होम /न्यूज /राष्ट्र /

पश्चिम बंगालः पार्टी में 'मेरा आदमी है...' कल्चर तोड़ने की तैयारी में TMC, इमेज चमकाने का ये है प्लान

पश्चिम बंगालः पार्टी में 'मेरा आदमी है...' कल्चर तोड़ने की तैयारी में TMC, इमेज चमकाने का ये है प्लान

टीएमसी अब 'स्वच्छ छवि' पेश करने के लिए हर जिले के लगभग सभी ब्लॉकों में बड़े पैमाने पर फेरबदल कर रही है. (फाइल फोटो)

टीएमसी अब 'स्वच्छ छवि' पेश करने के लिए हर जिले के लगभग सभी ब्लॉकों में बड़े पैमाने पर फेरबदल कर रही है. (फाइल फोटो)

TMC News: टीएमसी अब 'स्वच्छ छवि' पेश करने के लिए हर जिले के लगभग सभी ब्लॉकों में बड़े पैमाने पर फेरबदल कर रही है. पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी पिछले 15 दिनों से हर जिले के नेताओं के साथ बैठक कर रहे हैं.

हाइलाइट्स

दिग्गज नेताओं की गिरफ्तारी से टीएमसी की छवि को झटका
पार्थ चटर्जी और अनुब्रत मंडल की गिरफ्तारी से पार्टी हलकान
अपना काम करो, पार्टी आपको पहचान लेगी- अभिषेक बनर्जी की दो टूक

कोलकाता. पार्थ चटर्जी और अनुब्रत मंडल- तृणमूल कांग्रेस के दोनों दिग्गज नेताओं की गिरफ्तारी ने ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली पार्टी को बड़ा झटका दिया है. इस झटके का असर यह है कि टीएमसी अब ‘स्वच्छ छवि’ पेश करने के लिए हर जिले के लगभग सभी ब्लॉकों में बड़े पैमाने पर फेरबदल कर रही है. हाल के दिनों में पार्टी की छवि को गंभीर नुकसान पहुंचा है. छवि को फिर से चमकाने के लिए पार्टी आंतरिक ‘स्वच्छता अभियान’ पर जुट गई है. पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी पिछले 15 दिनों से हर जिले के नेताओं के साथ बैठक कर रहे हैं. बनर्जी ने अधिकांश उत्तर बंगाल और पश्चिमी जिलों के नेताओं से मुलाकात की है और आने वाले दिनों में वह दक्षिण बंगाल के नेताओं से मुलाकात करेंगे.

टीएमसी सूत्रों का कहना है कि पार्टी पहले ही ब्लॉक-दर-ब्लॉक समीक्षा कर चुकी है और 2023 के पंचायत चुनावों के लिए हर जिले के साथ क्या फेरबदल करें और क्या फेरबदल न करें, इसका चार्ट तैयार करने की कोशिश कर रही है. टीएमसी ने जरूरत के हिसाब से पहले ही कई जिलाध्यक्षों को बदल दिया है और अब, जिला संगठन की प्रत्येक शाखा एक बड़े बदलाव से गुजरेगी. प्रत्येक जिले में नेतृत्व की ‘विशेषताओं’ का जिक्र करते हुए सूत्रों ने News18 को बताया कि पहली प्राथमिकता यह सुनिश्चित करना होगा कि स्वच्छ छवि वाले लोगों को जिलों में पद मिले. टीएमसी की छवि के पुनर्निर्माण के लिए युवा, छात्र, महिला और ट्रेड यूनियन में साफ और विश्वसनीय चेहरों को जगह दी जाएगी.

आदिवासी नेतृत्व को बढ़ाने पर फोकस
पार्टी की दूसरी प्राथमिकता जिले की नई टीमों को समन्वय से चलाने की होगी. गुटबाजी और पैरवी हमेशा से टीएमसी के लिए अभिशाप रही है और अब एक ऐसी व्यवस्था तैयार की जाएगी, जहां जिलाध्यक्ष और अन्य शाखा संगठन समन्वय से काम करेंगे. प्रत्येक ब्लॉक की अपनी टीम होगी, जो समन्वय पर जोर देगी. तीसरा प्राथमिकता आदिवासी नेतृत्व को बढ़ाने की होगी. आदिवासी बहुल क्षेत्रों में जो नेता वास्तव में जनता का प्रतिनिधित्व करते हैं, उन्हें जिम्मेदारी दी जाएगी. अभिषेक बनर्जी ने हाल ही में पार्टी कैडर से कहा था कि नेताओं के साथ लॉबी मत करो, इससे आपको मदद नहीं मिलेगी. आप अपना काम करो और पार्टी आपको पहचान लेगी. उन्होंने कहा था, ‘पार्टी में कहीं भी ‘मेरा आदमी’ है नहीं चलेगा. अगर कोई आकर कहता है कि वह मेरा आदमी है, तो उस पर विश्वास न करें.’

खराब छवि को साफ करने पर फोकस
टीएमसी के लिए अब मुख्य फोकस अपनी खराब छवि को साफ करने पर है. इसमें नेतृत्व स्तर पर बदलाव के साथ-साथ अपने कैडर को पंचायत चुनावों के दौरान हिंसा से दूर रहने के लिए कहना भी शामिल है. पार्टी का यह फेरबदल कितना सफल होगा, यह तो आने वाला समय ही बताएगा.

Tags: Abhishek Banerjee, Mamata banerjee, TMC

अगली ख़बर