होम /न्यूज /राष्ट्र /INTERVIEW: ‘आरके पचौरी को बचाने वाली महिलाओं को शर्मिंदा किया जाएगा’

INTERVIEW: ‘आरके पचौरी को बचाने वाली महिलाओं को शर्मिंदा किया जाएगा’

आर के पचौरी (File Photo)

आर के पचौरी (File Photo)

पीड़िता ने कहा, "मैं उन महिलाओं के नाम और चेहरे जानती हूं, जब सही वक्त आएगा तो उनका नाम लिया जाएगा और उन्हें शर्मिंदा ...अधिक पढ़ें

    शुभजीत सेनगुप्‍ता

    दिल्ली की एक कोर्ट ने शनिवार को टेरी के पूर्व प्रमुख आरके पचौरी पर उनकी एक पूर्व सहयोगी द्वारा दर्ज कराए गए कथित यौन उत्पीड़न मामले में छेड़छाड़ के आरोप तय किए. रविवार को पीड़िता  ने न्यूज 18 से खास बातचीत की और कहा कि ट्रायल शुरू होने से पहले ही उन्हें कई ट्रायल से गुजरना पड़ा. इसी के साथ पीड़ित ने कहा कि टेरी के बोर्डरूम में कुछ महिलाओं ने पचौरी का साथ देते हुए उनका बचाव किया था.पीड़ित ने पचौरी के खिलाफ आरोप तय किए जाने को सच्चाई की तरफ एक बड़ा कदम बताया. उन्होंने बताया कि मामले को जानबूझकर लटकाने की कोशिश की गई लेकिन ये कोशिश सफल नहीं हुई. पीड़ित का कहना है कि पुलिस को 90 दिन के अंदर चार्जशीट दायर करनी चाहिए थी लेकिन एक साल बाद ऐसा किया गया.

    आरके पचौरी पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने के बाद पीड़ित को कई आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था जिसे लेकर उन्होंने कहा, "उनका पहला बचाव यह था कि यह केवल शिकायत है कोई एफआईआर नहीं है. फिर उन्होंने पूछा कि चार्जशीट कहां है? इसके बाद कहा गया कि यह केवल चार्जशीट है जिसे कोर्ट स्वीकार नहीं करेगी. इसके बाद उन्होंने कहा कि चार्जशीट काफी कमजोर है और वह छूट जाएंगे. अब वह कह रहे हैं कि वह अभी तक दोषी नहीं हैं.”

    पीड़ित ने आगे कहा, 'मुझे अच्छी तरह से पता है कि बोर्ड मीटिंग में किसने क्या कहा? उन्होंने मेरे चरित्र पर सवाल उठाए. टेरी के बोर्ड रूम में सीनियर अधिकारी मुझपर हंसे. टेरी की सीनियर महिला अधिकारियों  ने मेरे बाते में खराब बातें कहीं जैसे 'शिकायतकर्ता का एक पुरुष मित्र है और वह हमेशा एक पुरुष कलीग से बात करती रहती है.' उन्होंने कहा, ‘शिकायतकर्ता की मां को कोई समझ नहीं है, मैं खुद एक मां हूं. उसकी मां उसे काम करने की मंजूरी कैसे दे सकती है.'

    पीड़ित ने कहा, 'मैं उन महिलाओं के नाम और चेहरे जानती हूं, जब सही वक्त आएगा तो उनका नाम लिया जाएगा और उन्हें शर्मिंदा किया जाएगा, जो अपराध को बढ़ाने में सहयोगी हैं.'

    बता दें कि कोर्ट द्वारा आर के पचौरी पर भारतीय दंड संहिता की धारा 354, 354 ए, तथा 509 के तहत मुकदमा चलाने का आदेश दिया गया है. पचौरी ने कोर्ट मे खुद को निर्दोष बताते हुए कहा था कि वह मुकदमे के लिए तैयार हैं जिसके बाद उनपर ये आरोप तय किए गए.

    ये भी पढ़ें: यौन उत्पीड़न मामला: पर्यावरणविद आरके पचौरी के खिलाफ आरोप तय करने का आदेश

    Tags: Court, Rape convict, Sexual Abuse, Sexual Harassment, Sexualt assualt

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें