होम /न्यूज /राष्ट्र /

J&K: सज्जाद लोन ने किया ट्वीट, गवर्नर राज्य में नए विवाद न खोजें

J&K: सज्जाद लोन ने किया ट्वीट, गवर्नर राज्य में नए विवाद न खोजें

(फाइल फोटो- सज्जाद लोन)

(फाइल फोटो- सज्जाद लोन)

पीपल्स कॉन्फ्रेंस के नेता सज्जाद लोन ने राज्यपाल सत्यपाल मलिक के खिलाफ ट्टिवटर पर नाराजगी जाहिर की है.

    पीपल्स कॉन्फ्रेंस के नेता सज्जाद लोन ने राज्यपाल सत्यपाल मलिक के खिलाफ ट्टिवटर पर नाराजगी जाहिर की है. उन्होंने गवर्नर पर पीआरसी और जम्मू और कश्मीर बैंक की कार्यप्रणाली में गवर्नर के हस्तक्षेप पर सवाल खड़े किए हैं.

    उन्होंने अपने ट्वीट में कहा, कि गवर्नर को मूलभूत प्रशासन तक ही खुद को सीमित करना चाहिए. पीआरसी और जम्मू-कश्मीर बैंक की प्रक्रिया में किसी भी तरह का मूलभूत बदलाव स्वीकार नहीं है.

    उन्होंने राज्यपाल को खुद में सीमित होने की सलाह दे डाली. राज्यपाल पर आरोप लगाते हुए कहा कि अपने ताकतों को केवल उसी काम तक सीमित रखें जिस काम को करने के लिए आप बने हैं लेकिन जिसे आप कर नहीं रहे हैं. उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि राज्यपाल, राज्य में नए विवाद न खोजें.



    (ये भी पढ़ें- आखिर क्यों मचा है आर्टिकल 35A पर कोहराम? जानें पूरा मामला)

    बता दें राज्यपाल एसपी मलिक की अगुवाई वाले राज्य प्रशासनिक परिषद (एसएसी) के जम्मू एंड कश्मीर बैंक पर किए गए फैसले के खिलाफ विरोध प्रदर्शन चल रहा है. परिषद ने बैंक को सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम के तौर पर मान्यता देने का फैसला किया था.

    एसएसी के फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया जे-के बैंक ऑफिसर्स फेडरेशन के बैनर तले बैंक के सैकड़ों कर्मचारियों ने एम ए रोड स्थित उसके कॉरपोरेट मुख्यालय के सामने प्रदर्शन भी किया था.

    एसएसी ने पिछले सप्ताह जम्मू कश्मीर बैंक लिमिटेड को सार्वजनिक उपक्रम मानने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी थी.

    ये भी पढ़ें - कश्मीर पर आखिर सरदार पटेल चाहते क्या थे

    इसके साथ ही बैंक को राज्य के अन्य पीएसयू की तरह जम्मू-कश्मीर सूचना का अधिकार अधिनियम, 2009 के प्रावधान के तहत लाया गया. इसके अलावा, बैंक को अब सीवीसी के दिशा-निर्देशों को भी मानना पड़ेगा. राज्य के अन्य पीएसयू की भांति ही जे एंड के बैंक को भी राज्य विधानसभा के प्रति जवाबदेह बनाने का फैसला किया गया.

    एसएसी के इस फैसले की मुख्यधारा के राजनीतिक दलों, अलगाववादियों और कारोबारी संगठनों ने बड़े पैमाने पर आलोचना की है.

    ये भी पढ़ें - दो पन्नों के उस दस्तावेज ने कश्मीर को भारत का बना दिया

    Tags: Jammu and kashmir, PDP, Satyapal malik

    अगली ख़बर