बेंगलुरु और मैसूर पर आतंकी खतरा, स्लीपर सेल सक्रिय, अब राज्य सरकार ने उठाया ये कदम

दिवाली और छठ को देखते हुए रेलवे ने आतंकी हमले का अलर्ट जारी किया है. (सांकेतिक तस्वीर)
दिवाली और छठ को देखते हुए रेलवे ने आतंकी हमले का अलर्ट जारी किया है. (सांकेतिक तस्वीर)

बेंगलुरु (Bengaluru) और मैसूर (Mysuru) में आतंकी स्लीपर सेल (Terror Sleeper Cells) भी सक्रिय हैं. जमात उल मुजाहिदीन (जेएमबी) ने पिछले कुछ समय में कर्नाटक के तटीय और अंदरूनी इलाकों के अलावा बंगाल की खाड़ी और अरब सागर के तटीय इलाकों में अपनी सक्रियता बढ़ाई है.

  • Share this:
बेंगलुरु: देश में पिछले कुछ समय से आतंकी खतरे (Terrorist attack) की आशंका जताई जा रही है. अब कर्नाटक के गृह मंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा है कि कर्नाटक (Karnataka) के बेंगलुरु और मैसूर  में आतंकी स्लीपर सेल एक्टिव हैं. आतंकी (terrorists) कर्नाटक के तटीय इलाकों के साथ साथ बंगाल की खाड़ी में मौजूद हो सकते हैं. मैसूर में पत्रकारों से बातचीत करते हुए बोम्मई ने कहा, एनआईए ने जमात उल मुजाहिदीन (जेएमबी) के संदिग्धों की हरकतों के बारे में पता लगाया है. इनकी गतिविधियां कर्नाटक के तटीय इलाकों के साथ राज्य के अंदरूनी हिस्सों में भी देखी गई हैं.

उन्होंने कहा, इस बात की आशंका है कि बेंगलुरु और मैसूर में आतंकी स्लीपर सेल भी सक्रिय हैं. एनआईए चाहती है कि हम अतिरिक्त सतर्कता बरतें. जमात उल मुजाहिदीन (जेएमबी) ने पिछले कुछ समय में कर्नाटक के तटीय और अंदरूनी इलाकों के अलावा बंगाल की खाड़ी और अरब सागर के तटीय इलाकों में अपनी सक्रियता बढ़ाई है.

बेंगलुरु के लिए अलग से एटीएस
बोम्मई ने कहा, 'कर्नाटक में अवैध बांग्लादेशियों की गतिविधियां भी तेज हुई हैं. इस तरह के संकेतों के बाद हमारी पुलिस अलर्ट पर है. खासकर बेंगलुरु और मैसुरु में. हम सार्वजनिक स्थानों पर लोगों से संदिग्ध व्यक्तियों के बारे में जानकारी इकट्ठा कर रहे हैं और इसका विश्लेषण कर रहे हैं.' इससे पहले गृहमंत्री ने घोषणा की थी कि बेंगलुरु के लिए अलग से एंटी टेरोरिस्ट स्क्वायड (ATS) का गठन किया जाएगा. ये एनआईए के साथ मिलकर काम करेगी.
कर्नाटक में एटीएस पहले से है, लेकिन ये निर्णय तब लिया गया, जब बेंगलुरु के आसपास से जमात उल मुजाहिदीन (जेएमबी) के कई संदिग्धों को पकड़ा गया. इनके पास से विस्फोटक सामग्री और कई डिवाइस भी बरामद की गई है. बांग्लादेश का आतंकी समूह पूरे भारत में अपना नेटवर्क फैलाना चाहता है. उसके 125 से ज्यादा संदिग्‍धों की सूची एटीएस के पास है.



यह भी पढ़ें
जम्‍मू-कश्‍मीर प्रशासन ने सेब कारोबारियों को आतंकी हमलों से बचाने के लिए बनाया खास प्‍लान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज