होम /न्यूज /राष्ट्र /

सिर्फ 45% स्वास्थ्यकर्मियों ने ली है कोरोना वैक्सीन की तीसरी खुराक जबकि 18-59 आयु वर्ग के आंकड़े हैं चौंकाने वाले

सिर्फ 45% स्वास्थ्यकर्मियों ने ली है कोरोना वैक्सीन की तीसरी खुराक जबकि 18-59 आयु वर्ग के आंकड़े हैं चौंकाने वाले

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किए गए आंकड़ों के हिसाब से तीसरे डोज के प्रति लोगों में उदासीनता है (फाइल फोटो twitter)

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किए गए आंकड़ों के हिसाब से तीसरे डोज के प्रति लोगों में उदासीनता है (फाइल फोटो twitter)

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के द्वारा जारी किए गए आंकड़ों से पता चलता है कि पूरे देश में सिर्फ 45 फीसदी स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने ही कोरोना वैक्सीन की तीसरी खुराक ली है. वहीं 38 फीसदी अन्य फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं ने तीसरा डोज लिया है. अगर बात करें 18 से 59 आयु वर्ग के लोगों के तो आंकड़े और भी चौंकाने वाले हैं.

अधिक पढ़ें ...

पिछले कुछ दिनों से देश के कई हिस्सों में कोरोना संक्रमण के मामले में तेजी आई है, जिसे देखते हुए सरकार ने भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है. साथ ही कोविड-19 वैक्सीन के तीसरे डोज पर भी जोर दिया जा रहा है.  इसी बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने ताजा आंकड़ा जारी किया है, जिससे पता चल रहा है कि देश भर में 18-59 आयु वर्ग के केवल 3.87 लाख लोगों ने ही कोविड वैक्सीन की तीसरी खुराक ली है, क्योंकि इस वर्ग के लोगों के लिए 10 अप्रैल से रोल आउट किया गया था. आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 14 दिनों में 18-59 आयु वर्ग के 3,87,719 लोगों को तीसरी खुराक दी गई.

वैसे आंकड़ों से यह भी पता चलता है कि जनवरी में ओमिक्रोन में तेजी आने के बाद फ्रंटलाइन वर्कर में भी तीसरी खुराक में गिरावट आई है. इंडियन एक्सप्रेस ने एक स्वास्थ्य अधिकारी के हवाले से खबर दी है कि 18 से 59 साल के आयु वर्ग में मुख्य रूप से केवल उन लोगों द्वारा ही तीसरी खुराक ली जा रही है, जो विदेश यात्रा पर जा रहा है. मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, पिछले 14 दिनों में पूरे देश में दिए गए तीसरे डोज में से 54 प्रतिशत हिस्सेदारी सिर्फ दिल्ली, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल और कर्नाटक का था. इन राज्यों में ज्यादतर निजी टीकाकरण केंद्रों पर तीसरा डोज दिया गया.

18-59 आयु वर्ग के आंकड़े 

रविवार को CoWin के आंकड़ों के अनुसार, 19,494 सरकारी टीकाकरण स्थलों की तुलना में केवल 893 निजी टीकाकरण स्थल चालू थे. महत्वपूर्ण रूप से  डेटा यह भी दर्शाता है कि बड़े से मध्यम आकार के राज्यों जहां निजी टीकाकरण केंद्रों की संख्या अपेक्षाकृत कम है वहां 18-59 आयु वर्ग के लोगों को 5,500 से कम तीसरी खुराक दी है.

किस राज्य में कितने लोगों ने ली है तीसरी खुराक

अब तक 18-59 आयु वर्ग में राजस्थान (3,918), मध्य प्रदेश (4,303), और झारखंड में 5,290 लोगों को तीसरा डोज दिया गया वहीं छत्तीसगढ़ में सिर्फ 532 लोगों को ही तीसरी खुराक दी गई है. बिहार जैसे घनी आबादी वाले राज्य ने भी 18-59 समूह को केवल 22,141 एहतियाती खुराक दी है. साथ ही, आंकड़ों से पता चलता है कि हरियाणा जैसे छोटे राज्य (जिसमें राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में गुड़गांव का मेट्रो क्षेत्र शामिल है)  ने इस श्रेणी के लोगों को जरूरी खुराक दी है.

यहां तक की फ्रंटलाइन में शामिल लोगों में भी तीसरी खुराक की कमी देखी गई है, जबकि स्वास्थ्य कार्यकर्ता और 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए सरकारी टीकाकरण केंद्रों पर तीसरी खुराक मुफ्त में उपलब्ध है. देश में 1.04 करोड़ लोग स्वास्थ्य सेवा में हैं, जिनमें से सिर्फ 45 फीसदी लोगों ने ही तीसरा डोज लिया है.

Tags: Corona Vaccine Update, Union health ministry

अगली ख़बर