आतंकवाद पर नरम रुख रखने वाले आर्टिकल 370 हटाने का कर रहे विरोध: PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने भी कहा कि अब हर कोई ये जान गया है कि आर्टिकल 370 और 35(A) ने जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) और लद्दाख (Ladhak) को देश से अलग कर दिया था.

News18Hindi
Updated: August 14, 2019, 2:34 PM IST
आतंकवाद पर नरम रुख रखने वाले आर्टिकल 370 हटाने का कर रहे विरोध: PM मोदी
पीएम मोदी (फ़ाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: August 14, 2019, 2:34 PM IST
मोदी सरकार (Modi Government) के दूसरे कार्यकाल में 75 दिन पूरे हो गए हैं. इस दौरान सरकार ने कई बड़े काम किए हैं. लेकिन सबसे ज़्यादा चर्चा जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) से आर्टिकल 370 (Article 370) हटाए जाने को लेकर हो रही है. कुछ लोग सरकार के इस फैसले का विरोध भी कर रहे हैं. पीएम मोदी का कहना है कि जो लोग भी इसका विरोध कर रहे हैं, वो आतंवाद को लेकर सहानुभूति रखते हैं. उन्होंने ये बातें समाचार एजेंसी IANS से खास बातचीत में कही.

'ये आतंक के साथ सहानुभूति रखने वाले लोग'
पीएम मोदी ने कहा, ''जो लोग भी आर्टिकल 370 हटाए जाने का विरोध कर रहे हैं आप उनकी लिस्ट देखिए. ये अपना फायदा देखने वाले लोग हैं, ये राजनीतिक परिवार के लोग हैं जो आतंक के साथ सहानुभूति रखते हैं और कुछ विपक्ष के लोग हैं. ये फैसला देश के लिए है न कि राजनीति के लिए. जो फैसला लेना पहले असंभव था उसे हमने हकीकत में बदल दिया है.''

पीएम मोदी के मुताबिक आर्टिकल 370 के चलते देश को खासा नुकसान उठाना पड़ा है. उन्होंने कहा, ''अब हर कोई ये जान गया है कि आर्टिकल 370 और 35(A) ने जम्मू कश्मीर और लद्दाख को देश से अलग कर दिया गया था. यहां के लोग 70 सालों तक विकास से दूर रहे.''

अब होगा विकास
पीएम मोदी ने ये भी कहा कि अब घाटी में चीज़ें तेज़ी से बदल रही है. उन्होंने कहा, ''कश्मीर के लोग लोकतंत्र को लेकर ज्यादा प्रतिबद्धता दिखा रहे हैं. आपने देखा होगा कि पंचायत के चुनाव में कितनी बड़ी संख्या में लोगों ने वोट दिए. पिछले साल नवंबर और दिसंबर में यहां 35 हज़ार सरपंच चुने गए. चुनाव में 74 फीसदी लोगों ने भाग लिया. चुनाव के दौरान कोई हिंसा नहीं हुई.

ये भी पढ़ें:
Loading...

बिल्डर की वजह से 200 परिवारों को फ्लैट खाली करने का नोटिस

फरीदाबाद के DCP विक्रम कपूर ने गोली मारकर की खुदकुशी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 14, 2019, 11:14 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...