महबूबा मुफ्ती के बयानों से आहत होकर PDP से इस्तीफा देने वाले नेता कांग्रेस में हुए शामिल

मुफ्ती के बयानों से आहत होकर तीन नेताओं ने पीडीपी से इस्तीफा दे दिया था (PTI)
मुफ्ती के बयानों से आहत होकर तीन नेताओं ने पीडीपी से इस्तीफा दे दिया था (PTI)

Jammu Kashmir News: इन नेताओं ने महबूबा मुफ्ती को लिखे एक पत्र में कहा था कि वह मुफ्ती के कुछ कार्यों और अवांछनीय कथनों से विशेष रूप से असहज महसूस करते हैं, जो देशभक्ति की भावनाओं को चोट पहुंचाते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 9, 2020, 9:26 PM IST
  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती (Former CM Mehbooba Mufti) के बयानों से आहत होकर पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (People's Democratic Party) से इस्तीफा देने वाले तीन नेता कांग्रेस में शामिल हो गए हैं. वेद महाजन,  हुसैन अली वफ्फा और टीएस बाजवा ने कुछ दिन पहले पीडीपी से इस्तीफा दे दिया था. इन नेताओं ने 26 अक्टूबर को महबूबा मुफ्ती द्वारा कही गई बातों से पैदा हुई असहजता के चलते पार्टी को छोड़ दिया था. इन नेताओं ने महबूबा  मुफ्ती को लिखे एक पत्र में कहा था कि वह मुफ्ती के कुछ कार्यों और अवांछनीय कथनों से विशेष रूप से असहज महसूस करते हैं, जो देशभक्ति की भावनाओं को चोट पहुंचाते हैं.

बता दें पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने कहा था कि जब तक जम्मू-कश्मीर को लेकर पिछले साल पांच अगस्त को संविधान में किए गए बदलावों को वापस नहीं ले लिया जाता, तब तक उन्हें चुनाव लड़ने अथवा तिरंगा थामने में कोई दिलचस्पी नहीं है. जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को पिछले वर्ष अगस्त में समाप्त किए जाने के बाद से महबूबा हिरासत में थीं. रिहा होने के बाद पहली बार मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि वह तभी तिरंगा उठाएंगी, जब पूर्व राज्य का झंडा और संविधान बहाल किया जाएगा.





ये भी पढ़ें- महबूबा के फिर विवादित बोल- नौकरी नहीं मिलेगी तो बंदूक उठाएंगे कश्मीर के युवा
मुफ्ती के इसी बयान के बाद इन नेताओं ने पार्टी छोड़ दी थी.

लगातार तीखे हमले कर रही हैं महबूबा मुफ्ती
महबूबा मुफ्ती को कुछ समय पहले ही रिहा किया गया है. मुफ्ती पिछले साल 5 अगस्त को राज्य का विशेष दर्जा वापस लिए जाने और जम्मू कश्मीर को दो केंद्रशासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में बांटे जाने के पहले से ही हिरासत में थीं. हिरासत खत्म होने के बाद से ही महबूबा मुफ्ती लगातार केंद्र सरकार पर तीखे हमले कर रही हैं. पीडीपी प्रमुख राज्य के विशेष दर्जे की वापसी के लिए गुपकार गठबंधन में भी शामिल हुई हैं.

ये भी पढ़ें- 8 पॉइंट में जानिए दिवाली पर पटाखे जलाने को लेकर NGT ने क्या कहा?

नेशनल कांफ्रेंस और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) समेत जम्मू कश्मीर की मुख्य धारा के सात दलों ने जम्मू कश्मीर राज्य के विशेष दर्जे की बहाली और इस मुद्दे पर संबंधित पक्षों के साथ संवाद शुरू करने के लिए 15 अक्टूबर को गुपकर घोषणापत्र गठबंधन बनाया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज