अमेरिका ने QUAD देशों के बीच व्यापक सहयोग पर दिया जोर

अमेरिका के विदेश उप मंत्री स्टीफन बीगुन.
अमेरिका के विदेश उप मंत्री स्टीफन बीगुन.

अमेरिकी विदेश उप मंत्री स्टीफन बीगुन (Stephen E. Biegun) ने चार देशों के संगठन (QUAD) सदस्य देशों के बीच सहयोग विस्तार की भी जरूरत बताई जिसमें भारत और अमेरिका के साथ ऑस्ट्रेलिया और जापान सदस्य हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 15, 2020, 2:22 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. QUAD देशों के बीच व्यापक सहयोग पर जोर देते हुए अमेरिका के विदेश उप मंत्री स्टीफन बीगुन (Stephen E. Biegun) ने अमेरिका-भारत साझेदारी के महत्व पर जोर दिया है. विदेश विभाग ने बीगुन की 12 से 14 अक्टूबर के बीच हुई भारत यात्रा के समापन पर एक बयान में यह बात कही. बीगुन ने अपनी भारत यात्रा में भारत-अमेरिका फोरम पर अहम बयान दिए और इस साल के आखिर में होने वाली अमेरिका-भारत ‘टू प्लस टू’ मंत्री स्तरीय वार्ता से पहले भारत सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात की.

सहयोग विस्तार की भी जरूरत बताई
विदेश विभाग ने कहा कि बीगुन ने भारत-अमेरिका फोरम में विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला के साथ विशेष रूप से एक स्वतंत्र और खुले हिंद-प्रशांत क्षेत्र में अमेरिका-भारत की साझेदारी के महत्व को रेखांकित किया. बीगुन ने चार देशों के संगठन (QUAD) सदस्य देशों के बीच सहयोग विस्तार की भी जरूरत बताई जिसमें भारत और अमेरिका के साथ ऑस्ट्रेलिया और जापान सदस्य हैं.

कई मुद्दों को लेकर हुई चर्चा
शीर्ष अमेरिकी अधिकारी ने विदेश मंत्री एस जयशंकर, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला और रक्षा सचिव अजय कुमार के साथ अपनी मुलाकातों में भारत तथा समान विचारों वाले साझेदारों के साथ क्षेत्रीय सुरक्षा, आर्थिक सहयोग और कोविड-19 महामारी की चुनौतियों से निपटने के समन्वित प्रयासों समेत अनेक मुद्दों पर काम करने के अमेरिका के प्रयासों पर बातचीत की.





टू प्लस टू वार्ता
विज्ञप्ति के अनुसार नयी दिल्ली में उन्होंने भारत में भूटान के राजदूत मेजर जनरल वेतसोप नामज्ञेल से मुलाकात कर भूटान की जनता के साथ अमेरिका के करीबी संबंधों के महत्व को दोहराया. भारत और अमेरिका के बीच ‘टू प्लस टू’ वार्ता के तीसरे संस्करण का आयोजन यहां 26, 27 अक्टूबर को हो सकता है जिसमें दोनों पक्ष अपने रणनीतिक सहयोग की व्यापक समीक्षा कर सकते हैं. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और रक्षा मंत्री मार्क एस्पर इस संवाद के लिए भारत आ सकते हैं. इसमें भारतीय पक्ष का प्रतिनिधित्व एस. जयशंकर और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह करेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज