वित्त मंत्री सीतारमण के खिलाफ TMC सांसद ने की विवादित टिप्पणी, BJP ने दी कड़ी प्रतिक्रिया

टीएमस सांसद कल्याण बनर्जी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पर विवादित टिप्पणी की थी (फोटो- ट्वीट)
टीएमस सांसद कल्याण बनर्जी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पर विवादित टिप्पणी की थी (फोटो- ट्वीट)

टीएमसी (TMC) सांसद कल्याण बनर्जी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) पर अर्थव्यवस्था को तबाह करने का आरोप लगाया. उन्होंने दावा किया कि निर्मला सीतारमण देश की सबसे खराब वित्त मंत्री हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. पश्चिम बंगाल (West Bengal) में तृणमूल कांग्रेस (TMC) के सांसद कल्याण बनर्जी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) के खिलाफ विवादित बयान दिया.  उन्होंने वित्त मंत्री सीतारमण की तुलना 'जहरीले सांप' से की. बनर्जी ने कहा कि जिस तरह लोग कारी नागिन के डसने से मर जाते हैं, उसी तरह लोग सीतारमण की वजह से मर रहे हैं. बीजेपी ने इस मसले पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है. बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा (Sambit Patra) ने कहा कि टीमएसी नेता कि यह टिप्पणी न केवल नस्लवादी है, बल्कि महिला विरोध भी है.

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा (Sambit Patra) ने कहा, 'टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को 'काला नागिनी' कहा है, जो निंदनीय है. यह टिप्पणी उस राज्य में की गई है जहां हर घर में देवी काली की पूजा की जाती है. ये टिप्पणी न केवल नस्लवादी है, बल्कि महिला विरोधी भी है.'
TMC सासंद ने सीतारमण की थी काली नागिन से तुलनाबता दें कि बंगाल के बांकुडा में शनिवार को टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पर अर्थव्यवस्था को तबाह करने का आरोप लगाया. उन्होंने दावा किया कि निर्मला सीतारमण देश की सबसे खराब वित्त मंत्री हैं. उन्होंने, 'काली नागिन' (विषैला सांप) के काटने से जिस तरह लोगों की मौत हो जाती है उसी तरह निर्मला सीतारमण के कारण लोग मर रहे हैं. उसने अर्थव्यवस्था को नष्ट कर दिया है. उसे शर्म आनी चाहिए और अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए. वह सबसे खराब वित्त मंत्री है.'

ममता का टीएमसी नेताओं पर नहीं नियंत्रण



वहीं, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि राज्य की मुख्यमंत्री और टीएमी अध्यक्ष ममता बनर्जी का अपने नेताओं पर नियत्रंण नहीं रहा है. उन्होंने कहा, 'TMC में भ्रष्टाचार शीर्ष से लेकर निचले स्तर तक फैल गया है. वे लोग अंदरूनी झगड़े में उलझे हुए हैं और उनमें से कई सत्तारूढ़ दल में बने हालात से ध्यान भटकाने की कोशिश कर रहे हैं. घोष ने कहा, ' हम ऐसी टिप्पणियों को अधिक महत्व नहीं देते हैं, वे हताश होकर ऐसी बेतुकी बातें कर रहे हैं.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज