लाइव टीवी

इस साल मानसून की भारी बारिश और बाढ़ में चली गई 1,900 लोगों की जान, चपेट में आए 22 राज्‍य

News18Hindi
Updated: October 4, 2019, 5:26 PM IST
इस साल मानसून की भारी बारिश और बाढ़ में चली गई 1,900 लोगों की जान, चपेट में आए 22 राज्‍य
गृह मंत्रालय के मुताबिक, भारी बारिश के कारण 738 लोग घायल हुए, जबकि 20 हजार से ज्‍यादा मवेशी लापता हो गए. वहीं, मूसलाधार बारिश और बाढ़ ने 1.09 लाख मकानों को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया.

इस साल भारी बारिश (Heavy Rain) और बाढ़ (Flood) के कारण सबसे ज्‍यादा 382 लोगों की मौत (Dead) महाराष्‍ट्र (Maharashtra) में हुई. इसके बाद पश्चिम बंगाल (West Bengal) में आकाशीय बिजली गिरने और मूसलाधार बारिश के कारण 227 लोगों की जान गई. देश के 357 जिले इस बार मानसून के दौरान हुई भारी बारिश के कारण बाढ़ और भूस्‍खलन (Landslide) की चपेट में आए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 4, 2019, 5:26 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. मानसून सीजन (Monsoon) के दौरान देश भर में हुई भारी बारिश (Heavy rain) के कारण आई बाढ़ (Flood) और दूसरी प्राकृतिक आपदाओं में करीब 1,900 लोगों की मौत हो गई, जबकि 46 लोगों के लापता (Missing) होने की सूचना है. केंद्रीय गृह मंत्रालय (Union Home Ministry) के अधिकारियों के मुताबिक, इस बार 22 राज्‍यों के 25 लाख से ज्‍यादा लोग बाढ़ और भूस्‍खलन जैसी समस्‍याओं से प्रभावित हुए. बाढ़ और भूस्‍खलन (Landslide) के कारण सबसे ज्‍यादा 382 लोगों की मौत महाराष्‍ट्र (Maharashtra) में हुई. इसके बाद पश्चिम बंगाल (West Bengal) में 227 लोगों की जान आकाशीय बिजली गिरने और बाढ़ के कारण चली गई. देश के 357 जिले भारी बारिश के कारण बाढ़ की चपेट में आए.

20 हजार से ज्‍यादा मवेशी भी हुए लापता
गृह मंत्रालय के मुताबिक, भारी बारिश के कारण 738 लोग घायल हुए, जबकि 20 हजार से ज्‍यादा मवेशी लापता हो गए. वहीं, मूसलाधार बारिश और बाढ़ ने 1.09 लाख मकानों को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया. इसके अलावा 2.05 लाख मकान आंशिक रूप से क्षतिग्रस्‍त हो गए. बाढ़ के पानी ने 14.14 लाख हेक्‍टेयर फसल (Crop) को बर्बाद कर दिया. एक अधिकारी ने बताया कि मानसून के दौरान प्राकृतिक आपदाओं में कुल 1,874 लोगों की मौत हुई है. बता दें कि इस समय भी देश के कुछ हिस्‍सों में जबरदस्‍त बारिश हो रही है. मानसून अभी भी सक्रिय है, जबकि 30 सितंबर को मानसून खत्‍म होने की आधिकारिक घोषणा कर दी गई थी.

1984 के बाद हुई सबसे ज्‍यादा बारिश

भारतीय मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक, इस साल मानसून के चार महीनों में रिकॉर्ड बारिश दर्ज की गई है. इस बार 1984 से अब तक की सबसे ज्‍यादा बारिश हुई है. महाराष्‍ट्र के 22 जिले बाढ़ की चपेट में आ गए थे. राज्‍य में 382 लोगों की मौत के अलावा 369 लोग घायल हो गए, जबकि 7.19 लाख लोगों को 305 शिविरों में शरण लेनी पड़ी. पश्चिम बंगाल के भी 22 जिले बाढ़ की जद में आए, जिसमें 227 लोगों को जान गंवानी पड़ी और 37 लोग प्राकृतिक आपदाओं में जख्‍मी में हो गए. वहीं, राज्‍य के 43,433 लोगों को 280 शिविरों में सिर छुपाने को मजबूर होना पड़ा.

बिहार में अब भी जारी है बाढ़ का प्रकोप
बिहार (Bihar) में अब भी बाढ़ का प्रकोप जारी है. राज्‍य में अब तक 161 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 1.26 लाख लोगों को 235 शरणार्थी शिविरों में शरण लेनी पड़ी है. राज्‍य के 27 जिले बाढ़ से प्रभावित हुए हैं. इस बार मध्‍य प्रदेश (Madhya Pradesh) भी बाढ़ आपदा से अछूता नहीं रहा है. राज्‍य में भारी बारिश, भूस्‍खलन और बाढ़ के कारण 182 लोगों की जान चली गई, जबकि 38 लोग जख्‍मी हो गए. वहीं, सात लोग गुमशुदा हैं. राज्‍य के 32,996 लोगों ने 98 कैंप में शरण ली हुई है. केरल (Kerala) में मानसून सीजन के दौरान 181 लोगों की मौत हो गई, जबकि 72 जख्‍मी हो गए हैं. राज्‍य में 13 जिलों के 15 लोग गुमशुदा हैं. राज्‍य में बनाए गए 2,227 कैंप में 4.46 लाख लोगों ने शरण ली हुई है.
Loading...

गुजरात, कर्नाटक और असम में भी त्रासदी
गुजरात (Gujarat) के 22 जिले भारी बारिश के कारण आई बाढ़ से प्रभावित हुए हैं. राज्‍य में प्राकृतिक आपदा के कारण 169 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 17 लोगों को चोटें आई हैं. वहीं, अलग-अलग जिलों में बनाए गए 102 कैंप में 17 हजार से ज्‍यादा लोगों को सिर छुपाने के लिए मजबूर होना पड़ा है. कर्नाटक (Karnataka) में 106 लोगों की मौत हुई, जबकि 14 लोग घायल हुए. वहीं, राज्‍य के 13 जिलों में भारी बारिश और बाढ़ के कारण छह लोग लापता हैं. असम (Assam) में मानसून के दौरान 97 लोगों को जान गंवानी पड़ी. राज्‍य के 32 जिलों में बाढ़ के कारण 5.35 लाख लोगों को शरणार्थी शिविरों में रहना पड़ रहा है.

ये भी पढ़ें:

टेरर फंडिंग मामला : अब 23 अक्टूबर तक जेल में ही रहेगा यासीन मलिक

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा- 17 अक्टूबर तक पूरी हो सुनवाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 4, 2019, 5:26 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...