लाइव टीवी

सरकार का खुलासा- जम्मू कश्मीर में घुसपैठ की साजिश के लिए ये तरकीबें आज़मा रहे आतंकी

भाषा
Updated: January 15, 2020, 8:25 PM IST
सरकार का खुलासा- जम्मू कश्मीर में घुसपैठ की साजिश के लिए ये तरकीबें आज़मा रहे आतंकी
पिछले साल जम्मू कश्मीर के संबंध में संवैधानिक बदलाव के मद्देनजर कुछ बंदिशें लगायी गयी थीं.

कैडरों को फिर सक्रिय करने तथा ना केवल कश्मीर (Kashmir) खंड में बल्कि जम्मू (Jammu) खंड के भी कुछ इलाके में राष्ट्र विरोधी गतिविधियों की कोशिश हो रही है.

  • Share this:
जम्मू. जम्मू कश्मीर सरकार (Jammu Kashmir Government) ने बुधवार को कहा कि आतंकी संगठन भारत (India) में घुसपैठ की साजिश को अंजाम देने और कश्मीर (Kashmir) में अपने साथियों को फिर से सक्रिय करने के लिए नई तरकीबें आजमा रहे हैं. खबर कूट मोबाइल संवाद और वॉइस ऑन इंटरनेट प्रोटोकॉल (Voice on Internet Protocol) का इस्तेमाल कर रहे हैं.

सरकार के प्रवक्ता रोहित कंसल (Rohit Kansal) ने यहां संवाददाताओं से कहा कि यह यह एक साबित तथ्य है. उन्होंने कहा, ‘‘आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए वॉइस ऑन इंटरनेट प्रोटोकॉल तथा इनक्रिप्टेड (कूट) मोबाइल संवाद का प्रयोग करते हुए और विभिन्न सोशल मीडिया (Social Media) अनुप्रयोगों के जरिए सीमा पार से घुसपैठ के लिए आतंकवादी लगातार प्रयास कर रहे हैं. कैडरों को फिर सक्रिय करने तथा ना केवल कश्मीर (Kashmir) खंड में बल्कि जम्मू (Jammu) खंड के भी कुछ इलाके में राष्ट्र विरोधी गतिविधियों की कोशिश हो रही है.’’

वीओआईपी इंटरनेट आधारित फोन सर्विस है.

पिछले साल लगाई गई थीं बंदिशें

कंसल ने कहा कि पिछले साल जम्मू कश्मीर के संबंध में संवैधानिक बदलाव के मद्देनजर कुछ बंदिशें लगायी गयीं. उन्होंने कहा, ‘‘लैंडलाइन और मोबाइल टेलीफोन, एसएमएस सेवा पूरी तरह चालू है. जम्मू खंड में फिक्सड लाइन ब्रॉडबैंड सुविधा कायम है, जबकि कश्मीर खंड में आम लोगों, छात्रों आदि की सुविधा के लिए 844 ई-टर्मिनल बनाए गए. पर्यटकों के लिए 69 विशेष काउंटर बनाए गए. जीएसटी रिटर्न्स और विभिन्न परीक्षाओं के लिए अलग अलग टर्मिनल बनाए गए.’’

केंद्र शासित क्षेत्र के प्रशासन में योजना और विकास के प्रधान सचिव कंसल ने कहा कि आवश्यक सुविधाओं वाले विभागों सहित कई सरकारी विभागों और सरकारी अस्पतालों में ब्रॉडबैंड इंटरनेट की सुविधा है.

ये भी पढ़ें-J&K जाएंगे 36 केंद्रीय मंत्री, लोगों को बताएंगे आर्टिकल 370 हटाने के फायदे

J&K पुलिस के डीजीपी बोले-दविंदर को बर्खास्त करने की सिफारिश,मेडल भी छीना जाएगा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 8:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर