क्या सितंबर-अक्टूबर में आएगी कोरोना वायरस की तीसरी लहर? जानें AIIMS निदेशक ने क्या कहा

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) के निदेशक रणदीप गुलेरिया (फ़ाइल फोटो-ANI)

Covid-19 Third Wave: एम्स निदेशक ने कहा कि प्रतिबंध हटाए जा रहे हैं और साथ ही, हम देख रहे हैं कि लोग बहुत यात्राएं कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि कोविड-उपयुक्त व्यवहार का पालन नहीं किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि हालांकि हमने देखा है कि मामले कम हो गए हैं अब देश में एक दिन में करीब 30 हजार मामले आ रहे हैं जो कभी 4 लाख आ रहे थे.

  • Share this:
    (श्रेया ढौंडियाल)

    नई दिल्ली. एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया (AIIMS Director Randeep Guleria) ने गुरुवार को कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) की तीसरी लहर कभी भी आ सकती है. गुलेरिया ने हाल ही में सामने आए चौथे चरण के सीरो सर्वे के नतीजों के संबंध में कहा कि जब हम भारत की दो तिहाई आबादी की बात करते हैं तो हमें ये याद रखना चाहिए कि इसे सामान्य तौर पर देखा जाना चाहिए. हमारे पास अभी भी ऐसी कई जगहें हैं जहां एक बड़ी आबादी अतिसंवेदनशील हो सकती है. इसलिए आपके पास ऐसे क्षेत्र हो सकते हैं जहां लोगों को संक्रमण हुआ है क्योंकि यह वह जगह है जहां संक्रमण संपर्कों के बीच फैलता है. वहीं कुछ ऐसे क्षेत्र हो सकते हैं जहां टीके की मात्रा अधिक होती है और ये ऐसे क्षेत्र हैं जहां से दो-तिहाई का बड़ा हिस्सा आ सकता है.

    गुलेरिया ने सीरो सर्वे के नतीजों का ही विश्लेषण करते हुए कहा कि देश में अभी भी बड़ी संख्या में लोग टीका लगवाने से हिचक रहे हैं. ऐसे लोगों ने न तो टीका लगवाया है और न ही वे संक्रमित हुए हैं. ये लोग अतिसंवेदनशील बन जाते हैं. इसलिए सीरो सर्वे के नतीजों का सामान्यीकरण नहीं किया जा सकता कि यह दो तिहाई आबादी पूरे भारत की है.

    ये भी पढ़ें- फर्जीवाड़ा कर ली है PM-KISAN की किस्‍त तो केंद्र वसूलेगा पाई-पाई, भेजे नोटिस

    एम्स निदेशक ने इसी संबंध में कहा कि ऐसे क्षेत्र भी हैं जहां ये आबादी दो तिहाई से ज्यादा हो सकती है और ये कम भी हो सकती है. यही कारण है कि जब मामलों में अचानक होने वाली वृद्धि के चलते नई लहर आती है. यह कहना मुश्किल है कि यह कब तक आएगी. इसके लिए कुछ हफ्ते भी लग सकते हैं और कुछ महीने भी लग सकते हैं.

    तीसरी लहर में क्या बच्चों को खतरा?
    वहीं सीरो सर्वे के मुताबिक भारत के 50 फीसदी बच्चों में पाई गई एंटीबॉडीज़ को लेकर गुलेरिया ने कहा कि ऐसा कहा जा रहा था कि तीसरी लहर बच्चों को ज्यादा प्रभावित करेगी क्योंकि वह अतिसंवेदनशील हैं और उनके लिए अभी कोई वैक्सीन भी नहीं है. ऐसे में मामलों के बढ़ने पर उनपर खतरा बढ़ जाएगा क्योंकि वयस्कों का टीकाकरण कार्यक्रम चल रहा है. लेकिन सीरो सर्वे के नतीजों ने इस बात को गलत साबित किया है. बच्चों को काफी हद तक संक्रमण हुआ लेकिन उन्हें हल्का संक्रमण था जिससे वह जल्दी ही उबर गए.

    गुलेरिया ने बताया कि जब बच्चों में एंटीबॉडी देखी गईं तो उनमें यह 60 फीसदी थी. इतना ही नहीं उन्होंने बताया कि जब हमने टीके के लिए ट्रायल शुरू किया तो 50 प्रतिशत से अधिक बच्चे जो स्वयं टीकाकरण के लिए आए और स्वेच्छा से आए, जब हमने एंटीबॉडी के लिए उनका परीक्षण किया, तो उनके पास पहले से ही एंटीबॉडी थे. पहली और दूसरी लहर में, हमने पाया कि बहुत कम बच्चे गंभीर कोविड संक्रमण के चलते भर्ती हुए; उनमें से अधिकांश को हल्की बीमारी थी और वे ठीक हो गए. इसलिए मुझे नहीं लगता कि आने वाली लहर में बच्चों को गंभीर संक्रमण होगा.

    ये भी पढ़ें- केरल में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 12,818 नए केस, 122 मौतें, डरा रहा पॉजिटिविटी रेट

    कब आएगी तीसरी लहर?
    सीबीआई के सर्वे के मुताबिक सितंबर से अक्टूबर तक कोविड की तीसरी लहर आने का अनुमान है. गुलेरिया ने तीसरी लहर के आने पर कहा कि मुझे लगता है कि सितंबर या अक्टूबर तक तीसरी लहर आ सकती है क्योंकि हम देखें कि चीजें कैसे व्यवहार करती हैं. उन्होंने कहा कि प्रतिबंध हटाए जा रहे हैं और साथ ही, हम देख रहे हैं कि लोग बहुत यात्राएं कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि कोविड-उपयुक्त व्यवहार का पालन नहीं किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि हालांकि हमने देखा है कि मामले कम हो गए हैं अब देश में एक दिन में करीब 30 हजार मामले आ रहे हैं जो कभी 4 लाख आ रहे थे. लेकिन अगर आप इसकी पहली लहर से तुलना करके देखते हैं, तो संख्या अभी भी अधिक है और हम अभी ये नहीं कह सकते हैं कि दूसरी लहर खत्म हो गई है.

    गुलेरिया ने कहा कि प्रतिबंध तेजी से हटने के बाद और लोगों की यात्राओं में हो रही बढ़ोतरी को देखते हुए अगले कुछ हफ्तों में, यानी सितंबर या उसके बाद, हम मामलों की संख्या में वृद्धि देख सकते हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.