हैदराबाद गैंगरेप: आरोपियों के शव हो सकते हैं खराब, कोर्ट पहुंचे अस्पताल के लोग

हैदराबाद गैंगरेप: आरोपियों के शव हो सकते हैं खराब, कोर्ट पहुंचे अस्पताल के लोग
हैदराबाद एनकाउंटर के बाद से इस पर सवाल उठ रहे हैं. इसकी जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने आयोग गठित किया है. फाइल फोटो. पीटीआई

हैदराबाद में महिला वेटनरी डॉक्टर से गैंगरेप (Hyderabad Gang Rape) और फिर मारकर जलाने के चारों आरोपियों का पुलिस ने नेशनल हाईवे 44 के पास एनकाउंटर (Hyderabad Encounter) किया था, लेकिन अभी तक परिवारवालों को शव नहीं दिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 19, 2019, 9:45 AM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
हैदराबाद. तेलंगाना (Telangana) की राजधानी हैदराबाद (Hyderabad) में महिला वेटनरी डॉक्टर (Veterinary Doctor) से गैंगरेप (Gangrape) करने के सभी आरोपियों के शवों को अभी भी अस्पताल में सुरक्षित रखा गया है. एनकाउंटर के 14 दिन बाद भी शवों की जांच पूरी न होने पर उसने खराब होने का खतरा बढ़ गया है. इस संबंध में अब अस्पताल प्रशासन ने हाईकोर्ट से निर्देश मांगा है. हैदराबाद के गांधी हॉस्पिटल के वरिष्ठ मेडिकल ऑफिसर के मुताबिक फॉरेंसिक टीम ने इस बात पर चिंता जताई है कि शवों को लंबे समय तक सुरक्षित नहीं रखा जा सकेगा. अस्पताल प्रशासन ने अदालत से मांग की है कि वह शवों के संबंध में कोई निर्देश दे.

फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स के मुताबिक, शवों की स्थिति अभी ठीक है पर आगे इन्हें कब तक और कैसे रखा जाना है इसकी समयसीमा भी तय की जाए. एनकाउंटर में चारों आरोपियों की मौत के बाद सुप्रीम कोर्ट ने जांच आयोग गठित की है. सुप्रीम कोर्ट की बेंच को बताया गया कि एक विशेष जांच दल चारों आरोपियों के मारे जाने के मामले की जांच कर रहा है. जांच टीम इस बात का पता लगाने की कोशिश में लगी हुई है कि चारों आरोपियों के ऊपर पुलिस ने गोली अपने बचाव में चलाई थी या फिर इन सभी को जानबूझ कर मारा गया है.

गौरतलब है कि 6 दिसंबर को पुलिस एनकाउंटर में चारों आरोपियों की मौत हो गई थी. हैदराबाद पुलिस ने चारों आरोपियों को नेशनल हाईवे 44 के पास एनकाउंटर में मार गिराया गया था. ये वही जगह थी जहां पर चारों आरोपियों ने वेटनरी डॉक्टर के साथ रेप करने के बाद आग लगाकर हत्या कर दी थी. इस एनकाउंटर पर कई तरह के सवाल भी उठाए गए हैं. कई संगठनों ने इसे फर्जी करार दिया है. लिहाजा आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट ने घटना के दिन ही चारों शवों को 13 दिसंबर तक संरक्षित करने का आदेश दिया था. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि फिलहाल उनके आखिरी आदेश तक आरोपियों के शव सुरक्षित रखा जाएगा. छह महीने के अंदर सुप्रीम कोर्ट में जांच की रिपोर्ट सौंपी जाएगी.



इसे भी पढ़ें :- हैदराबाद एनकाउंटर पर HC ने उठाए सवाल, पुलिस वालों पर दर्ज हो सकती है नामजद FIR



ऐसे हुआ था एनकाउंटर
ये घटना सुबह साढ़े तीन बजे की है. रिमांड के दौरान पुलिस चारों आरोपियों को घटनास्थल पर ले गई. पुलिस पूरे घटना को आरोपियों की नजर से समझना चाह रही थी. पुलिस ने बताया कि इसी दौरान इन चारों ने उन पर गोलियां बरसानी शुरू कर दी. ऐसे में पुलिस के सामने गोली चलाने के अलावा कोई चारा नहीं था. उन्होंने इन्हें पकड़ने के लिए गोलियां बरसा दी. देखते ही देखते चारों आरोपी वहीं ढेर हो गया. बाद में इन सबकी लाश को सरकारी अस्पताल भेज दिया गया.

इसे भी पढ़ें :- हैदराबाद गैंगरेप-मर्डर केस: 2 आरोपियों ने पहले भी 9 महिलाओं के साथ किया था रेप, फिर जलाकर मार डाला- पुलिस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading