Zydus Cadila की कोरोना वैक्सीन का दूसरा ट्रायल फेज आज से शुरू, पहला फेज रहा सफल

Zydus Cadila की कोरोना वैक्सीन का दूसरा ट्रायल फेज आज से शुरू, पहला फेज रहा सफल
Zydus Cadila कंपनी का दावा है कि उनकी वैक्सीन ज्यादा सुरक्षित हैं.

Zydus Cadila ने कहा कि उनकी वैक्सीन ZyCoV-D का पहला क्लिनिकल फेज ट्रायल सुरक्षित रहा है. आज से वैक्सीन के दूसरे फेज का ट्रायल शुरू होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 6, 2020, 11:14 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस के लिए भारत में वैक्सीन विकसित कर रही कंपनी Zydus Cadila ने कहा कि उनकी वैक्सीन ZyCoV-D का पहला क्लिनिकल फेज ट्रायल सुरक्षित और सफल रहा है. अब गुरुवार यानी आज से इस वैक्सीन का दूसरा क्लिनिकल ट्रायल शुरू होगा. वहीं, ICMR और भारत बायोटेक ने मिल कर एक बार फिर COVID-19 की वैक्सीन का पहला क्लिनिकल ट्रायल पूरा किया है. जाइडस ने कहा कि बीते महीने शुरू हुए पहले क्लिनिकल फेज ट्रायल में स्वस्थ वॉलंटियर्स को वैक्सीन की खुराक दी गई है और इसका असर अच्छा दिखा. कहा कि टीका जानवरों में एंटीबॉडी को बेअसर करने में भी काबिल था.

जाइडस कैडिला के अध्यक्ष पंकज आर. पटेल ने कहा, 'ZyCoV-D का पहला फेज सफल रहा है जो बहुत खास है. कोविड -19 से बचाने के लिए ZyCoV-D का प्लाज्मिड डीएनए वैक्सीन फेज था जो सफल और सुरक्षित रहा. ZyCoV-D वैक्सीन को सुरक्षित बनाने के लिए फेज 1 महत्वपूर्ण मील का पत्थर है. अब हम दूसरे फेज के क्लिनिकल ट्रायल्स कल (6 अगस्त) से शुरू करेंगे.'

 वॉलंटियर्स को 24 घंटे बाद तक क्लिनिकल फार्माकोलॉजिकल यूनिट में रखा गया
पटेल ने कहा, 'क्लिनिकल ट्रायल के फेज 1 में सभी वॉलंटियर्स को वैक्सीन लगाने के 24 घंटे बाद तक क्लिनिकल फार्माकोलॉजिकल यूनिट में रखा गया और उसके बाद 7 दिनों तक उनकी निगरानी की गई और बहुत सुरक्षित पाया गया. अब हम सेकेंड फेज का क्लिनिकल ट्रायल शुरू कररहे हैं और बड़ी आबादी में वैक्सीन की सुरक्षा और इम्यूनिटी की जांच के लिए तैयार हैं.' हालांकि कंपनी ने अब तक ट्रायल्स के परिणाम को अभी तक सार्वजनिक नहीं किया है. ZyCoV-D के सेकेंड फेज की स्टडी 1,000 से अधिक स्वस्थ वयस्क वॉलंटियर्स पर किया जाएगा.
कंपनी के अनुसार उनकी वैक्सीन डीएनए वैक्सीन प्लेटफॉर्म के कारण अधिक सुरक्षित है जिसके लिए  जेनेटिकली इंजीनियर प्लाज्मिड (छोटे डीएनए अणु) को इंजेक्ट करने की जरूरत होती है,जिसमें एंटीजन का डीएनए सीक्वेन्स एन्कोडिंग होता है जिससे इम्यूनिटी मिलती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading