Home /News /nation /

Omicron Third Covid Wave: ओमिक्रॉन से फरवरी में तीसरी लहर की संभावना, दूसरी लहर से ज्यादा...पढ़ें पूरी डिटेल्स

Omicron Third Covid Wave: ओमिक्रॉन से फरवरी में तीसरी लहर की संभावना, दूसरी लहर से ज्यादा...पढ़ें पूरी डिटेल्स

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने ओमीक्रोन को चिंता पैदा करने वाला स्वरूप भी बताया था.

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने ओमीक्रोन को चिंता पैदा करने वाला स्वरूप भी बताया था.

Covid New Variant Omicron Third Covid Wave: वैज्ञानिक ने कहा कि वायरस और अस्पताल में भर्ती होने की दर पर नए आंकड़ों से स्थिति की कहीं अधिक स्पष्ट तस्वीर मिलेगी. अग्रवाल ने कहा, ‘ऐसा लगता है कि नये स्वरूप ने अधिक संक्रामकता प्रदर्शित की है लेकिन इसकी गंभीरता डेल्टा स्वरूप जैसी नहीं दिखी है.’ उन्होंने कहा कि डेल्टा स्वरूप के प्रसार के दौरान जैसा पाया गया था, हल्की पाबंदी वाला लॉकडाउन (रात का कर्फ्यू, भीड़ पर प्रतिबंध) संक्रमण के प्रसार में कमी ला सकता है और इससे मामलों की संख्या कम रह सकती है.

अधिक पढ़ें ...

    मुंबई: सार्स-कोवी-2 (SARS-CoV-2 virus) के नए स्वरूप ओमीक्रोन (Covid New Variant Omicron) से कोरोना वायरस महामारी की तीसरी लहर (Third Covid wave) फरवरी में चरम पर पहुंच सकती है, जब देश में प्रतिदिन एक लाख से डेढ़ लाख तक मामले सामने आने की संभावना है. कोविड-19 के गणितीय अनुमान में शामिल भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान के वैज्ञानिक मनिंद्र अग्रवाल ने यह कहा है. उन्होंने कहा कि नये अनुमान में, ओमीक्रोन स्वरूप (Omicron Cases in India) को एक कारक के तौर पर शामिल किया गया है.

    अग्रवाल ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘नये स्वरूप के साथ, हमारा मौजूदा अनुमान यह है कि देश में फरवरी तक तीसरी लहर आ सकती है लेकिन यह दूसरी लहर से हल्की होगी. अब तक हमने देखा है कि ओमीक्रोन से होने वाले संक्रमण की गंभीरता डेल्टा स्वरूप की तरह नहीं है. ’

    हालांकि, उन्होंने कहा कि दक्षिण अफ्रीका में सामने आए मामलों पर करीबी नजर रखी जा रही है, जहां इस नये स्वरूप के कई मामले सामने आए हैं. अग्रवाल ने कहा कि फिलहाल दक्षिण अफ्रीका में संक्रमण के कारण अस्पताल में भर्ती होने की दर में वृद्धि नहीं दिखी है.

    यह भी पढ़ें- पहली बार संक्रमण के बाद तीन गुना जल्दी शिकार बनाता है ओमिक्रॉन, ऐसे लोगों को खतरा ज्यादा: WHO साइंटिस्ट

    वैज्ञानिक ने कहा कि वायरस और अस्पताल में भर्ती होने की दर पर नए आंकड़ों से स्थिति की कहीं अधिक स्पष्ट तस्वीर मिलेगी. अग्रवाल ने कहा, ‘ऐसा लगता है कि नये स्वरूप ने अधिक संक्रामकता प्रदर्शित की है लेकिन इसकी गंभीरता डेल्टा स्वरूप जैसी नहीं दिखी है.’

    उन्होंने कहा कि डेल्टा स्वरूप के प्रसार के दौरान जैसा पाया गया था, हल्की पाबंदी वाला लॉकडाउन (रात का कर्फ्यू, भीड़ पर प्रतिबंध) संक्रमण के प्रसार में कमी ला सकता है और इससे मामलों की संख्या कम रह सकती है.

    विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग समर्थित सूत्र मॉडल ने इससे पूर्व बताया था कि यदि डेल्टा से अधिक संक्रामक नया स्वरूप उत्पन्न होता है तो अक्टूबर तक देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर आ सकती है. हालांकि, नवंबर के अंत तक नया स्वरूप नहीं आया था. तब इसने अनुमान संशोधित किया था.

    विश्व स्वास्थ्य संगठन ने दक्षिण अफ्रीका और कुछ अन्य देशों में सामने आये कोविड के नये स्वरूप को 26 नवंबर को ओमीक्रोन नाम दिया था. उसने ओमीक्रोन को चिंता पैदा करने वाला स्वरूप भी बताया था. विशेषज्ञों ने यह संभावना जताई है कि वायरस में आनुवांशिकी बदलाव होने की वजह से यह कुछ अलग विशेषताओं वाला हो सकता है. भारत में ओमीक्रोन स्वरूप के अब तक 21 मामले सामने आ चुके हैं.

    Tags: Coronavirus Third Wave, Covid-19 Third Wave, Omicron variant

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर