गुरुग्राम में डॉ. श्रीप्रकाश ने इसलिए परिवार की हत्या करने के बाद की खुदकुशी!

तंगहाली के कारण खुदकुशी की वजह पुलिस के गले नहीं उतर रही है. पुलिस ने इस मामले की कई पहलुओं पर जांच शुरु कर दी है.

News18Hindi
Updated: July 2, 2019, 11:42 AM IST
गुरुग्राम में डॉ. श्रीप्रकाश ने इसलिए परिवार की हत्या करने के बाद की खुदकुशी!
सांकेतिक फोटो.
News18Hindi
Updated: July 2, 2019, 11:42 AM IST
पत्नी और बेटे और बेटी की हथौड़े और फरसे से हत्या करने के बाद डॉ. श्रीप्रकाश ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. डॉ. श्रीप्रकाश ने एक सुसाइड नोट भी लिखा है. नोट में इस जघन्य कांड के लिए घर की तंगहाली को वजह बताया है. लेकिन खुदकुशी की यह वजह पुलिस के गले नहीं उतर रही है. पुलिस ने इस मामले की कई पहलुओं से जांच शुरू कर दी है. हालांकि शुरुआती जांच में पुलिस अभी किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है.

पुलिस से जुड़े जानकार बताते हैं कि कुछ ऐसे सवाल हैं जो सुसाइड नोट की तस्दीक नहीं कर रहे हैं. जैसे श्रीप्रकाश गुरुग्राम के पॉश इलाके सेक्टर 49, उप्पल साउथएंड सोसाइटी में रहते थे. उन्हें कुत्तों का शौक था. इसी के चलते घर में चार अच्छी नस्ल के तिब्बतन, लासा एपसो और दो पग प्रजाति के कुत्ते पाले हुए थे.

वेटनरी डॉ. संजीव नेहरू बताते हैं कि इन चारों कुत्तों की कीमत कम से कम एक लाख से अधिक ही बैठेगी. वहीं गुरुग्राम जैसे शहर में चारों कुत्तों को पालने का मतलब एक महीने का खर्च 80 हजार से एक लाख रुपये तक होगा.

वहीं पुलिस ने बताया कि श्रीप्रकाश की पत्नी गरीब बच्चों के लिए अपना स्कूल फाउंडेशन के नाम से चार स्कूल संचालित करती थीं. चारों स्कूल में करीब एक हजार बच्चे पढ़ते थे. एक प्ले स्कूल भी चलाती थीं. स्कूलों की देखरेख के लिए 50 लोगों का स्टाफ भी रखा हुआ था. ड्राइवर भी था. बेटी बीफॉर्मा कर रही थी तो 15 साल का बेटा स्कूल जाता था.

पड़ोसी की इस बात पर जांच कर रही है पुलिस
पुलिस जांच में सामने आया है कि श्रीप्रकाश की अपनी पत्नी सोनू से अक्सर ही लड़ाई होती थी. लेकिन इस बात की भनक कभी पड़ोसियों को नहीं हुई. श्रीप्रकाश के एक पड़ोसी ने पुलिस को बताया कि श्रीप्रकाश की मां और वो साथ ही सत्संग जाते थे.

अक्सर वो बताती थीं कि बहू सोनू का रूप घर में कुछ और बाहर कुछ और होता है. वह उनके बेटे से बहुत लड़ती है. लेकिन उनकी ये लड़ाई बंद दरवाजे के पीछे होती थी. यही वजह है कि कभी इस बारे में पड़ोसियों को पता नहीं चला.
Loading...

ये भी पढ़ें- अमेठी-अलवर सहित मोदी सरकार का देश को 5 सैनिक स्कूल का तोहफा

मॉब लिंचिंग के शिकार हुए लोगों में आधे से ज्यादा गैर-मुस्लिम

सैनिक स्कूल से पढ़कर निकले हैं सेना के ये बड़े अफसर, क्या आप भी चाहते हैं यहां पढ़ना
First published: July 2, 2019, 11:15 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...