गुजरात का यह शख्‍स ISI को भेज रहा था ‘सिक्‍योरिटी सीक्रेट्स’, NIA ने किया गिरफ्तार

गुजरात का यह शख्‍स ISI को भेज रहा था ‘सिक्‍योरिटी सीक्रेट्स’, NIA ने किया गिरफ्तार
एनआईए (NIA) का अरोप है कि गुजरात (Gujarat) से गिरफ्तार हुए रजतभाई कुंभर का पाकिस्‍तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) से सीधे संपर्क था.

एनआईए (NIA) का अरोप है कि गुजरात (Gujarat) से गिरफ्तार हुए रजतभाई कुंभर का पाकिस्‍तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) से सीधे संपर्क था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2020, 2:06 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. केंद्रीय जांच एजेंसी एनआईए (NIA ) ने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI ) से जुडे़ एक भारतीय एजेंट को गिरफ्तार किया है. आरोपी आईएसआई एजेंट की पहचान रजतभाई कुंभर के रूप में हुई है. 28 अगस्त को एनआईए की टीम ने गुजरात (Gujrat) के पश्चिमी कच्छ स्थित रजतभाई के आवास सहित अन्य कई लोकेशन पर तलाशी अभियान चलाया था. तलाशी के दौरान कई महत्वपूर्ण जानकारियों और सबूतों को इकठ्ठा किया था. इन्‍हीं के आधार पर एनआईए ने रजतभाई की  गिरफ्तारी को किया है.

एनआईए के अधिकारियों के मुताबिक, रजतभाई गुजरात के पश्चिमी कच्छ इलाके का रहने वाला है. आरोपी रजतभाई मुंद्रा डॉकयार्ड में सुपरवाइजर के पद पर कार्यरत है. यहीं पर वह पाकिस्तानी एजेंट के संपर्क में आया था. आरोप है कि रजतभाई मुंद्रा डॉकयार्ड पर सेना की मौजूदगी और हथियारों के रखरखाव की जानकारी आईएसआई तक पहुंचाता था. इसके अलावा, रजतभाई पर सेना - सुरक्षा एजेंसियों की मूवमेंट, हथियारों की मूवमेंट, हथियारों की लोकेशन, पानी के जहाज तैनात हथियार और सुरक्षा उपकरणों से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियों को पाकिस्तानी खुफिया एजेंट के साथ साझा करने का भी आरोप है .

इसके साथ ही, एनआईए को ये भी जानकारी मिली है कि वह हाल में दो बार पाकिस्तान की भी यात्रा कर चुका है. पाकिस्तान की यात्रा के दौरान वहां पाकिस्तानी खुफिया एजेंट से संपर्क साधा और उसको कई महत्वपूर्ण जानकारियों को साझा किया. देश विरोधी इन हरकतों और देश की खुफिया जानकारियों को लीक करने के आरोप में उसे गिरफ्तार किया गया है.



आईएसआई एजेंट का यूपी से लेकर गुजरात तक फैला है जाल
एनआईए को आरोपी रजतभाई के बारे में मोहम्‍मद राशिद नाम के एक आरोपी ने बताया था. मोहम्‍मद राशिद यूपी के चंदोली जिला के मुगलसराय इलाके का रहने वाला है. इसी साल जनवरी महीने में उसके खिलाफ एनआईए ने एक एफआईआर दर्ज करके उसको गिरफ्तार किया था. उल्‍लेखनीय है कि मोहम्‍मद राशिद के बारे में पहली जानकारी यूपी पुलिस की एटीएस (UP ATS ) को मिली थी. उसके बाद, उसके खिलाफ लखनऊ स्थित गोमती नगर थाना में 19 जनवरी 2020 को एफआईआर दर्ज किया गया था. इस एफआईआर को आधार बनाते हुए एनआईए ने 6 अप्रैल को  मामला दर्ज किया था.

मोहम्‍मद राशिद से पूछताछ में खुले कई राज
मोहम्‍मद राशिद ने पूछताछ के दौरान कई अहम खुलासे किए. आरोपी राशिद ने देश के कई हिस्सों की तस्वीरों और वीडियो को पाक एजेंटो से साझा किया था. इसी मामले में, एनआईए की टीम राजस्थान के अजमेर और मुंबई की कई लोकेशन पर कई संदिग्ध आरोपियों के साथ राशिद के कनेक्शन की पड़ताल कर रही है. एनआईए की तफ्तीश के दौरान ये जानकारी मिली थी की राशिद मार्च 2019 से ही पाकिस्तानी खुफिया एजेंटों के संपर्क में जुड़ा हुआ था .
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज