लाइव टीवी

मेघालय के राज्यपाल बोले- जो ‘विभाजनकारी लोकतंत्र’ नहीं चाहते, वो उत्तरी कोरिया चले जाएं

भाषा
Updated: December 14, 2019, 8:31 AM IST
मेघालय के राज्यपाल बोले- जो ‘विभाजनकारी लोकतंत्र’ नहीं चाहते, वो उत्तरी कोरिया चले जाएं
मेघालय के राज्यपाल तथागत रॉय

मेघालय के राज्यपाल तथागत रॉय (Tathagata Roy) का ट्वीट प्रदर्शनकारियों के राजभवन पहुंचने से कुछ घंटे पहले आया. प्रदर्शनकारियों ने सुरक्षा नियमों का उल्लंघन करने पर उन पर लाठीचार्ज किया गया और आंसू गैस का उपयोग किया गया.

  • Share this:
शिलांग. मेघालय के राज्यपाल तथागत रॉय (Tathagata Roy) ने शुक्रवार को यह कहकर विवाद खड़ा कर दिया कि जो लोग 'विभाजनकारी लोकतंत्र' (NECESSARILY DIVISIVE) नहीं चाहते हैं, वह उत्तर कोरिया चले जाएं. रॉय ने ट्वीट किया, 'लोकतंत्र अनिवार्य रूप से विभाजनकारी है. अगर आप इसे नहीं चाहते हैं तो उत्तरी कोरिया (North Korea) चले जाइए.'

राज्यपाल इस ट्वीट के जरिए परोक्ष रूप से नए नागरिकता कानून का समर्थन कर रहे थे. उन्होंने कहा, 'विवाद के वर्तमान माहौल में दो बातों को कभी नहीं भूलना चाहिए - 1. देश को कभी धर्म के नाम पर विभाजित किया गया था. 2. लोकतंत्र अनिवार्य रूप से विभाजनकारी है. अगर आप इसे नहीं चाहते तो उत्तर कोरिया चले जाइए.'

उत्तर कोरिया में तानाशाह किम जोंग-उन का शासन है. उनका ये ट्वीट प्रदर्शनकारियों के राजभ‍वन पहुंचने से कुछ घंटे पहले आया. प्रदर्शनकारियों ने जब सुरक्षा का उल्लंघन करने की कोशिश की, तो उन पर लाठीचार्ज किया गया था, जिसमें कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए.

हाथापाई में दो पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं. प्रदर्शनकारी राज्यपाल से मांग कर रहे थे कि वह बाहरी लोगों के राज्य में प्रवेश पर अनिवार्य पंजीकरण के लिए प्रस्तावित अध्यादेश को अपनी सहमति दें और साथ ही केंद्र राज्य में इनर लाइन परमिट को लागू करे.

ये भी पढ़ें : नागरिकता कानून: असम, मेघालय, बंगाल में उग्र प्रदर्शन, दिल्ली-अरुणाचल में बवाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 14, 2019, 7:59 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर