कोरोना का कहर, एक्शन में आई सेना, सीडीएस बिपिन रावत बोले- प्रशासन संग मिलकर करें काम

प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत. (फाइल फोटो)

प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत. (फाइल फोटो)

बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) ने कहा- वर्दी में तैनात हमारे जवानों के पास दृढ़ इच्छाशक्ति है, जिसके जरिए वो बाधाओं को पार कर सकते हैं. वो हर बार ऐसा करके दिखाते हैं. हम ऐसा कर सकते हैं और करेंगे. हमें अभी लंबी यात्रा करनी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2021, 11:38 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस के संक्रमण (Covid-19) से निपटने के लिए अब सशस्त्र बलों का मेडिकल स्टाफ भी कमर कस चुका है. चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) ने कहा, 'कोविड से निपटने के लिए अब सिविल एडमिनिस्ट्रेशन के साथ सशस्त्र बलों को मिलकर काम करना होगा. तय समय में कोरोना से निपटने के लिए संसाधनों के विस्तार और इलाज के लिए सिविल एडमिनिस्ट्रेशन के साथ मिलकर सशस्त्र बल मिलकर काम करेंगे.' उन्होंने कहा- वर्दी में तैनात हमारे जवानों के पास दृढ़ इच्छाशक्ति है, जिसके जरिए वो बाधाओं को पार कर सकते हैं. वो हर बार ऐसा करके दिखाते हैं. हम ऐसा कर सकते हैं और करेंगे. हमें अभी लंबी यात्रा करनी है.

पीएम को जानकारी दे चुके हैं सीडीएस रावत

दरअसल कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए सशस्त्र बलों की तैयारियों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत के साथ सोमवार को चर्चा की थी. बैठक के बाद बिपिन रावत ने कहा था कि सशस्त्र बलों से पिछले दो साल में सेवानिवृत्त हुए सभी मेडिकल कर्मचारी अपने घरों के पास स्थित कोविड-19 केन्द्रों में काम करेंगे.

इसके साथ ही कमांड, कोर, डिविजन और नौसेना तथा वायुसेना के समान मुख्यालयों में तैनात सभी मेडिकल अफसर अस्पतालों में तैनात किए जाएंगे. उन्होंने बताया कि अस्पतालों में डॉक्टरों की मदद के लिए बड़ी संख्या में नर्सिंग स्टाफ को तैनात किया जा रहा है और सशस्त्र बलों के विभिन्न प्रतिष्ठानों के पास उपलब्ध ऑक्सीजन सिलेंडर अस्पतालों को दिए जाएंगे.
Youtube Video


इसके अलावा सशस्त्र बल बड़ी संख्या में मेडिकल प्रतिष्ठान तैयार कर रहे हैं, जहां भी संभव होगा, सेना की मेडिकल सुविधाएं आम लोगों को उपलब्ध कराई जाएंगी. रावत के साथ मुलाकात के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश-विदेश से ऑक्सीजन और अन्य आवश्यक सामग्री की भारतीय वायुसेना द्वारा परिवहन की तैयारियों की भी समीक्षा की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज