Home /News /nation /

पुजारी, पुलिस से लेकर छात्र तक : पढ़ें कठुआ के दोषियों के जुर्म की दास्तां

पुजारी, पुलिस से लेकर छात्र तक : पढ़ें कठुआ के दोषियों के जुर्म की दास्तां

पुजारी, पुलिस से छात्र तक : ये है कठुआ के दोषियों के जुर्म की दास्तां

पुजारी, पुलिस से छात्र तक : ये है कठुआ के दोषियों के जुर्म की दास्तां

जम्मू-कश्मीर के कठुआ में आठ साल की बच्ची के साथ हुए रेप और हत्या के मामले में पठानकोट स्पेशल कोर्ट ने सात में से छह आरोपियों को दोषी करार दिया है.

    जम्मू-कश्मीर के कठुआ में आठ साल की बच्ची के साथ हुए रेप और हत्या के मामले में पठानकोट की विशेष अदालत ने फैसला सुना दिया है. पठानकोट स्पेशल कोर्ट ने इस मामले के सात में से छह आरोपियों को दोषी करार दिया है. कोर्ट अब दोपहर दो बजे सजा का ऐलान करेगी.

    इस केस में जिन 7 लोगों को गिरफ्तार किया गया था, उनमें स्पेशल पुलिस ऑफिसर दीपक खजुरिया, पुलिस ऑफिसर सुरेंद्र कुमार, रसाना गांव का परवेश कुमार, असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर आनंद दत्ता, हेड कांस्टेबल तिलक राज, पूर्व राजस्व अधिकारी का बेटा विशाल और उसका चचेरा भाई (जिसे नाबालिग बताया गया) शामिल था. इसके अलावा ग्राम प्रधान सांझी राम को इस मामले का मुख्य आरोपी बताया गया.

    इसे भी पढ़ें :- कठुआ रेप कांड: मासूम के साथ दरिंदगी की हद कर दी थी पार

    सांझी राम (60 साल)
    सांझी राम इस पूरी घटना का मास्टर माइंड बताया जाता है. पुलिस की चार्जशीट की मुताबिक, सांझी राम ने बकरवाल समुदाय की मासूम बच्ची का अपहरण, रेप और मर्डर की साजिश रची थी. सांझी राम ने ही रासना गांव में देवीस्थान मंदिर के सेवादार को हटाने के लिए इस घिनौने कृत्य को अंजाम दिया था. इसके लिए वह अपने नाबालिग भतीजे और अन्य छह लोगों को लगातार उकसा रहा था.

    सांझी राम का भतीजा, 15
    सांझी राम ने नाबालिग लड़के को कथित तौर पर अपहरण और बलात्कार के लिए उकसाया गया था, ताकि बकरवाल समुदाय से बदला लिया जा सके. सांझी राम के भतीजे पर आरोप है कि उसने एक लड़की का पहले गला घोंटा फिर पत्थर से सर कुचलकर उसकी हत्या कर दी.

    इसे भी पढ़ें :- कठुआ रेप कांड : पठानकोट की अदालत ने सुनाया फैसला, 6 आरोपी दोषी करार,1 बरी

    दीपक खजुरिया, स्पेशल पुलिस ऑफिसर 
    दीपक खजुरिया ने बच्ची को मारने से पहले रेप करने की इच्छा जाहिर की थी. दीपक का नाम सांझी राम ने अपने बयान में लिया था. कॉल डेटा रिकॉर्ड के हवाले से भी सामने आया कि वह उसी जगह पर मौजूद था जहां बच्ची को 4 दिनों के लिए बंद कर रखा गया था.

    स्पेशल पुलिस ऑफिसर सुरेंद्र कुमार
    चश्मदीदों ने सुरेंद्र कुमार को घटना वाली जगह देखा गया था. कॉल डेटा रिकॉर्ड में भी उनकी मौजूदगी घटना स्थल पर सामने आई है.

    विशाल जंगोत्रा
    विशल जंगोत्रा, सांझी राम का बेटा और मेरठ में पढ़ रहा था. विशाल पर आरोप है कि उसने सांझी राम के नाबालिग भतीजे के साथ मिलकर बच्ची का बलात्कार किया. भतीजे ने कथित रूप से जंगोत्रा ​​को मंदिर में बुलाया और बच्ची के साथ दुष्कर्म किया.

    परवेश कुमार उर्फ ​​मन्नू
    परवेश कुमार, सांझी राम के भतीजे का दोस्त है और उस पर आरोप है कि उसने नाबालिग की मदद करके बच्ची का अपहरण करने में मदद की और सामूहिक बलात्कार को अंजाम दिया.

    उप-निरीक्षक आनंद दत्ता और हेड कांस्टेबल तिलक राज
    इन दोनों ही आरोपियों ने सबूतों को नष्ट करने की कोशिश की और यह भी बताया गया है कि आरोपियों को गिरफ्तारी से बचने के लिए इन लोगों ने बच्ची के कपड़े तक धो डाले.

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    Tags: Jammu kashmir, Jammu kashmir news, Kathua Rape, Kathua rape case

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर