• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • युवाओं को आतंकी बनाने के लिए अब प्रोफेसरों और रिलीजिस स्कॉलर्स की मदद ले रहे आतंकी संगठन : सूत्र

युवाओं को आतंकी बनाने के लिए अब प्रोफेसरों और रिलीजिस स्कॉलर्स की मदद ले रहे आतंकी संगठन : सूत्र

जमील तीन युवाओं को लश्कर के लिए रिक्रूट कर चुका है.(सांकेतिक तस्वीर)

जमील तीन युवाओं को लश्कर के लिए रिक्रूट कर चुका है.(सांकेतिक तस्वीर)

इसी सिलसिले में कश्मीर यूनिवर्सिटी (Kashmir University) का एक 53 साल का प्रोफेसर खूफ़िया एजेंसियों के रडार पर है. उस पर बड़े पैमाने पर पाकिस्तान के इशारे पर कश्मीरी युवाओं को आतंक के दलदल में धकेलने और आतंकी तंजीमों के लिए रिक्रूटमेंट करने का शक है .

  • News18.com
  • Last Updated :
  • Share this:

नई दिल्ली:  धर्म,धार्मिक कट्टरवाद,पैसा और शोहरत के नाम पर पाकिस्तान में बैठे आतंक के आकाओं ने जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े लोगों को अपनी गिरफ्त में ले लिया है. बड़े पैमाने पर प्रोफेसर (Professors) और रिलीजियस स्कॉलर (Religious Scholars ) का इस्तेमाल युवाओं को गुमराह कर उन्हें आतंक की राह पर धकेलने के लिए किया जा रहा है.

इसी सिलसिले में कश्मीर यूनिवर्सिटी (Kashmir University) का एक 53 साल का प्रोफेसर खूफ़िया एजेंसियों के रडार पर है. उस पर बड़े पैमाने पर पाकिस्तान के इशारे पर कश्मीरी युवाओं को आतंक के दलदल में धकेलने और आतंकी तंजीमों के लिए रिक्रूटमेंट करने का शक है . तीन बच्चों के पिता इस प्रोफेसर को मोटी तनख्वाह मिलती है.

प्रोफेसर के पास लाखों की संपत्ति

इसके अलावा उसके पास आलीशान मकान,इंस्टीट्यूट और ज़मीन भी है.  प्रोफेसर के पास लाखों रुपये की संपत्ति है बावजूद इसके पैसों के लिए ,पाकिस्तान के इशारे पर ,उस पर युवाओं को गुमराह करके कंटरपंथ की तरफ धकेलने का शक है. हालांकि उसके बच्चे जिहादी विचारधारा से अब तक दूर हैं. खुफ़िया एजेंसियों के सूत्रों के मुताबिक हिजबुल आतंकी यासीन इटटू को गुमराह कर आतंक के रास्ते पर धकेलने के पीछे भी यही प्रोफेसर था. इट्टू 2017 में मारा गया. इट्टू अपने बूढ़े माँ बाप और तीन भाइयों को पीछे छोड़ गया.

बड़े पैमानें भर्ती कर रहा है

इसके अलावा बांदीपोरा गवर्नमेंट पॉलीटेक्निक कॉलेज में लेक्चरर रहा जमील अहमद शेर गुरुजी आर्म्स ट्रेनिंग के लिए पाकिस्तान गया, लेकिन आज तक वापस नही आया. वो पाकिस्तान में बैठकर कश्मीरी और पाकिस्तानी युवाओं की आतंकी तंज़ीमो के लिए बड़े पैमाने पर भर्ती कर रहा है.

जमील ने बांदीपोरा के रहने वाले आबिद राशिद डार को अपनी बातों में फंसाकर लश्कर के लिए रिक्रूट किया. आबिद पढ़ाई के नाम पर 2018 में पाकिस्तान गया था. वहां जमील ने उसे लश्कर के लिए रिक्रूट किया था. जमील तीन युवाओं को लश्कर के लिए रिक्रूट कर चुका है. इसमे से दो सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारे जा चुके हैं.

शिक्षा के साथ साथ धर्म और पैेसे का भी इस्तेमाल

शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े इन दोनों लोगों की तरह ही धर्म और पैसे के इस्तेमाल की मोडस ओपेरंडी के तहत कश्मीर में बड़े पैमाने पर युवाओं की भर्ती की वजह से खुफ़िया एजेंसियों के रडार पर एक और शख्स है श्रीनगर का रहने वाला आसिफ भट्ट. हालांकि ये शिक्षा के क्षेत्र से नही है,लेकिन इसकी मोडस ओपेरंडी भी शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े दोनों लोगों जैसी है.,इसने क्रोकरी की दुकान चलाने वाले 29 साल के बिलाल मंज़ूर को धर्म और पैसे के नाम पर इसी साल जनवरी में TRF/लश्कर के लिए रिक्रूट किया.

ये तो महज इनके रिक्रूट किए एक दो नाम हैं,असल में ये लोग धर्म और पाकिस्तान से हो रही फंडिंग के दम पर कश्मीर घाटी के कई युवाओं को गुमराह कर आतंकी तंजीमों के लिए भर्ती कर चुके हैं.
पाकिस्तान ने ज़ाहिर तौर से जम्मू कश्मीर के एजुकेशन डिपार्टमेंट में कई मोल तैयार किये हुए हैं जो उसके लिए पैसे और धर्म के नाम पर युवाओं को गुमराह कर कट्टर पंथ बनाने का काम कर रहे हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज