कोरोना वैक्सीन के लिए 50 हजार करोड़ का बजट तय, एक डोज की कीमत होगी 147 रु: रिपोर्ट

रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में प्रति व्यक्ति वैक्सीन खर्च 6-7 डॉलर आएगा.

एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत सरकार ने देश के हर व्यक्ति को वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिए 50 हजार करोड़ रुपये की राशि तय की है. वैक्सीन का गणित देखें तो एक व्यक्ति को दो इंजेक्शन की जरूरत होगी और एक शॉट की कीमत 2 डॉलर होगी. जबकि, प्रति व्यक्ति वैक्सीन खर्च 6-7 डॉलर आएगा.

  • Share this:
    नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने मंगलवार को देशवासियों को संबोधित करते हुए कहा था कि सरकार हर एक व्यक्ति तक कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) पहुंचाने की पूरी कोशिश कर रही है. मामले में जानकारी रखने वाले लोगों के मुताबिक, इस काम के लिए सरकार ने 50 हजार करोड़ रुपये तय किए हैं.

    ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार, मोदी सरकार (Modi Government) ने 130 करोड़ से ज्यादा आबादी वाले देश में प्रति व्यक्ति वैक्सीन का खर्च 6-7 डॉलर का अनुमान लगाया है. रिपोर्ट बताती है कि तय की गई यह राशि जारी वित्त वर्ष के लिए है और इस काम के लिए आगे फंड की कोई कमी नहीं होगी. माना जा रहा है कि भारत में एक व्यक्ति को दो इंजेक्शन की जरूरत होगी, जिसकी कीमत दो डॉलर प्रति शॉट होगी. इसके अलावा 2-3 डॉलर का खर्च वैक्सीन के स्टोरेज और ट्रांसपोर्ट में आएगा.

    अर्थ व्यवस्था पर पड़ा है गंभीर असर
    कोरोना वायरस के कारण भारत समेत दुनिया के कई बड़े देशों की आर्थिक कमर टूट गई है. भारत में करीब 3 महीनों तक चले लॉकडाउन को चरणबद्ध तरीके से खोल दिया गया है. अपने वार्षिक वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक (World Economic Outlook) में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund) ने फाइनेंशियल ईयर 2020 के लिए बढ़त को -10.3 बताया था. हालांकि, आईएमएफ ने यह भी कहा था कि 2021 में भारत की स्थिति 8.8 प्रतिशत की दर से सुधरने की संभावना है, लेकिन इसके लिए नई दिल्ली को अलग-अलग क्षेत्रों में अपने प्रयास बढ़ाने होंगे.

    भारत में बन रही वैक्सीन कोवैक्सिन को मिली तीसरे फेज के ट्रायल की मंजूरी
    मंगलवार को भारत में बन रही कोरोना वैक्सीन कोवैक्सिन को आखिरी दौर के ट्रायल की अनुमति मिल गई है. माना जा रहा है कि भारत बायोटेक की इस वैक्सीन के फेज 3 के ट्रायल अगले महीने से शुरू हो सकते हैं और वैक्सीन फरवरी तक तैयार हो सकती है.

    भारत बायोटेक (Bharat Boiotech) इस वैक्सीन का निर्माण इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (Indian council of medical research) के साथ मिलकर कर रही है. इसके अलावा भारत में सीरम इंस्टीट्यूट और ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रेजेनेका की पार्टनरशिप में एक वैक्सीन बन रही है. इसके साथ ही जायडस कैडिला भी ZyCov-D नाम की एक वैक्सीन तैयार कर रहा है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.