• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • कश्मीर में घुसने की फिराक में अफगानिस्तान में लड़ चुके लश्कर और जैश आतंकी, 5 और 15 अगस्त को कर सकते हैं हमला- खुफिया सूत्र

कश्मीर में घुसने की फिराक में अफगानिस्तान में लड़ चुके लश्कर और जैश आतंकी, 5 और 15 अगस्त को कर सकते हैं हमला- खुफिया सूत्र

कश्‍मीर में आतंकी हमले की आशंका के मद्देनजर सुरक्षाबल अलर्ट. (प्रतीकात्मक)

Jammu Kashmir: कश्मीर घाटी से 370 हटने की दूसरी बरसी के मौके पर कानून व्यवस्था खराब करने और हिंसा भड़काने की भी साज़िश रची जा रही है. ये आतंकी पीओके में मौजूद हैं.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. अफगानिस्तान (Afghanistan) में लड़ाई लड़ चुके लश्कर ए तैयबा, जैश-ए मोहम्‍मद और अलबदर जैसे आंतकी संगठनों के आतंकवादी (Terrorists) 5 और 15 अगस्त के मौके पर जम्‍मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में बड़े हमले की फिराक में हैं. खुफिया विभाग को पता चला है कि अफगानिस्तान में लड़ाई लड़ चुके ये आतंकी फिलहाल पाकिस्‍तान अधिकृत कश्‍मीर (PoK) में मौजूद हैं और कश्मीर में दाखिल होने की फिराक में हैं.

बताया जा रहा है कि खुफिया विभाग ने इन आतंकियों के नाम की भी पहचान कर ली है. लश्कर आतंकी जलालुद्दीन और मूसा नौशेरा सेक्टर के दूसरी ओर पीओके के एलओसी से सटे सेरी इलाके में घुसपैठ के लिए रेकी करते हुए नज़र आए हैं. ये दोनों अफगानिस्तान में भी लड़ाई लड़ चुके हैं. इसके अलावा अलबदर के तीन आतंकी नूर मोहम्मद, अबू सालेह और यासिर भी पीओके के पट्टन इलाके से भारत की सीमा में घुसपैठ के लिए रेकी कर रहे हैं. इन्हें भी अफगानिस्तान में ट्रेनिंग दी गई है और वहां लड़ने का भी इन्हें अनुभव है.

ये इलाका भारत के माला, सुंदरबनी सेक्टर और राजौरी के दूसरी ओर सीमा पार पड़ता है. साथ ही जम्मू कश्मीर गोरिल्ला फ़ोर्स के चार अज्ञात आतंकी पीओके के पंडोरी इलाके से घुसपैठ की कोशिश में हैं. ये इलाका नौशेरा सेक्टर के दूसरी ओर सीमा पार पीओके में पड़ता है.

पुंछ के मंडी इलाके के दूसरी ओर सीमा पार पीओके के कछार बन कैम्प में अफगानिस्तान में ट्रेनिंग ले चुके तीन जैश के आतंकी बैट एक्शन और घुसपैठ की फिराक में हैं. खुफिया एजेंसियों को मिली जानकारी के मुताबिक ये सारे आतंकी भी अफगानिस्तान में प्रशिक्षित हैं और 5 अगस्त (370 हटने की दूसरी बरसी) और 15 अगस्त के मौके पर कुछ बड़ा करने का मंसूबा पाले हुए हैं.

इतना ही नहीं, कश्मीर घाटी से 370 हटने की दूसरी बरसी के मौके पर कानून व्यवस्था खराब करने और हिंसा भड़काने की भी साज़िश रची जा रही है. इस मकसद से ट्विटर पर टूलकिट के इस्तेमाल के जरिये कश्‍मीर ट्विटर स्‍टॉर्म नामक पेज बनाकर लोगों की भावनाओं को भड़काने की कोशिश हो रही है. इस पेज पर पहले से ही भारत विरोधी और भड़काऊ मैसेज तैयार हैं. जिन्हें कॉपी पेस्ट कर ट्वीट करने का ऑप्शन दिया गया है.

इस प्रोपेगेंडा के जरिये वैश्विक स्‍तर पर कश्मीर के मुद्दे पर भारत की छवि खराब करने की कोशिश की जा रही है. खुफिया एजेंसियों के सूत्रों के मुताबिक दक्षिण अफ्रीका में बैठे कुछ लोग बड़े पैमाने पर ट्वीट करने के लिए पैसे की भी पेशकश कर रहे हैं. आतंकी हमले और सोशल मीडिया के जरिये प्रोपगेंडा वॉर चलाकर आईएसआई 5 अगस्त और 15 अगस्त के मौके पर जम्मू कश्मीर में हिंसा फैलाना चाहती है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज