लाइव टीवी

तेलंगाना: हड़ताल पर सख्त मुख्यमंत्री KCR, 48 हजार कर्मचारियों को एक झटके में किया बर्खास्त

News18Hindi
Updated: October 7, 2019, 12:16 PM IST
तेलंगाना: हड़ताल पर सख्त मुख्यमंत्री KCR, 48 हजार कर्मचारियों को एक झटके में किया बर्खास्त
मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने इस हड़ताल को 'अक्षम्य अपराध' करार दिया है.

रविवार को तेलंगाना सरकार (Telangana Government) ने एक बड़ा फैसला लेते हुए राज्य सड़क परिवहन निगम (TSRTC) के 48 हजार कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2019, 12:16 PM IST
  • Share this:
हैदराबाद. तेलंगाना (Telangana) के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने राज्य सड़क परिवहन निगम (TSRTC) की अनिश्चितकालीन हड़ताल को 'अक्षम्य अपराध' करार देते हुए निगम के 48 हजार से ज्यादा कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया. सरकार ने यह भी कहा है कि हड़ताल कर रही यूनियनों से अब कोई बात नहीं की जाएगी.

ये कर्मचारी शनिवार को बेमियादी हड़ताल पर चले गए थे. सरकार ने उन्हें उसी शाम छह बजे तक काम पर लौटने का अल्टीमेटम दिया था. हालांकि इसके बाद भी कर्मचारी अपनी मांगों पर अड़े रहे. इसके बाद केसीआर ने रविवार को हुई उच्च स्तरीय बैठक में सभी हड़ताली कर्मचारियों की बर्खास्तगी का ऐलान कर दिया.

Telangana government takes big decision 48 thousand employees dismissed
राज्य सड़क परिवहन निगम (TSRTC) के 48 हजार कर्मचारियों को किया बर्खास्त


केसीआर (K Chandrasekhar Rao) ने 48,000 से ज्यादा हड़ताली कर्मचारियों को बर्खास्त करने का ऐलान करते हुए कहा, 'त्योहारों के वक्त में हड़ताल पर जाना अक्षम्य अपराध है. TSRTC पहले से ही 12000 करोड़ रुपये के भारी घाटे में चल रही है और इसका कर्ज 5000 करोड़ रुपये पर जा पहुंचा है.'

 

क्या है कर्मचारियों की मांग
बता दें कि तेलंगाना राज्य सड़क परिवहन निगम (Telangana State Road Transport Corporation) के 48,000 कर्मचारी अपनी समस्याओं के समाधान की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठे थे. इनकी मांग थी कि TSRTC का सरकार में पूर्ण विलय कर दिया जाए. उनकी अन्य मांगों में निगम के खाली पदों को भरना, चालक और सह चालकों को रोजगार की सुरक्षा देना, वेतनमान की 2017 की सिफारिशों को लागू करना और डीजल पर लगने वाले कर को समाप्त करना शामिल है.
Loading...

बता दें कि टीएसआरटीसी के कर्मचारी और कार्यकारी यूनियन ने बसों का बहिष्कार शुक्रवार रात से कर रखा है. पूरे तेलंगाना में करीब 50,000 कर्मचारी काम करते हैं. सरकार ने यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए वैकल्पिक व्यवस्था की है और अस्थायी तौर पर कई चालकों और सहचालकों को काम पर रखा है.

ये भी पढ़ें : आरे में पेड़ काटने पर SC की रोक, हिरासत में लिए गए लोगों को छोड़ने का आदेश

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 7, 2019, 12:16 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...