असम में जय श्रीराम नहीं बोलने पर तीन मुस्लिम युवकों की पिटाई

जय श्रीराम नहीं बोलने पर मुस्लिम युवकों की कथित तौर पर पिटाई करने का मामला फिर से सामने आया है.

News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 12:53 PM IST
असम में जय श्रीराम नहीं बोलने पर तीन मुस्लिम युवकों की पिटाई
प्रतीकात्मक तस्वीर
News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 12:53 PM IST
असम के बारपेटा जिले में मुस्लिम युवकों की कथित तौर पर जय श्रीराम नहीं बोलने पर पिटाई करने का मामला सामने आया है. जानकारी के मुताबिक घटना फखरुद्दीन अली अहमद मेडिकल कॉलेज के पास स्थित ज्योति गांव इलाके की है. शुक्रवार तड़के यहां चार बाइक सवार उपद्रवियों ने तीन मुस्लिम युवकों को जय श्रीराम बोलने के लिए मजबूर किया. इस मामले में पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. पुलिस ने उपद्रवियों की बाइक बरामद कर ली है.

झारखंड में हुआ था ऐसा ही मामला
हाल में झारखंड के सरायकेला-खरसावां जिले में मुस्लिम युवक को जयश्रीराम नहीं बोलने पर कुछ लोगों ने जमकर पीट दिया था. इससे उसकी मौत हो गई. मुस्लिम युवक पर बाइक चोरी का आरोप लगाते हुए कुछ लोगों की भीड़ ने पूरी रात उसे पेड़ से बांधकर पिटाई की. इस दौरान उसे कथित तौर पर जय श्रीराम बोलने के लिए कहा गया.

नहीं कहा जय श्री राम तो चलती ट्रेन से दे दिया धक्का

पश्चिम बंगाल के एक मदरसा शिक्षक ने दावा किया था कि जब वह दक्षिण 24 परगना जिले के हुगली में कैनिंग से यात्रा कर रहे थे, तो 'जय श्री राम नहीं' बोलने की वजह से एक समूह ने उन्हें चलती ट्रेन से फेंक दिया.

पश्चिम बंगाल में 'जय श्री राम' बोलने पर बीजेपी कार्यकर्ता की हत्या
हाल में बीजेपी ने दावा किया कि हावड़ा जिले में तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने बीजेपी के एक समर्थक को ‘जय श्रीराम’ बोलने पर मार डाला. पुलिस ने 43 साल के समतुल डोलोई की मौत की पुष्टि की है, जिसका शव अमता थाना क्षेत्र के सरपोता गांव में खेत में मिला. हालांकि, मौत के कारणों पर अधिकारियों ने कुछ भी नहीं कहा.
Loading...

जय श्रीराम न बोलने पर पीटने की कहानी झूठी निकली
कानपुर में हाल ही में आधी रात को एक ऑटो चालक आतिब को कुछ लोगों ने पीट दिया. बाद में कथित तौर पर आतिब ने आरोप लगाया कि उसे 'जय श्रीराम' नहीं बोलने की वजह से पीटा गया था. हालांकि, पुलिस की जांच में दूसरी ही कहानी सामने आई. इस मामले में एसपी साउथ रवीना त्यागी ने बताया, शुरुआती जांच में पता चला है कि पीड़ित और आरोपी एक साथ बैठकर शराब पी रहे थे. उसी दौरान किसी बात को लेकर विवाद हुआ और फिर मारपीट हुई. जय श्रीराम के नारे लगवाने के विरोध में पीटने की बात गलत है. बाकी आरोपों की जांच की जा रही है. हरियाणा के गुरुग्राम में भी ऐसा ही एक मामला झूठा साबित हुआ था.

ये भी पढ़ें-

बंगाल में मदरसा टीचर का आरोप- नहीं कहा जय श्री राम तो चलती ट्रेन से दे दिया धक्का

कानपुर में जय श्रीराम न बोलने पर पीटने की कहानी गुरुग्राम की तरह झूठी साबित हुई

दिल्ली में मौलवी का दावा- जय श्री राम नहीं बोला तो कार से मार दी गई टक्कर

मुस्लिम ने पढ़ी रामायण-गीता तो मुसलमानों ने कर दी पिटाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 7, 2019, 5:30 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...