गुजरात में टला चक्रवात 'निसर्ग' का खतरा, दो दिन होगी मध्यम से कम बारिश

गुजरात में टला चक्रवात 'निसर्ग' का खतरा, दो दिन होगी मध्यम से कम बारिश
गुजरात में निसर्ग का खतरा टल गया है

भारतीय मौसम विभाग (IMD) के अनुसार, महाराष्ट्र (Maharashtra) में मुंबई, ठाणे (Thane), रायगढ़ (Raigarh) और पालघर (Palghar) में तूफान के चलते तेज हवाएं चलीं और भारी वर्षा हुई.

  • Share this:
अहमदाबाद. चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ (Cyclone Nisarga) के चलते बुधवार को गुजरात (Gujarat) के दक्षिणी तट पर अभी तक किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है. ‘निसर्ग’ पड़ोसी राज्य महराष्ट्र (Maharashtra) में दस्तक दे चुका है. यह जानकारी एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी. अधिकारी ने बताया कि एहतियाती कदम के तौर पर अभी तक आठ जिलों में तट के पास रहने वाले 63,700 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है.

बताया जा रहा है कि गुजरात से निसर्ग का खतरा लगभग टल गया है. गुजरात में अब मध्यम से कम बारिश रहेगी. दो दिन तक साउथ गुजरात और सौराष्ट्र के कई इलाकों में हल्की बारिश हो सकती है. मौसम विभाग ने निसर्ग तूफान की वजह से तेज हवा और भारी बारिश की चेतावनी जारी की थी. अभी समंदर पहले से शांत हो गया है और बारिश भी रुक-रुक कर हो रही है.

चक्रवाती तूफान दोपहर करीब साढ़े 12 बजे महाराष्ट्र के तटीय रायगढ़ जिले में अलीबाग के पास पहुंचा.



महाराष्ट्र के ये जिले प्रभावित



भारतीय मौसम विभाग के अनुसार, महाराष्ट्र में मुंबई, ठाणे (Thane), रायगढ़ (Raigarh) और पालघर (Palghar) में तूफान के चलते तेज हवाएं चलीं और भारी वर्षा हुई. राज्य के राहत आयुक्त हर्षद पटेल ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘अरब सागर के पास स्थित वलसाड (Valsad) और नवसारी जिलों में हवा की गति सामान्य रही. हालांकि अगले तीन घंटे में हवा की गति बढ़कर 60 से 70 किलोमीटर प्रति घंटे हो सकती है क्योंकि चक्रवात उत्तर पूर्व महाराष्ट्र की ओर बढ़ रहा है.’’



उन्होंने कहा कि अभी तक किसी अप्रिय घटना या किसी मनुष्य को चोट लगने की सूचना नहीं है.

63 हजार से ज्यादा लोगों को सुरक्षित जगहों पर भेजा गया
पटेल ने कहा, ‘‘वलसाड और नवसारी में सुबह से क्रमश: दो मिलीमीटर और सात मिलीमीटर वर्षा हुई है. स्थिति नियंत्रण में है.’’ पटेल ने कहा कि एहतियाती कदम के तौर पर अभी तक आठ जिलों में तट के पास रहने वाले 63,700 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है.

उन्होंने कहा कि इनमें से 33,680 लोगों को वलसाड जिले से निकाला गया है, वहीं 14,400 लोगों को नवसारी में, सूरत में 8,727 लोगों को, भावनगर में 3,066 लोगों को, अमरेली में 2,086 लोगों को, भरूच में 12,020 लोगों को, आणंद में 761 लोगों को और गिर-सोमनाथ में 228 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है.

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की 18 टीमों और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) की छह टीमों को विभिन्न स्थानों पर तैनात किया गया है.



ये भी पढ़ें :-

सरकार ने विदेशी नागरिकों को कुछ श्रेणियों के लिए यात्रा प्रतिबंध में दी छूट

जानें कैसे आता है मानसून और कैसे दक्षिण से उत्‍तर तक करता है झमाझम बारिश?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading