Home /News /nation /

हुजूराबाद उपचुनाव: तेलंगाना में गांव वालों ने अपने 'कीमती' वोट के लिए मांगा कैश, महिलाओं ने दिया धरना

हुजूराबाद उपचुनाव: तेलंगाना में गांव वालों ने अपने 'कीमती' वोट के लिए मांगा कैश, महिलाओं ने दिया धरना

अपने वोटर आईडी के साथ मतदान देने के लिए कतार में खड़ी महिलाएं.  (सांकेतिक तस्वीर)

अपने वोटर आईडी के साथ मतदान देने के लिए कतार में खड़ी महिलाएं. (सांकेतिक तस्वीर)

Huzurabad Assembly By elections: हुजूराबाद से विधायक और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री एताला राजेंदर को भूमि हड़पने के आरोपों में राज्य मंत्रिमंडल से हटाये जाने के मद्देनजर जून में उनके इस्तीफा देने के बाद यह उपचुनाव कराने की जरूरत पड़ी.

    हैदराबाद. तेलंगाना के हुजूराबाद विधानसभा क्षेत्र के कई गांवों में मतदाताओं, विशेषकर महिलाओं ने शनिवार को होने वाले उपचुनाव से पहले अपने ‘कीमती’ वोट के लिए खुले तौर पर नकदी की मांग करते हुए धरना दिया. दिलचस्प बात यह है कि उन्होंने रिश्वत की मांग ऐसे की जैसे कि यह उनका अधिकार था और नेताओं के खिलाफ नारे लगाए.

    दरअसल, हुजूराबाद से विधायक और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री एताला राजेंदर को भूमि हड़पने के आरोपों में राज्य मंत्रिमंडल से हटाये जाने के मद्देनजर जून में उनके इस्तीफा देने के बाद यह उपचुनाव कराने की जरूरत पड़ी. राजेंदर ने टीआरएस छोड़ दिया था और भाजपा में शामिल हो गये थे. वह भाजपा के टिकट पर उपचुनाव लड़ रहे हैं. मतगणना दो नवंबर को होगी.

    सरपंच के घर के सामने महिलाओं का धरना
    ‘द टाइम्स ऑफ इंडिया’ में प्रकाशित खबर के मुताबिक, प्रदर्शनकारियों की मुख्य शिकायत यह थी कि जब अन्य गांवों में उनके जैसे लोगों को कुछ राजनीतिक दलों द्वारा लिफाफे सौंपे गए थे, तब उन्हें नकद क्यों नहीं दिया गया था. वीणावनका मंडल में एक गांव के सरपंच के घर के सामने गुस्साई महिलाएं बैठ गईं और मांग की कि उन्हें भी भुगतान किया जाए. जैसे ही यह खबर फैली कि कुछ पार्टियां पैसे बांट रही हैं, रंगपुर, कटरापल्ली और पेद्दापपैया पल्ले गांवों में मतदाता कतार में लग गए. उन्होंने गांव के केंद्रों में बैठकर धरना दिया.

    UK Politics : हरीश रावत का विजय बहुगुणा को खुला जवाब – ‘क​हिए कहां से लड़ेंगे चुनाव, मैं वहीं से लड़ लूंगा’

    ‘घर में तीन मतदाता, लेकिन केवल एक वोट के लिए नकद मिला’
    कुछ ने पार्टियों के खिलाफ नारे भी लगाए. हुजूराबाद निर्वाचन क्षेत्र के सभी पांच मंडलों और दो नगर पालिकाओं के कई गांवों में भी इसी तरह के धरने हुए. पुलिस को उन्हें जाने के लिए मनाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी. एक महिला को एक वीडियो में यह कहते सुना गया, “एक पार्टी के नेताओं ने प्रत्येक वोट के लिए कुछ लोगों को पैसे दिए, लेकिन हमें राशि नहीं मिली. हम भी गांव के मतदाता हैं.” एक अन्य को यह कहते हुए सुना गया कि उसके घर में तीन मतदाता हैं, लेकिन उसे केवल एक वोट के लिए नकद मिला.

    ‘बकाया’ भुगतान करने पर ही देंगे मतदान
    महिलाओं से पैसे की मांग करने और धरने पर बैठने का वीडियो वायरल हो गया है. एक अन्य वीडियो में एक शख्स पैसे को लेकर सरपंच और वार्ड सदस्यों से बहस करता नजर आता है. कुछ गांवों में, लोगों ने कहा कि उन्हें ‘पूरी राशि’ नहीं मिली और उन्होंने जोर देकर कहा कि पार्टियां ‘बकाया’ का भुगतान करें, ऐसा न करने पर वे मतदान नहीं कर सकते.

    हुजूराबाद आरओ सीएच रविंदर रेड्डी ने कहा कि उन्हें सभी पक्षों से शिकायतें मिली हैं. उन्होंने टीओआई को बताया, “जब हमने उड़न दस्ते और पुलिस को भेजा, तो हमें बाहरी लोग नहीं मिले.”

    Tags: Telangana

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर