार को कहा कि उनकी पार्टी ‘‘समान विचारधारा’’ वाले दलों के साथ असम में आगामी विधानसभा चुनाव (Assembly Election) लड़ेगी. यादव ने गुवाहाटी की अपनी पहली यात्रा के दौरान कहा कि वह पहले ही कांग्रेस असम के प्रमुख रिपुन बोरा (Ripun Bora) से मुलाकात कर चुके हैं और गठबंधन को औपचारिक रूप देने के लिए एआईयूडीएफ (AIUDF) के साथ बातचीत करेंगे. उन्होंने कहा, ‘‘राजद ने अपनी मौजूदगी को बढ़ाने का फैसला किया है. इसलिए, हम असम विधानसभा चुनावों में भाग लेंगे … हम समान विचारधारा वाले दलों से बात कर रहे हैं.’’

बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता यादव ने कहा कि कांग्रेस और लोकसभा सांसद बदरुद्दीन अजमल के नेतृत्व वाले एआईयूडीएफ के अलावा राजद अन्य छोटे दलों के संपर्क में भी है. यह पूछे जाने पर कि क्या राजद असम में कांग्रेस के नेतृत्व वाले महागठबंधन का हिस्सा होगी, उन्होंने कहा, ‘‘हम संप्रग का हिस्सा हैं. कांग्रेस हमारा स्वाभाविक और पुराना सहयोगी है, और हम बिहार में एक साथ हैं. हम उन सभी लोगों के साथ रहेंगे जो संविधान में विश्वास रखते हैं.’’

'पांच फीसदी हिंदी भाषी लोग'



राजद प्रमुख लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने कहा, ‘‘बिहार, पश्चिम बंगाल, झारखंड, ओडिशा और छत्तीसगढ़ के लगभग पांच फीसदी हिंदी भाषी लोग हैं. 11 सीटों पर ऐसे लोगों की संख्या काफी है, लेकिन हम केवल वहीं लड़ेंगे, जहां जीतने की संभावना अधिक हो.’’ राजद के वरिष्ठ नेता ने यह भी कहा कि वह भाजपा और उसके सहयोगियों के खिलाफ चुनाव प्रचार करने के लिए चुनाव वाले अन्य राज्यों पश्चिम बंगाल, केरल और पुडुचेरी भी जायेंगे.
'संवैधानिक संस्थान अब स्वतंत्र नहीं'

सत्तारूढ़ भाजपा पर निशाना साधते हुए यादव ने कहा कि सरकार गरीब, बेरोजगार युवाओं, अर्थव्यवस्था, किसानों, छात्रों और महिलाओं के बारे में चिंतित नहीं है, लेकिन इसका एकमात्र उद्देश्य ‘‘हिंदू-मुस्लिम राजनीति पर बात कर’’ सत्ता में बने रहना है. उन्होंने कहा, ‘‘सीबीआई, इनकम टैक्स, ईडी, आरबीआई जैसे सभी संवैधानिक संस्थान अब स्वतंत्र नहीं हैं. ये सभी पार्टी (भाजपा) के विभिन्न प्रकोष्ठों के रूप में काम कर रहे हैं. चुनाव आयोग के चुनाव कार्यक्रम की घोषणा करने से पहले, भाजपा आईटी सेल को तारीखों के बारे में जानकारी होती है.’’

'असम में तीन चरणों में चुनाव'

बिहार का उदाहरण देते हुए, यादव ने कहा कि भाजपा द्वारा किए गए सभी वादे विफल हो गए हैं और भाजपा-जद (यू) की सरकार के दौरान राज्य (बिहार) में अपराध 101 प्रतिशत बढ़ गए हैं और ‘‘यही कारण है कि असम में दूसरी बार भाजपा सरकार नहीं होनी चाहिए.’’ असम में विधानसभा चुनाव के लिए तीन चरणों के कार्यक्रम पर, यादव ने कहा, राज्य के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है, क्योंकि आमतौर पर यहां दो चरणों में मतदान होता है.

उन्होंने पूछा, ‘‘अधिक संख्या में चरणों का मतलब बिगड़ती हुई कानून-व्यवस्था है. फिर इसके लिए किसे दोषी ठहराया जाए? क्या वर्तमान सरकार इसके लिए दोषी नहीं है?’’

(Disclaimer: यह खबर सीधे सिंडीकेट फीड से पब्लिश हुई है. इसे News18Hindi टीम ने संपादित नहीं किया है.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज