लाइव टीवी
Elec-widget

अपनी भारत यात्रा के दौरान ऑस्ट्रेलियाई PM लौटाएंगे ये 3 अनमोल कलाकृतियां

News18Hindi
Updated: November 27, 2019, 5:55 PM IST
अपनी भारत यात्रा के दौरान ऑस्ट्रेलियाई PM लौटाएंगे ये 3 अनमोल कलाकृतियां
ऑस्ट्रेलियाई सरकार भारत को तीन प्राचीन कलाकृतियां लौटाएगी (सांकेतिक तस्वीर, विकी कॉमन)

ऑस्ट्रेलिया (Australia) में इन भारतीय कलाकृतियों पर व्यापक शोध (Extensive Research) हुआ. जिसके बाद इन कलाकृतियों (Artifacts) को भारत को स्वेच्छा से वापस करने का फैसला लिया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 27, 2019, 5:55 PM IST
  • Share this:
कैनबरा. ऑस्ट्रेलिया (Australia) की सरकार ने कहा है कि वह ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन (Australian Prime Minister Scott Morrison) की 2020 में ऑस्ट्रेलिया यात्रा के दौरान सांस्कृतिक रूप से महत्वपूर्ण कलाकृतियों (Important Artifacts) को भारत को लौटाएगा.

यह कलाकृतियां (Artifacts), जो कि नेशनल गैलरी ऑफ ऑस्ट्रेलिया (National Gallery of Australia) में हैं, सद्भाव में खरीदी गई थी. लेकिन बाद में इन पर किए गए व्यापक शोध के बाद ऑस्ट्रेलिया स्वेच्छा से इन कलाकृतियों को भारत को वापस करने का फैसला लेने के लिए प्रेरित हुआ.

'लौटाई जाएंगीं ये कलाकृतियां'
इस आधिकारिक यात्रा के दौरान जिन तीन कलाकृतियों (Artifacts) को लौटाने का निर्णय लिया गया है, वे हैं-

- द्वारपालों का जोड़ा- भारत- 15वीं शताब्दी- तमिलनाडु (Tamil Nadu)
- नागराज- 6वीं से 8वीं शताब्दी के बीच- राजस्थान या मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में कहीं

पीएम मोदी ने ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मॉरिसन को भारत आने का न्यौता दिया था. जिसे स्वीकारते हुए मॉरिसन ने कहा था कि वे अगले साल जनवरी में भारत जाएंगे. इस घोषणा के साथ स्कॉट मॉरिसन (Scott Morrison) ने इस यात्रा को भारत के साथ भागीदारी को शीर्ष स्तर पर मजबूत बनाने की दिशा में एक और कदम बताया था.
Loading...

ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री के साथ आएगा एक व्यापारिक प्रतिनिधिमंडल
मॉरिसन ने यह भी कहा था कि वह प्रधानमंत्री मोदी के निमंत्रण पर भारत की यात्रा पर जाएंगे. यह घोषणा करते समय मॉरिसन सिडनी के लॉवी इंस्टीट्यूट में विदेश नीति (Foreign Policy) से जुड़ा एक संबोधन दे रहे थे. उन्होंने कहा था कि मेरी यात्रा ऑस्ट्रेलिया के साथ शीर्ष स्तर पर भारत की भागीदारी को पक्का करने की दिशा में एक और कदम होगा.

मॉरिसन ने कहा था कि वे इस दौरान रायसीना डायलॉग में वे उद्घाटन भाषण देंगे. इस दौरान उनके साथ एक व्यापारिक प्रतिनिधिमंडल (Business delegation) भी भारत जाएगा. इससे सरकार और कारोबारी साथ आएंगे और भारत के साथ आर्थिक रणनीति को आगे बढ़ाएंगे.

यह भी पढ़ें: भारत-श्रीलंका के रिश्तों में हम्बनटोटा बंदरगाह क्यों निर्णायक?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 27, 2019, 5:55 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...