अपना शहर चुनें

States

PM मोदी ने कोलकाता यात्रा का VIDEO किया ट्वीट, अनोखे अंदाज में कहा- थैंक्यू बंगाल!

पीएम ने कहा, आज कोलकाता में आना मेरे लिए बहुत भावुक कर देने वाला क्षण है.
पीएम ने कहा, आज कोलकाता में आना मेरे लिए बहुत भावुक कर देने वाला क्षण है.

PM Modi West Bengal Visit: पीएम मोदी ने कहा कि विश्व युद्ध के माहौल में देशों के बीच पल-पल बदलते रिश्तों के बीच क्यों वो हर देश में जाकर भारत के लिए समर्थन मांग रहे थे? ताकि भारत आजाद हो सके, हम और आप आजाद भारत में सांस ले सकें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 24, 2021, 11:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. स्वंतत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Netaji Subhash Chandra Bose) की 125वीं जयंती पर कोलकाता में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने एक वीडियो शेयर किया है. इस वीडियो में पीएम मोदी ने अनोखे अंदाज में पश्चिम बंगाल (West Bengal) का शुक्रिया अदा किया है. शनिवार को कोलकाता में पराक्रम दिवस कार्यक्रम के मुख्य आकर्षण के साथ, वीडियो में पीएम मोदी के भाषण के कुछ अंश शामिल हैं जो उन्होंने कोलकाता के विक्टोरिया मेमोरियल हॉल में नेताजी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहे थे.

इस वीडियो को शेयर करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कैप्शन में लिखा, 'पश्चिम बंगाल को कल के भारी स्नेह के लिए धन्यवाद. यहां कोलकाता में पराक्रम दिवस कार्यक्रम के कुछ मुख्य अंश हैं.' देखें VIDEO...


नेताजी के शौर्य और वीरता का वर्णन
पराक्रम दिवस कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा था कि विश्व युद्ध के माहौल में देशों के बीच पल-पल बदलते रिश्तों के बीच क्यों वो हर देश में जाकर भारत के लिए समर्थन मांग रहे थे? ताकि भारत आजाद हो सके, हम और आप आजाद भारत में सांस ले सकें. उन्होंने पूरे देश से हर जाति, पंथ, हर क्षेत्र के लोगों को देश का सैनिक बनाया. पीएम मोदी ने कहा कि आज जब इस वर्ष देश अपनी आजादी के 75 वर्ष में प्रवेश करने वाला है, जब देश आत्मनिर्भर भारत के संकल्प के साथ आगे बढ़ रहा है, तब नेताजी का जीवन, उनका हर कार्य, उनका हर फैसला, हम सभी के लिए बहुत बड़ी प्रेरणा है.



ये भी पढ़ें:  West Bengal Elections: दिलीप घोष बोले- आधार बढ़ाने के लिए अन्य पार्टियों से नेताओं को BJP में शामिल करना जरूरी

पीएम मोदी ने कहा था, "हम सब का कर्तव्य है कि नेताजी के योगदान को पीढ़ी दर पीढ़ी याद किया जाए. इसलिए देश ने तय किया है कि नेताजी की 125वीं जयंती के वर्ष को ऐतिहासिक अभूतपूर्व भव्य आयोजनों के साथ मनाएंगे. देश ने ये तय किया है कि अब हर साल हम नेताजी की जयंती (23 जनवरी) को पराक्रम दिवस के रूप में मनाया करेंगे."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज