लाइव टीवी

मनी लॉन्ड्रिंग: प्रवर्तन निदेशालय ने सलाहुद्दीन, अन्य से जुड़ी सम्पत्तियों को कब्जे में लिया

भाषा
Updated: November 19, 2019, 11:13 PM IST
मनी लॉन्ड्रिंग: प्रवर्तन निदेशालय ने सलाहुद्दीन, अन्य से जुड़ी सम्पत्तियों को कब्जे में लिया
कुर्क की गई 13 सम्पत्तियों में से सात का कब्जा ले लिया है

प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) ने कहा था, ‘‘कश्मीर (Kashmir) में सर्वाधिक सक्रिय आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन (Hizbul mujahideen) जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में आतंकवादी एवं अलगाववादी गतिविधियों के वित्तपोषण के लिए जिम्मेदार रहा है.

  • भाषा
  • Last Updated: November 19, 2019, 11:13 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) ने वैश्विक रूप से प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन (Hizbul Mujahideen) के प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन (Syed Salauddin) के खिलाफ आतंकवाद के वित्तपोषण (Terror Funding) से संबंधित मामले के सिलसिले में पूर्व में कुर्क की गई 13 सम्पत्तियों में से सात का कब्जा ले लिया है. यह जानकारी अधिकारियों ने मंगलवार को दी.

प्रवर्तन निदेशालय ने इन सम्पत्तियों को इस वर्ष मार्च में धनशोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के तहत कुर्क किया था. अधिकारियों ने बताया कि उपरोक्त कानून के अधिकारक्षेत्र को परिभाषित करने वाले प्राधिकरण द्वारा हाल में आदेश को बरकरार रखने के बाद कब्जा नोटिस जारी किया गया था.

1.22 करोड़ की संपत्तियां कुर्क
प्रवर्तन निदेशालय ने कश्मीर (Kashmir) में 1.22 करोड़ रुपये की कुल 13 सम्पत्तियां कुर्क की थीं जो कि बांदीपुरा निवासी मोहम्मद शफी शाह, अनंतनाग (Ananatnag) जिला निवासी गुलाम नबी और जम्मू कश्मीर के पांच अन्य निवासियों की थीं जो कथित रूप से आतंकवादी संगठन के लिए काम करते थे. उन्होंने बताया कि बाकी छह सम्पत्तियां भी जल्द कब्जे में ली जाएंगी.

जांच एजेंसी ने सलाहुद्दीन, शाह और अन्य के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) और भारतीय दंड संहिता की अन्य धाराओं के तहत एनआईए की ओर से दायर आरोप पत्र को संज्ञान में लेते हुए एक आपराधिक मामला दायर किया था.

कश्मीर में आतंकी गतिविधियों के लिए रहा है जिम्मेदार
प्रवर्तन निदेशालय ने कहा था, ‘‘कश्मीर में सर्वाधिक सक्रिय आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में आतंकवादी एवं अलगाववादी गतिविधियों के वित्तपोषण के लिए जिम्मेदार रहा है.’’उसने कहा, ‘‘स्वयंभू कमांडर सैयद सलाहुद्दीन के नेतृत्व वाला संगठन एक ट्रस्ट जेकेएआरटी (जम्मू कश्मीर अफेक्टीज रिलीफ ट्रस्ट) के जरिये धन एकत्रित करके आईएसआई एवं अन्य पाकिस्तानी इकाइयों के साथ कथित मिलीभगत करके भारतीय धरती पर आतंकवाद का वित्तपोषण करता है.’’

ये भी पढ़ें-
कश्मीर मुद्दे पर संसद में केंद्र सरकार को घेरने की तैयारी में गुलाम नबी आजाद

पाकिस्तानी मीडिया का दावा- भारत से डाक सेवा शुरू लेकिन नहीं भेज सकते पार्सल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 19, 2019, 11:13 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर