भगवान राम को चुनाव एजेंट समझते हैं मोदी बाबू : ममता बनर्जी

ममता बनर्जी. फाइल फोटो.
ममता बनर्जी. फाइल फोटो.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने लोकसभा चुनाव के मद्देनज़र एक रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान, भाजपा के राम मंदिर और हिंदुत्व व एनआरसी को लेकर कड़े तेवर दिखाए.

  • Share this:
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को लोकसभा चुनाव के मद्देनज़र एक रैली को संबोधित करते हुए भाजपा को आड़े हाथों लेकर राम मंदिर का मुद्दा उठाया और एनआरसी सर्वे की बात छेड़कर कहा कि भाजपा असम के हिंदुओं के साथ सौतेला बर्ताव करती है.

नॉर्थ 24 परगना ज़िले में एक चुनावी रैली में ममता ने कहा कि 'जब भी चुनाव का समय आता है, भाजपा भगवान राम का नारा लगाने लगती है. बाकी समय उसे भगवान राम की याद नहीं आती. पिछले 5 सालों से सरकार में रहने के बावजूद भाजपा मंदिर नहीं बनवा सकी'.

ममता ने ये भी कहा कि भाजपा सरकार ने सरदार वल्लभभाई पटेल की प्रतिमा स्थापित करवाने में 3 हज़ार करोड़ रुपये की रकम खर्च की लेकिन मंदिर नहीं बनवा सकी. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि 'भाजपा ने भगवान राम को चुनाव एजेंट बना लिया है'.



ममता बनर्जी ने आगे कहा कि 'और मोदी बाबू को देखो, जब भी चुनाव आते हैं, वो भगवान राम को एजेंट बनाकर वोट जुगाड़ने का ज़रिया बना लेते हैं. गंगासागर के कपिल मुनि आश्रम के महंत ने मुझे पहली बार ये बताया'.
इसके बाद एनआरसी का मुद्दा उठाकर ममता ने हिंदुओं के साथ भाजपा के बर्ताव पर सवालिया निशान लगाए. उन्होंने कहा कि असम में एनआरसी सर्वे के कारण भाजपा 22 लाख हिंदुओं के साथ अन्याय कर रही है. 'एक तरफ वो राम मंदिर और हिंदुत्व की बातें करते हैं और दूसरी तरफ, असम के हिंदुओं की उन्हें परवाह नहीं है.'

पीएम मोदी के बयान पर भी भड़कीं ममता
रैली को संबोधित करने के दौरान ममता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उस बयान के लिए भी आड़े हाथों लिया जिसमें मोदी ने कहा ​था कि तृणमूल कांग्रेस के 40 विधायकों के साथ उनकी बातचीत चल रही है. ममता ने इस बार कहा कि 'चुनाव का समय है और ऐसे में एक प्रधानमंत्री ऐसी बातें करे, तो ये पद की गरिमा और शोभा के अनुरूप नहीं है'.

टीएमसी की प्रमुख ममता ने खुली चुनौती देते हुए कहा कि 'मैं उन्हें ललकारती हूं कि वो ऐसे एक विधायक का नाम बताएं. टीएमसी को तोड़ देना इतना आसान नहीं है. हम ऐसी धमकियों से डरने वाले नहीं हैं'. गौरतलब है कि इससे पहले हुगली ज़िले के भद्रेश्वर में चुनावी रैली के दौरान भी ममता ने पीएम मोदी के इस बयान पर नाराज़गी जताते हुए कहा था कि पीएम ने संवैधानिक पद और संविधान का मज़ाक उड़ाया है और उन्हें इस पद पर रहने का कोई अधिकार नहीं है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

ये भी पढ़ें:-
साध्वी प्रज्ञा के प्रतिबंध पर दिग्विजय सिंह ने दिया रिएक्शन
बीजेपी की साध्वी प्रज्ञा पर EC ने लगाया तीन दिन का प्रतिबंध
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज