लाइव टीवी

जम्मू-कश्मीर: दुकानें खोल रहे लोगों को धमका रहे आतंकी, शटर पर लिखा- आखिरी चेतावनी

भाषा
Updated: September 18, 2019, 5:51 PM IST
जम्मू-कश्मीर: दुकानें खोल रहे लोगों को धमका रहे आतंकी, शटर पर लिखा- आखिरी चेतावनी
श्रीनगर के सिविल लाइन्स इलाके में दो दुकानों पर बड़े-बड़े अक्षरों में ‘LW’ लिखा हुआ और हिज्बुल मुजाहिदीन का निशान बना हुआ था.

अधिकारियों ने बताया कि सशस्त्र आतंकवादियों का दुकान में घुस कर मालिकों को दुकान बंद रखने के लिए कहा. यही नहीं दक्षिण कश्मीर (South Kashmir) में जम्मू-कश्मीर बैंक (Jammu-Kashmir Bank) की शाखाओं में काम करने के लिए जा रहे कर्मचारियों को धमकी देने की भी घटना सामने आई है.

  • भाषा
  • Last Updated: September 18, 2019, 5:51 PM IST
  • Share this:
श्रीनगर. कश्मीर घाटी (Kashmir Valley) में पिछले कुछ समय से आतंकवादी समूह दुकानों को सील कर लोगों को डराने-धमकाने के लिए बाजार, मस्जिदों और अन्य हिस्सों में हाथ से लिखे या टाइप किए हुए पोस्टर चिपका रहे हैं. अधिकारियों ने बताया कि सशस्त्र आतंकवादियों का दुकान में घुस कर मालिकों को दुकान बंद रखने के लिए कहा. यही नहीं दक्षिण कश्मीर (South Kashmir) में जम्मू-कश्मीर बैंक (Jammu-Kashmir Bank) की शाखाओं में काम करने के लिए जा रहे कर्मचारियों को धमकी देने की भी घटना सामने आई है.

जम्मू-कश्मीर पुलिस (Jammu Kashmir Police) ने आधिकारिक रूप से इस पर चुप्पी साधी हुई है लेकिन नाम उजागर न करने की शर्त पर एक अधिकारी ने कहा कि हो सकता है कि उन्हें लग रहा है कि स्थिति उनके हाथ से निकल रही हो. दक्षिण कश्मीर के कुलगाम (Kulgam) जिले के मोड्रिगम गांव में दो दुकानों को टेप से चिपकाने और उन पर प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन हिज्बुल मुजाहिद्दीन (Hizbul Mujahiddin) की सील लगी होने की घटना से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई थी. अधिकारियों ने कहा कि यह कोई दूर-दराज वाले एक गांव या एक आतंकवादी समूह तक सीमित नहीं है.

पोस्टर में लिख रहे लास्ट वॉर्निंग
श्रीनगर (Srinagar) के सिविल लाइन्स इलाके के करण नगर बाजार में दो दुकानों पर बड़े-बड़े अक्षरों में ‘LW’ लिखा हुआ और हिज्बुल मुजाहिदीन का निशान बना हुआ था. उन्होंने बताया कि पुलिस ने ‘LW’ का मतलब ‘लास्ट वार्निंग’ यानि आखिरी चेतावनी से लिया क्योंकि इन दोनों दुकान के मालिकों ने आतंकवादियों की बात नहीं मानी थी.



दुकान खोलना चाहते हैं दुकानदार
एक दुकानदार ने पहचान गुप्त रखने की शर्त पर कहा, “हम दुकानें खोलना चाहते हैं लेकिन घर वापस जाते वक्त हमारी सुरक्षा की गारंटी कौन लेगा. हमने पुलिस अधिकारियों से अकेले में भी बात की है लेकिन हमारी समस्याओं का कोई समाधान नजर नहीं आता.”

प्रशासन को चुनौती दे रहे आतंकी
5 अगस्त से भारत सरकार के जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा रद्द करने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों - जम्मू और कश्मीर और लद्दाख में विभाजित करने के फैसले के बाद से ही ऐसी घटनाएं सामने आई हैं. अधिकारियों ने स्वीकार किया है कि इस तरह के पोस्टर प्रशासन को चुनौती देने के लिए लगाए गए हैं. कई लोग इन्हें गंभीरता से ले रहे हैं और घर के भीतर रहना ही पसंद कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें-
पाकिस्तान को अब PoK जाने का सता रहा डर, डेमोग्राफी बदलने की रच रहा साजिश

जम्मू कश्मीर की तस्वीर बदलने का बड़ा जिम्मा CPWD के पास, 10 हजार करोड़ होंगे खर्च

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 18, 2019, 4:48 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर