स्वतंत्रता दिवस समारोह: इस बार अतिथियों की संख्या होगी कम, नहीं दिखेंगे स्कूली बच्चे

स्वतंत्रता दिवस समारोह: इस बार अतिथियों की संख्या होगी कम, नहीं दिखेंगे स्कूली बच्चे
स्वतंत्रता दिवस समारोह में इस बार स्कूली बच्चे शामिल नहीं होंगे (फाइल फोटो)

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के अनुसार, इस बार समारोह में आम जनता को अनुमति नहीं देने का प्रस्ताव है. इसके बदले 1,500 कोरोना योद्धाओं को शामिल करने का प्रस्ताव है. जिनमें 500 पुलिस कर्मी भी शामिल हैं जो संक्रमण से उबर चुके हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) का प्रभाव इस साल स्वतंत्रता दिवस समारोहों पर भी दिखेगा और ऐतिहासिक लाल किले में आयोजित होने वाले मुख्य कार्यक्रम में अतिथियों की संख्या कम की जाएगी. वहीं स्कूली बच्चे (School Student) भी इस बार नहीं दिखेंगे. दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि सुरक्षा व्यवस्था में कोई बदलाव नहीं होगा और वे हर साल की तरह ही सख्त होंगे. दल में शामिल पुलिसकर्मी भी निजी सुरक्षा उपकरण (PPE) पहनेंगे.

पुलिस उपायुक्त (उत्तर) मोनिका भारद्वाज ने कहा कि स्वतंत्रता दिवस के दौरान कड़ी सुरक्षा होगी. कोविड-19 महामारी के मद्देनजर दिल्ली पुलिस के कर्मियों द्वारा सामाजिक सुरक्षा मानदंड का पालन किया जाएगा. इस वर्ष समारोह में स्कूली बच्चे शामिल नहीं होंगे. रक्षा मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि अतिथियों की संख्या भी इस बार कम होगी.

500 कोरोना योद्धाओं को समारोह में होंगे शामिल



स्वतंत्रता दिवस समारोह में मंत्रियों, वरिष्ठ नेताओं, विभिन्न मंत्रालयों के शीर्ष अधिकारियों व और राजनयिकों की उपस्थिति होती है. आम लोगों को भी इसमें शामिल होने की अनुमति रहती है. दिल्ली पुलिस के अनुसार इस बार समारोह में आम जनता को अनुमति नहीं देने का प्रस्ताव है. इसके बदले 1,500 कोरोना योद्धाओं को शामिल करने का प्रस्ताव है. जिनमें 500 पुलिस कर्मी भी शामिल हैं जो संक्रमण से उबर चुके हैं.
उन्होंने कहा कि यह अभी प्रस्ताव स्तर पर है और कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है. इस बीच केंद्र ने कोरोना वायरस के मद्देनजर सभी राज्यों से बड़े आयोजनों से बचने, सामाजिक दूरी सुनिश्चित करने और स्वतंत्रता दिवस समारोहों का वेबकास्ट करने को कहा है. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एक परामर्श में कहा कि महामारी के खिलाफ लड़ाई में योगदान को देखते हुए डॉक्टरों, स्वास्थ्य और स्वच्छता कार्यकर्ताओं जैसे कोविड​​-19 योद्धाओं को समारोह में आमंत्रित किया जाना चाहिए. इसके अलावा संक्रमण से उबर चुके कुछ लोगों को भी आमंत्रित किया जा सकता है.

परामर्श में कहा गया है कि सभी कार्यक्रमों को इस तरह से आयोजित किया जाना चाहिए कि लोगों का समूह एकत्र नहीं हो और प्रौद्योगिकी का उपयोग बेहतर तरीके से किया जा सकता है. दिल्ली के लाल किले में आयोजित कार्यक्रम में सशस्त्र बलों और दिल्ली पुलिस द्वारा प्रधानमंत्री को गार्ड ऑफ ऑनर पेश किया जाएगा, राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाएगा और 21 तोपों की सलामी दी जाएगी. इसके अलावा प्रधानमंत्री का संबोधन, राष्ट्र गान भी होगा. पारंपरिक 'ऐट होम' कार्यक्रम का आयोजन राष्ट्रपति भवन में किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading