• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • आतंकियों के निशाने पर था जम्‍मू का रघुनाथ मंदिर, हमले की पूरी प्‍लानिंग कर चुके थे दहशतगर्द

आतंकियों के निशाने पर था जम्‍मू का रघुनाथ मंदिर, हमले की पूरी प्‍लानिंग कर चुके थे दहशतगर्द

जम्‍मू के रघुनाथ मंदिर में आतंकी हमले की साजिश हुई नाकाम. 
(सांकेतिक तस्वीर)

जम्‍मू के रघुनाथ मंदिर में आतंकी हमले की साजिश हुई नाकाम. (सांकेतिक तस्वीर)

पकड़े गए आतंकियों (Terrorist) ने बताया है कि वह जम्‍मू (Jammu) के रघुनाथ मंदिर (Raghunath Temple) में हमला करने की प्‍लानिंग कर चुके थे. उन्‍होंने बताया कि इस हमले के बाद कई और मंदिरों को भी निशाना बनाया जाना था.

  • Share this:
    श्रीनगर. जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu-Kashmir) में एक बार फिर सुरक्षाबलों (Security Forces) ने मुस्‍तैदी ने बड़े आतंकी हमले (Terrorist Attack) को होने से रोक दिया है. जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस ने पिछले शनिवार देर रात लश्कर-ए-तैयबा (Lashkar-e-Taiba) के संगठन के आतंकी संगठन टीआरएफ के जिस आतंकी (Terrorist) को पकड़ा था, उनके दो अन्‍य साथियों को भी देर रात गिरफ्तार कर लिया गया है. पकड़े गए आतंकियों ने बताया है कि वह जम्‍मू के रघुनाथ मंदिर ( Raghunath Temple) में हमला करने की प्‍लानिंग कर चुके थे. उन्‍होंने बताया कि इस हमले के बाद कई और मंदिरों को भी निशाना बनाया जाना था.

    जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस ने पिछले शनिवार देर रात लश्कर-ए-तैयबा के संगठन (टीआरएफ) के आतंकी नदीम को पकड़ा था. उसके पास से 5 किलो आईईडी बरामद किया गया था. नदीम से पूछताछ के बाद शुक्रवार देर रात पुलिस ने उसके दो और साथियों को भी पकड़ लिया है. पकड़े गए आतंकियों की पहचान नदीम आयूव राथर निवासी कश्मीर और तालिब उर रहमान निवासी बनिहाल के रूप में हुई है. यह दोनों द रेजिस्टेंस फ्रंट (टीआरएफ) के आतंकी हैं.

    इसे भी पढ़ें :- भारत-पाकिस्तान के बीच समझौते के बाद सुधरे जम्मू-कश्मीर के हालात, नहीं हुई कोई घुसपैठः सेना प्रमुख

    नदीम उल हक जिसे पुलिस ने पिछले शनिवार को जम्मू में गिरफ्तार किया था, उसने पूछताछ में खुलासा किया है कि वह सीमा पार बैठे टीआरएफ के हैंडलर्स के संपर्क में था और व्हाट्सएप कॉल और व्हाट्सएप मैसेज के जरिए अपने अन्‍य साथियों को निर्देश दे रहा था.

    इसे भी पढ़ें :- जम्मू कश्मीर में सभी पार्टियों के नेताओं से अलग अलग मिलेगा परिसीमन आयोग

    नदीम ने पुलिस को बताया है कि वह तीनों मिलकर जम्मू के अलग-अलग मंदिरों पर एक साथ हमला करने की प्लानिंग में थे. उन्‍होंने कहा कि घाटी में दहशत फैलाने के लिए सबसे पहले रघुनाथ मंदिर को निशाना बनाया जाना था. नदीम ने बताया कि मंदिर पर हमला करने के लिए उसने आईईडी अपने पास रखी थी. बता दें कि मार्च 2002 में भी जम्‍मू-कश्‍मीर के ऐतिहासिक रघुनाथ मंदिर में फिदायीन हमला हो चुका है. इस हमले में दो दर्जन से अधिक लोग मारे गए थ्‍ज्ञे जबक‍ि सैकड़ों लोग घायल हुए थे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज